दर्द की आवाज़ जगजीत सिंह

Deeksha Nandini

जगजीत सिंह का जन्म 8 फरवरी 1941 को श्री गंगा नगर बीकानेर राजस्थान में हुआ। उनके पिता सरदार अमर सिंह धमानी और माँ बच्चन कौर पंजाब के रहने वाले थे, पिता सरदार अमर सिंह धमानी केंद्र सरकार के कर्मचारी थे। जगजीत सिंह की प्राथमिक एजुकेशन गंगा नगर बीकानेर खालसा स्कूल में हुई। उसके बाद वह पढ़ाई के लिए जालंधर चले गए। उन्होंने कुरुक्षेत्र विश्वविधालय से पीजी तक शिक्षा ग्रहण की ।

जगजीत सिंह का जन्म | Zeeshan Mohd-RE

जगजीत सिंह का असली नाम सरदार जगमोहन सिंह धमानी था, जब वह मुंबई आये तो उन्होंने आपने नाम बदलकर जगजीत सिंह कर लिया। इस समय उन्होंने अपनी पगड़ी और दाढ़ी भी हटा दी। जगजीत सिंह ने आपने नाम और हुलिए में मौजूदा हालातों को देखतें हुए किये थे। इस दौर में नई पीढ़ी वेस्टर्न म्यूजिक को काफी पसंद कर रही थी

जीत बन गए जगजीत | Zeeshan Mohd-RE

श्री गंगा नगर बीकानेर में रहते हुए जगजीत सिंह ने पंडित छगन लाल शर्मा से शास्त्रीय संगीत की तालीम ली. इसके उन्होंने सैनिया घराने के जमाल खान साहब से संगीत में महारत हासिल की। यहाँ के बाद उन्होंने मुंबई का रुख किया और कई अलग -अलग प्रोग्राम में गाना शुरू किया।

संगीत की शिक्षा | Zeeshan Mohd-RE

साल 1976 में जगजीत सिंह का पहला एल्बम The Unforgatable 1976 रिलीज़ हुआ, एल्बम को HMV म्यूजिक कंपनी ने बनाया था। The Unforgatable एल्बम सुपर हिट होने के बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा। मिर्ज़ा ग़ालिब की अधिकांश ग़ज़लों को उन्होंने आवाज़ दी है।

The Unforgatable 1976 | Zeeshan Mohd-RE

चित्रा और जगजीत सिंह की लव स्टोरी 70 के दशक की सबसे चर्चित कहानी रही। दोनों की मुलाकात साल 1976 में हुई थी, मुलाकात के तीन साल बाद उन्होंने ने चित्रा से वर्ष 1979 में विवाह किया। दोनों का एक पुत्र था जिसका एक सड़क दुर्घटना में निधन हो गया।

चित्रा से विवाह | Zeeshan Mohd-RE

जगजीत सिंह ने अपनी आवाज़ में आम लोगों तक ग़ज़ल को पहुंचाया। उन्होंने ग़ज़ल सुनने वाले वर्ग को बढ़ाया। ग़ज़ल गायकी की उनकी शैली को उस समय के बड़े ग़ज़ल गायकों ने नकारने की कोशिश की, लेकिन सुनने वालो ने जगजीत सिंह को अपना मान लिया तो फिर जगजीत ही ग़ज़ल की आवाज़ बन गए।

ग़ज़ल की आवाज़ | Zeeshan Mohd-RE

गायकी में आला मुकाम हासिल करने वाले जगजीत सिंह को साल 2023 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। पद्म भूषण से पहले भी उन्हें कई सम्मान और पुरस्कार दिए गए। उनका निधन 10 अक्टूबर 2011 को मुंबई में हुआ।

पद्य भूषण से सम्मानित | Zeeshan Mohd-RE

ये Singer एक गाने का चार्ज करते हैं करोड़ों रुपए

एक गाने का करोड़ों रुपए चार्ज करने वाले Singer | Zeeshan Mohd - RE