100 साल से भी अधिक होता है इनका जीवन

gurjeet kaur

बोहेड व्हेल आर्कटिक या उप - आर्कटिक के ठंडे पानी में पाई जाती है। यह व्हेल की सबसे बड़ी नहीं बल्कि सबसे भारी और सबसे अधिक समय तक जीने वाली प्रजाति है। बोहेड व्हेल 200 सालों से भी अधिक समय तक जीवित रह सकती है।

बोहेड व्हेल | Zeeshan Mohd

गैलापागोस कछुआ धरती पर सबसे लम्बे समय तक जीने वाले जीवों की सूची में शामिल एक महत्वपूर्ण जीव है। अब तक सबसे उम्रदराज कछुए की उम्र 175 वर्ष रिकॉर्ड की गई है।

गैलापागोस कछुआ | Zeeshan Mohd

कोइ कॉर्प मछली का उपयोग अधिकतर सजावट के लिए किया जाता है। इसकी औसत आयु 40 से 50 वर्ष होती है लेकिन साल 1977 में जापान में 226 साल की मछली पाए जाने का भी रिकॉर्ड है।

कोइ कॉर्प | Zeeshan Mohd

सबसे लम्बे समय तक जीने वाले जीव के रूप में अंटार्कटिक स्पंज का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज है। इस जीव का आवास अंटार्कटिका महाद्वीप की ठंडे ध्रुवीय जलवायु में है। एक अनुमान के अनुसार अंटार्कटिक स्पंज 5000 से 15000 सालों तक जीवित रहता है।

अंटार्कटिक स्पंज | Zeeshan Mohd

ग्रीनलैंड शार्क आर्कटिक समुद्र के ठंडे पानी में पाई जाती है। ये शार्क की एकमात्र प्रजाति है जो 7 से माइनस 22 डिग्री तक की आर्कटिक जलवायु को सहन कर सकती हैं। ये शार्क 150 से 200 साल तक जीवित रहती है।

ग्रीनलैंड शार्क | Zeeshan Mohd

तुर्रिटोप्‍स‍िस डोहर्नी, जेलीफ़िश की एक प्रजाति है। जीवविज्ञानियों के अनुसार, जेलिफ़िश लगभग सभी जीवित प्राणियों की तरह बूढ़ी नहीं होती और मरती भी नहीं है। वे बस एक निश्चित उम्र तक जीवित रहती है और फिर युवा होने लगती है।

तुर्रिटोप्‍स‍िस डोहर्नी | Zeeshan Mohd

मैक्सिको की खाड़ी में पाई जाने वाली ट्यूब वर्म की प्रजाति 200 सालों तक जीवित रह सकती है। ये प्रजाति गहरे समुद्र के ठंडे पानी में पाई जाती है। रिकॉर्ड के अनुसार ये 300 साल तक भी जीवित रह सकती हैं।

ट्यूब वर्म | Zeeshan Mohd

रफआई रॉक मछली प्रशांत महासागर के कैलिफोर्निया से जापान तक विस्तारित समुद्र में पाई जाती है। कुछ साइंस रिपोर्ट में इसके 205 साल तक जीने के रिकॉर्ड हैं।

रफआई रॉक फिश | Zeeshan Mohd

भारतीय नागरिक को दिए जाते है ये दस पुरस्कार

भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार | Zeeshan Mohd