यह चीजें बन सकती हैं घबराहट और बैचेनी का कारण

Kavita Singh Rathore

कैफीन एक प्रकार का स्टिमूलेन्ट है। जो कॉफी, चाय, एनर्जी ड्रिंक और सोडा में होता है। इसके सेवन से हार्ट रेट बढ़ जाते हैं और कैसे ही हार्ट रेट बढ़ता है बेचैनी और घबराहट होने लगती है। इसलिए इससे बचें।

कैफीन | Syed Dabeer Hussain - RE

अल्कोहल को डिप्रेसेंट के तौर पर देखा जाता है। जिसे पिने से शुरुआत में जरूर रिलैक्स लगता है, लेकिन आगे चक्यलर ये आपको नुकसान ही करता है। इससे आपकी नींद ख़राब होना और एंग्जायटी जैसी समस्या हो सकती है।

अल्कोहल | Syed Dabeer Hussain - RE

फास्टफूड में टेस्ट बढ़ाने के लिए एसी चीजें इस्तेमाल होती है, जिनमें अनहेल्दी फैट्स, आर्टिफिशियल एडिटिव्स और प्रीजर्वेटिव पाए जाते हैं। यह आपके मूड और हेल्थ को नुकसान पहुंचाता हैं।

फास्टफूड | Syed Dabeer Hussain - RE

आपको मीठे खाद्य पदार्थ नहीं खाने चाहिए। क्योंकि, कैंडी, पेस्ट्री और अन्य मीठे फूड्स में रिफाइन शुगर ज्यादा मात्रा में मोजूद होता है। इससे ब्लड शुगर लेवल में बढ़त और गिरावट दर्ज हो सकती है।

मीठे खाद्य पदार्थ | Syed Dabeer Hussain - RE

तले या चिकने भोजन में हाई फेट होता है। जिससे इनडायजेशन हो सकता है। जो डिसकम्फर्ट का कारण बन सकता है। आप डिसकम्फर्ट जोन में जाते ही बैचेनी सी महसूस करने लगते हैं।

तला या चिकना भोजन | Syed Dabeer Hussain - RE

ऐसे पदार्थ जिनमें प्रोसेस्ट कार्बोहाइड्रेट हो। उन्हें खाने से ब्लड शुगर लेवल तेजी से बढ़ता या घटता है, जिससे एंग्जायटी होने लगती हैं। इसलिए इसे भी एक सही लिमिट में लेना चाहिए।

प्रोसेस्ट कार्बोहाइड्रेट | Syed Dabeer Hussain - RE

मसालेदार भोजन आपकी बॉडी में अंदरूनी समस्या पैदा कर सकता है। साथ ही इस इनडायजेशन भी हो सकता हैं। यह सब एंजायटी और बेचैनी के कारण है।

मसालेदार भोजन | Syed Dabeer Hussain - RE

नमक की ज्यादा मात्रा मतलब ज्यादा सोडियम और ज्यादा सोडियम का सीधा संबंध डाइट ब्लड प्रेशर बढ़ने से हैं। ऐसा होने से आप स्ट्रेस और एंग्जायटी के शिकार हो सकते है। इसलिए खाने में नमक की सही मात्रा का इस्तेमाल करें।

नमक की ज्यादा मात्रा | Syed Dabeer Hussain - RE

शायद परिणीति की शादी में न दिखें ये सेलिब्रिटी