इस तारीख से चलेंगी देशभर में 200 से अधिक स्पेशल ट्रेनें

यदि आप घर से कहीं दूर हैं तो, यह खबर हो सकती है आपके काम की। क्योंकि, त्योहारी सीजन को ध्यान में रखते हुए रेलवे बोर्ड ने देश में 200 से अधिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन शुरू करने का ऐलान किया है।
इस तारीख से चलेंगी देशभर में 200 से अधिक स्पेशल ट्रेनें
200 special trains will run from October 5 Social Media

राज एक्सप्रेस। भारत में तेजी से फैल रही कोरोना महामारी पर काबू पाना नामुमकिन सा होता नजर आ रहा है। ऐसे में देश में काफी समय तक रहे लॉकडाउन से देश में आई आर्थिक मंदी अभी भी लोगों की परेशानी का कारण बनी हुई है। हालांकि, अब लगभग सभी सेवाएं फिर से शुरू कर दी गई हैं, परन्तु इसके बाद भी कई रेल सेवाएं शुरू नहीं की गई थी, अब त्योहारी सीजन को ध्यान में रखते हुए रेलवे बोर्ड ने देश में अन्य 200 से अधिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन शुरू करने का ऐलान किया हैं।

कब से चलेंगी ट्रेनें :

भारत में मार्च के आखरी सप्ताह से ही सम्पूर्ण लॉकडाउन के चलते सभी रेल यात्राएं ठप्प पड़ी थीं। हालांकि जरूरतों को देखते हुए सरकार ने धीरे-धीरे पहले कई स्पेशल ट्रेनें चलाईं थीं। इसके बाद 12 सितंबर से 80 नई स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं। वहीं, अब भारतीय रेलवे ने त्योहारी सीजन को देखते हुए देश में 15 अक्टूबर से 200 से भी अधिक कई विशेष ट्रेनें चलने का फैसला किया है। यह ट्रेनें 15 अक्‍टूबर से 30 नवंबर के बीच चलाई जाएंगी। इस बारे में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन और सीईओ वीके यादव ने जानकारी दी।

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने बताया :

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन और सीईओ वीके यादव ने एक्‍स्‍ट्रा ट्रेनें चलाने को लेकर एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान जानकारी देते हुए बताया कि, "हमने विभिन्न जोनल प्रबंधकों से बात की और उनसे पूछे कि फेस्टिव सीजन में लोगों को असुविधा से बचाने के लिए कितनी ट्रेनों की जरूरत है तो, हमारे सामने करीब 200 का आंकड़ा आया। इसी आधार पर हम त्‍योहारी सीजन में इससे कहीं अधिक ट्रेनें चलाने का फैसला कर चुके हैं।"

कैसे तय की जाती हैं क्लोन ट्रेन ?

बता दें, रेलवे द्वारा दशहरा, दिवाली और छठ पूजा का त्योहार आ रहे हैं, इन त्योहारों पर हर कोई अपने परिवार के साथ रहना पसंद करता है। अब ऐसे में अपने घरों से दूर रह रहे लोगों को ध्यान में रखते हुए रेलवे 15 अक्‍टूबर से 30 नवंबर के बीच 200 से अधिक क्लोन ट्रेनों का परिचालन शुरू करेगी। बताते चलें, इन ट्रेनों की गिनती रूट्स के हिसाब से कुछ इस प्रकार तय की जाती है।

मान लों, यदि कही पर वेटिंग लिस्ट 3-4 दिन से भी ज्यादा लंबी हो रही होती है तो, वहीं एक क्लोन ट्रेन चला दी जाती है। यदि यह क्लोन ट्रेन में भी सीट फुल होजाती हैं तो, वहां एक और क्लोन ट्रेन चला दी जाती है। बताते चलें, क्लोन ट्रेन की एवरेज ऑक्युपेंसी 60% होती है और यह अन्य सामान्य ट्रेनों की तुलना में तेज गति से चलती हैं। साथ ही इनके स्टॉप कम रखे जाते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co