हुरुन इंडिया वेल्थ रिपोर्ट से पता चला मध्यवर्ग और करोड़पति भारतीयों का आंकड़ा
Hurun India Wealth Report 2020Syed Dabeer Hussain - RE

हुरुन इंडिया वेल्थ रिपोर्ट से पता चला मध्यवर्ग और करोड़पति भारतीयों का आंकड़ा

हुरुन इंडिया वेल्थ रिपोर्ट-2020 के आंकड़े जारी किए जा चुके है। इस रिपोर्ट से भारत के नए मध्य वर्ग के भारतीयों की पहचान सामने आई है।

Hurun India Wealth Report 2020 : भारत जैसे देश में जहां अरबपतियों की कमी नहीं है। वहीं, देशभर में ‘नए मध्यवर्ग’ वाले भारतीयों की भी कमी नहीं है। वहीं, अब भारत के नए मध्य वर्ग के भारतीयों की पहचान सामने आई है। क्योंकि, हुरुन इंडिया वेल्थ रिपोर्ट-2020 के आंकड़े जारी किए जा चुके हैं। बता दें, हुरुन इंडिया वेल्थ रिपोर्ट हर साल जारी की जाती है।

हुरुन इंडिया वेल्थ रिपोर्ट-2020 के ताजा आंकड़े :

दरअसल, हुरुन इंडिया वेल्थ रिपोर्ट-2020 के ताजा आंकड़े सामने आ चुके हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक, भारत में नए मध्यवर्ग का आंकड़ा 6.33 लाख पर पहुंच गया है। बता दें, इस वर्ग में ऐसे लोगों को शामिल किया गया है, जो सालाना औसत 20 लाख रुपये की बचत करते हैं। इसके अलावा ये अपनी संपत्ति का अधिकांश हिस्सा जमीन, मकान और गाड़ियों पर खर्च करते हैं। इस मामले को लेकर इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 'देश में 4.12 लाख ऐसे लोग भी हैं, जिनकी कुल संपत्ति कम-से-कम 7 करोड़ रुपये है। इनमें डॉलर में कमाई करने वाले करोड़पति भी शामिल हैं।'

ताजा आंकड़ों के अनुसार :

हुरुन इंडिया वेल्थ रिपोर्ट-2020 से सामने आए ताजा आंकड़ों के अनुसार, देश में 1,000 करोड़ की संपत्ति वालों की संख्या कुल 3,000 है। जबकि, मध्य वर्ग में शामिल होने वाले लोगों की सालाना आय 2.5 लाख रुपये है, यानी इस वर्ग में 2.5 लाख रुपये कमाने वाले परिवारों को रखा गया है। इसकी संख्या 5.64 करोड़ है। इनकी कुल संपत्ति 7 करोड़ रुपये से कम है।

दो तरह से कमाई करने वालों की सबसे है ज्यादा :

हुरुन इंडिया वेल्थ रिपोर्ट-2020 से एक हैरान कर देने वाली बात और सामने आई है कि, भारत में दो तरह से कमाई करने वाले लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है। इसके अलावा इसी रिपोर्ट से यह बात भी सामने आई है कि, भारत अति धनवानों के मामले में चौथे स्थान पर है। सभी आय वर्ग के लोगों को मुख्य रूप से दो हिस्सों में बांट दिया गया है। जिसमें से -

  • पहले हिस्से में कम कमाई वाला वर्ग रखा गया है, जिसकी ज्यादातर आय नौकरी, बैंक एफडी, रियल एस्टेट और शेयर बाजार में निवेश पर निर्भर है।

  • दूसरे हिस्से में ज्यादा कमाने वाला वर्ग रखा गया है, जिसकी आय का मुख्य जरिया रियल एस्टेट में बड़े स्तर पर निवेश, कारोबार और घरेलू एवं विदेशी शेयर बाजार में निवेश है।

भारत में कुल करोड़पति :

हुरुन द्वारा जारी की गई ताजा रिपोर्ट के अनुसार, भारत में कुल 9.12 लाख करोड़पति लोग हैं। यह संख्या दुनिया के कुल 5.19 करोड़ करोड़पतियों के मुकाबले महज 2% है। जबकि बहुत ज्यादा धनवान लोगों की संख्या के मामले में पहला स्थान अमेरिका, दूसरा स्थान चीन, तीसरा स्थान जर्मनी और चौथा स्थान भारत को प्राप्त हुआ है। इस लिस्ट के मुताबिक, देश में कुल 4,593 अति धनवान हैं। इसके अलावा भारत के अन्दर 10 राज्यों में 70.3% करोड़पति रहते हैं। इनमें से इन राज्यों में करोड़पतियों की संख्या इतनी है।

  • महाराष्ट्र में करोड़पतियों की संख्या 56,000

  • उत्तर प्रदेश में करोड़पतियों की संख्या 36,000

  • तमिलनाडु में करोड़पतियों की संख्या 35,000

  • कर्नाटक में करोड़पतियों की संख्या 33,000

  • गुजरात में करोड़पतियों की संख्या 29,000

  • पश्चिम बंगाल में करोड़पतियों की संख्या 24,000

  • राजस्थान में करोड़पतियों की संख्या 21,000

  • आंध्र प्रदेश में करोड़पतियों की संख्या 20,000

  • मध्य प्रदेश में करोड़पतियों की संख्या 18,000

  • तेलंगाना में करोड़पतियों की संख्या 18,000

भारत में शहरों के हिसाब से करोड़पतियों की संख्या :

  • मुंबई में करोड़पतियों की संख्या 16,933

  • दिल्ली में करोड़पतियों की संख्या 16,000

  • कोलकाता में करोड़पतियों की संख्या 10,000

  • बंगलूरू में करोड़पतियों की संख्या 7,582

  • चेन्नई में करोड़पतियों की संख्या 4,685

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co