माई ने की सिनेमाघर फिर खोलने की अपील।
माई ने की सिनेमाघर फिर खोलने की अपील।|Syed Dabeer Hussain - RE
व्यापार

मल्टीप्लेक्स सेक्टर को 9 हजार करोड़ का नुकसान, MAI ने की यह अपील

"मॉल, एयरलाइंस, रेलवे, रिटेल, रेस्तरां, जिम और ऐसी कई सेवाएं पहले ही 'अनलॉक इंडिया' के हिस्से के रूप में फिर से शुरू हो चुकी हैं।"

Neelesh Singh Thakur

हाइलाइट्स –

मल्टीप्लेक्स सेक्टर घाटे में

लाखों रोजगार का संकट गहराया

माई ने की सिनेमाघर फिर खोलने की अपील

राज एक्सप्रेस। मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (MAI) ने मार्च से घाटे में चल रहे 9000 करोड़ रुपये का हवाला देते हुए सिनेमाघरों को फिर से खोलने का आग्रह किया है।

रोजगार का हवाला-

पीवीआर (PVR), आईएनओएक्स (INOX) और सिनेपोलिस (Cinepolis) सहित सभी मल्टीप्लेक्स श्रृंखलाओं का प्रतिनिधित्व करने वाली सिनेमा बॉडी ने मुद्दे पर कई तर्क रखे हैं।

एसोसिएशन का कहना है कि; सेक्टर प्रत्यक्ष रूप से दो लाख से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान कर रहा है जबकि लाखों लोग इससे अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार प्राप्त करते हैं।

नुकसान का हवाला-

सरकार से सिनेमाघरों को "तत्काल आधार पर" खोलने की अनुमति देने की अपील करते हुए, मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने मंगलवार को कहा कि लाखों लोगों को रोजगार प्रदान करने वाले फिल्म प्रदर्शनी क्षेत्र को पिछले छह महीनों में अनुमानित 9,000 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचा है।

इतने सिनेमाघर बंद-

लाखों भारतीयों के लिए सिनेमा को "भारत की नरम शक्ति" और सिनेमा को मनोरंजन का मुख्य रूप बताते हुए, एसोसिएशन ने कहा कि देश भर में करीब 10,000 सिनेमा स्क्रीन छह महीने से बंद हैं।

इस वजह से फिल्म प्रदर्शनी क्षेत्र को आर्थिक रूप से नुकसान उठाना पड़ा। जबकि अब सेक्टर से जुड़े वर्ग की नौकरी पर बन आई है। जब तक सरकार सिनेमाघरों को फिर से खोलने की अनुमति नहीं देती है तब तक यह समस्या न केवल बरकरार रहेगी बल्कि बलवती होती जाएगी।

# UnlockCinemaSaveJobs-

हैशटैग अनलॉकसिनेमासेवजॉब्स (#UnlockCinemaSaveJobs) के साथ यह अपील की गई है। यह अपील कुछ अखबारों में पूर्ण-पृष्ठ विज्ञापनों के रूप में प्रकाशित हुई। जबकि ट्विटर पर पोस्ट की गई अपील कुछ इस तरह है-

देशव्यापी तालाबंदी के कारण, सिनेमा प्रदर्शनी उद्योग बेहद प्रतिकूल स्थिति में जा पहुंचा है; लॉकडाउन में बंद होने वाला यह पहला क्षेत्र था जबकि अनलॉक पीरियड में खुलने वाला अंतिम क्षेत्र रहेगा।

"हमारे क्षेत्र (मल्टीप्लेक्स) में महामारी के भयानक आर्थिक प्रभाव और लोगों की आजीविका को देखते हुए, हम ईमानदारी के साथ भारत सरकार से तत्काल आधार पर सिनेमाघरों को फिर से खोलने की अनुमति देने का आग्रह करते हैं।"

15 सौ करोड़ प्रतिमाह-

बयान में कहा गया है कि पिछले छह महीनों में इस क्षेत्र को 1,500 करोड़ रुपये का मासिक नुकसान हुआ है, जिसकी कुल राशि 9,000 करोड़ रुपये है।

84 देशों का हवाला-

मल्टीप्लेक्स बॉडी के मुताबिक चीन, कोरिया, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, स्पेन, यूएई और अमेरिका सहित 84 से अधिक देशों ने पहले से ही सुरक्षा प्रोटोकॉल के उच्चतम स्तर को बनाए रखते हुए जनता के लिए सिनेमाघरों को खोल दिया है। इस निर्णय पर लोगों की उत्साहजनक प्रतिक्रिया भी देखने को मिली है।

खुल गए रेस्तरां, खुल गए जिम-

फिल्म निकाय ने कहा कि मॉल, एयरलाइंस, रेलवे, रिटेल, रेस्तरां, जिम और ऐसी कई सेवाएं पहले ही 'अनलॉक इंडिया' के हिस्से के रूप में फिर से शुरू हो चुकी हैं। अनलॉकिंग के चौथे चरण में बार और मेट्रो सेवाएं भी खुल गईं।

एसोसिएशन ने जुलाई महीने में पेपरलेस टिकट, सीट डिस्टेंसिंग, इंटरवल, विनियमित प्रवेश और निकास एवं सिनेमाघरों में आने एक सुरक्षित स्थान बनाने के लिए नियमित सेनिटाइजेशन के तरीके पेश किए ताकि सिनेमाघरों को महामारी के संदर्भ में सुरक्षित बनाया जा सके।

एसोसिएशन ने यह भी दोहराया कि मल्टीप्लेक्स भीड़ प्रबंधन सुनिश्चित करने के लिए अब बेहतर क्षमताओं से सुसज्जित है। भारत में सबसे बड़ी सिनेमा श्रृंखला पीवीआर पिक्चर्स ने सिनेमाघरों में खुश होकर फिल्में देखने के संदेश के साथ कुछ इस तरह की अपील की-

कहानियों को देखने का आनंद बड़े पर्दे पर सामने आता है: ताली, हंसी और आंसू। हम इसे याद करते हैं। आप फिल्मों में वापस आने के लिए इंतजार नहीं कर सकते!" श्रृंखला ने अपील को #UnlockCinemaSaveJobs शीर्षक दिया।

अनुराग का माई को समर्थन-

आईनॉक्स लीजर लिमिटेड ने अपील साझा करते हुए कहा- “लाखों लोग पर्दे के पीछे काम करते हैं, सपने बड़े पर्दे पर जीवंत हो जाते हैं। उनकी नौकरियां दांव पर हैं। कृपया तुरंत सिनेमाघरों को फिर से खोलें।”

फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप ने भी ट्विटर पर मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (MAI-माई) की अपील का समर्थन किया

डिस्क्लेमर आर्टिकल प्रचलित रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co