Raj Express
www.rajexpress.co
Adani Wilmar Limited TBHQ sample failed
Adani Wilmar Limited TBHQ sample failed|Social Media
व्यापार

अडानी विलमार लिमिटेड कंपनी के प्लांट पर छापा, TBHQ सैंपल हुआ फेल

खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा अडानी विलमार लिमिटेड कंपनी के एक प्लांट पर छापा मारा गया। साथ ही TBHQ के एक सैंपल की जांच की गई। जांच में यह सैंपल खाद्य सुरक्षा मानक मापदंडों में फेल साबित हुआ।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • अडानी विलमार लिमिटेड कंपनी का सैंपल हुआ फेल

  • कंपनी का TBHQ का सैंपल खाद्य सुरक्षा मानक मापदंडों में फेल साबित हुआ

  • सैंपल की जांच भोपाल की लैब में हुई

  • TBHQ तेल के इस्तेमाल की समय अवधि को 4 महीने बढ़ा सकता है

राज एक्सप्रेस। फार्च्यून का सोयाबीन तेल आज कल लगभग सभी घरों में इस्तेमाल किया जाता है। कई घरों में तो 15 लीटर की कैन खरीद ली जाती है जिससे वो काफी समय तक चलती रहे, तो हम आपको बता दें कि, तेल का इस्तेमाल ज्यादा दिन तक किया जा सके उसके लिए कंपनियां उसमे कैमिकल मिलती हैं। ऐसा ही एक कैमिकल भोपाल लेब में फेल हो गया। अडानी विलमार लिमिटेड एक बड़ा समूह है। जो कई तरह के कैमिकल बनाती है। हाल ही खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा छापेमारी करने पर कंपनी का सैंपल फेल होने की बात सामने आई है।

क्या था मामला :

दरअसल, 26 दिसंबर 2019 को खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा अडानी विलमार लिमिटेड के नीमच हाईवे स्थित प्लांट पर छापा मारा गया था। जहां से प्रशासन के दल ने "टेरशरी ब्यूटाइल हाइड्रो क्यूनोन" (TBHQ) का सैंपल लिया था और उसकी जांच कराने के लिए उस सैंपल को भोपाल लैब भेज दिया था। भोपाल की लैब में जांच होने पर TBHQ सैंपल फेल हो गया। जिसके चलते प्रशासन द्वारा कंपनी के डायरेक्टर और माल भेजने वाले के खिलाफ खाद्य सुरक्षा मानक का उल्लंघन करने के आरोप में केस दर्ज कर लिया गया है।

फार्च्यून के सैंपल :

26 दिसंबर को प्रशासन की टीम द्वारा अडानी विलमार ग्रुप के प्लांट से जांच हेतु फार्च्यून सोयाबीन रिफाइंड ऑइल पैक, फार्च्यून बेसन पैक और टीबीएचक्यू पैक के सैंपल लिए गए थे। इस निरीक्षण के दौरान यहाँ कंपनी के मैनेजर शिवकुमार शाक्य भी उपस्थित थे। प्रशासन द्वारा कंपनी का 6.34 लाख रुपए का 748 किलोग्राम TBHQ प्लांट सहित सील कर दिया गया।

सैंपल की रिपोर्ट :

खाद्य सुरक्षा प्रशासन द्वारा जब TBHQ सैंपल की रिपोर्ट सामने लाई गई तब पता चला कि, सोयाबीन तेल में TBHQ मिलाया जा रहा है जो, खाद्य सुरक्षा मानकों के खिलाफ है। हालांकि, यह इस कंपनी से जुड़ा सैंपल फेल होने का पहला ही मामला है। इतना ही नहीं कंपनी ने अधिक पुराने तेल में से कैमिकल की गंध को मिलाने के लिए एंटी ऑक्सीडेंट के रूप में TBHQ इस्तेमाल किया था।

जांच में इस बात का खुलासा भी हुआ कि, अडानी विलमार ने यह TBHQ का यह स्टॉक गुजरात की माइल स्टोन प्रीजर्ववेटेप प्राइवेट लिमिटेड से लिया था। एक चौंका देने वाली बात यह भी सामने आई है, कि जिस जगह से यह सैंपल लिया गया वहां तार, कील जैसे पार्ट्स भी पड़े मिले। जबकि, खाद्य पदार्थ तैयार करने वाली जगह यह सब होना नियमों के खिलाफ है।

क्या है TBHQ :

टेरशरी ब्यूटाइल हाइड्रो क्यूनोन (TBHQ) एक तरह का केमिकल है। जिसका इस्तेमाल सोयाबीन तेल के निर्माण के समय तेल की उपयोग अवधि को बढ़ाने के लिए किया जाता है। इसको इस्तेमाल करके तेल की समय अवधि को निश्चित उपयोग अवधि से 4 महीने तक अधिक बढ़ाया जा सकता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।