हैरान कर देने वाले रहे Adani wilmar के 31 मार्च को खत्म तिमाही के नतीजे
हैरान कर देने वाले रहे Adani wilmar के 31 मार्च को खत्म तिमाही के नतीजेSyed Dabeer Hussain - RE

हैरान कर देने वाले रहे Adani wilmar के 31 मार्च को खत्म तिमाही के नतीजे

गौतम अडानी के अडानी ग्रुप की एक कंपनी अडानी विल्मर (Adani wilmar) ने पिछले दिनों इतिहास तक रच दिया था, लेकिन इसके बावजूद भी Adani wilmar के 31 मार्च को खत्म तिमाही के नतीजे हैरान कर देने वाले थे।

Adani wilmar Results : बीते कुछ महीनों से गौतम अडानी और उनकी कंपनियों का नाम काफी चर्चा में बना रहा है। क्योंकि, अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में पिछले दिनों काफी बढ़त दर्ज हुई है और यह सिलसिला अब भी जारी नजर आरहा है। हालांकि, शेयर मार्केट में भी काफी उठापटक देखने को मिल रही है। इन सब के चलते कुछ कंपनियों को काफी मुनाफा देखने को मिल रहा है तो कुछ को घाटा। शेयर मार्केट में हो रहे इस बड़े फेरबदल के चलते गौतम अडानी के अडानी ग्रुप की एक कंपनी अडानी विल्मर (Adani wilmar) ने पिछले दिनों इतिहास तक रच दिया था, लेकिन इसके बावजूद भी जब Adani wilmar के 31 मार्च को खत्म तिमाही के नतीजे सामने आये तो वह हैरान कर देने वाले थे।

Adani wilmar के खत्म हुई तिमाही के आंकड़े :

ऊपर लिखी लाइन पढ़कर शायद आप समझ नहीं पा रहे होंगे कि, नतीजों से हैरानी क्यों होगी। दरअसल, ऐसा इसलिए क्योंकि, पिछले कुछ समय से अडानी ग्रुप की कंपनी अडानी विल्मर (Adani wilmar) काफी समय से सिर्फ अपने शेयर को लेकर चर्चा में रहे है। क्योंकि, कंपनी के शेयरों में बीते कुछ समय में काफी उछाल देखने को मिला है। उसके बाद भी अब जब Adani wilmar ने 31 मार्च को खत्म तिमाही के परिणाम जारी किए तो, कंपनी का नेट प्रॉफिट 25.62% घटा हुआ गई पाया गया। इस प्रकार, बैंक का नेट प्रॉफिट 234.29 करोड़ रुपए रहा। जबकि, पिछले साल की समान अवधि में यही नेट प्रॉफिट 315 करोड़ रुपए था।

Adani wilmar के शेयर :

बताते चलें, Adani wilmar के नेट प्रॉफिट में भले कमी दर्ज हुई हो, लेकिन ऑपरेशनल रेवेन्यू में बढ़त दर्ज हुई है जो कि, 40.18% की रही। इस प्रकार कंपनी का ऑपरेशनल रेवेन्यू बढ़कर 14,960.37 करोड़ रुपए रहा। जो कि, पिछले साल की सामान अवधि में 10,672.34 करोड़ रुपए था। याद दिला दें, कंपनी को ये नुमाफा अपना IPO लांच होने और शेयर लिस्ट होने के बाद से शुरु हुआ है। जो कि, फरवरी 2022 में लिस्ट हुए थे। इस मामले में निवेशकों का मानना ​​है कि, 'खाद्य तेल की कीमतों में बढ़ोतरी से कंपनी को फायदा होगा। कंपनी के शेयर ने लिस्ट होने के बाद से करीब 180% का रिटर्न दिया है।

कंपनी का सेल्स वॉल्यूम :

कंपनी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, 'मार्च तिमाही में कंपनी का ओवरऑल सेल्स वॉल्यूम (Overall Sales Volume) 1.29 मिलियन मीट्रिक टन (MMT) रहा। जबकि, पिछली तिमाही से तुलना की जाए तो यह आंकड़ा 16% ज्यादा ही है। कंपनी का फूड एंड FMCG वर्टिकल सेल वॉल्यूम QoQ 33% की बढ़ोतरी के साथ 0.18 MMT रहा। कंपनी ने बताया है कि, 'रूस-यूक्रेन जंग के कारण सनफ्लावर ऑयल की खपत में 50% की कमी आई है। भारत ने अब अर्जेंटीना, रूस और तुर्की जैसे देशों से सनफ्लावर ऑयल का आयात करना शुरू किया है।'

CEO का कहना :

Adani wilmar के मैनेजिंग डायरेक्टर और CEO अंगशु मलिक का कहना है कि, 'फूड और FMCG सेगमेंट ने डबल डिजिट ग्रोथ दर्ज की। हमने एडिबल ऑयल और फूड कैटेगरीज में अपनी बाजार हिस्सेदारी में सुधार करना जारी रखा है। हम अपने ब्रांड, डिस्ट्रीब्यूशन, सोर्सिंग और मैन्युफैक्चरिंग कैपेबिलिटीज में निवेश करना जारी रखेंगे। आगे हम फूड स्पेस में इनऑर्गेनिक ग्रोथ और स्टैटजिक इन्वेस्टमेंट पर ज्यादा फोकस करेंगे।'

Adani wilmar का IPO :

जानकारी के लिए बता दें, Adani wilmar का तीन दिवसीय IPO इसी साल 27 जनवरी को लॉन्च हुआ था और इसके शेयरों की लिस्टिंग 8 फरवरी 2022 को हुई थी। कंपनी का इश्यू प्राइस 218 से 230 रूपये था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.