एडिडास एजी कर रही अपने मुख्य ब्रांड रीबॉक को बेचने का विचार

जर्मनी की जानी मानी स्पोर्ट्स वियर कंपनी एडिडास एजी (Adidas AG) अपने मुख्य ब्रांड रीबॉक को बेचने का विचार कर रही है। हालांकि, इस मामले में अभी कंपनी ने आखिरी फैसला नहीं लिया है।
एडिडास एजी कर रही अपने मुख्य ब्रांड रीबॉक को बेचने का विचार
Adidas AG is considering selling ReebokSyed Dabeer Hussain - RE

राज एक्सप्रेस। कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन का बुरा प्रभाव न केवल भारत की कंपनियों पर पड़ा है बल्कि भारत के बाहर भी कई देशों पर पड़ा है। इस नुकसान के को कम करने के लिए कंपनियां कोई न कोई उपाय खोजने में लगी हैं। इसी राह में जर्मनी की जानी मानी स्पोर्ट्स वियर कंपनी एडिडास एजी (Adidas AG) अपने मुख्य ब्रांड रीबॉक को बेचने को लेकर विचार कर रही है। हालांकि, इस मामले में अभी कंपनी ने आखिरी फैसला नहीं लिया है।

एडिडास का फैसला :

दरअसल, एडिडास एजी कंपनी फिलहाल रीबॉक को बेचने का विचार कर रही है, लेकिन अभी बेचने को लेकर कोई खबर सामने नहीं आई है। कुछ ही महीनों में कंपनी साफ़ कर देगी कि कंपनी का क्या फैसला है। वहीं यदि खबरों की मानें तो, रीबॉक को बेचने के लिए अभी इंटरनल रिव्यू पहली स्टेज पर ही हैं। हालांकि, यह खबर शेयर मार्केट के लिए काफी फायदेमंद साबित हुई है। क्योंकि, आज रीबॉक के शेयरों में 3.4% तक की बढ़त दर्ज की गई है।

दूसरी तिमाही में कंपनी को हुआ घाटा :

बताते चलें, कोरोना के चलते एडिडास की तुलना में रीबॉक ब्रांड को ज्यादा घाटा उठाना पड़ा है। क्योंकि, कंपनी को दूसरी तिमाही में जर्मनी स्तर पर रीबॉक की बिक्री में 33% की गिरावट दर्ज की गई है। जबकि रेवेन्यू में 42% की गिरावट आई। यदि एक मैगजीन की मानें तो, रीबॉक को खरीदने की इच्छा टिम्बरलैंड और नॉर्थ फेस ब्रांड की पैरेंट कंपनी वीएफ कॉर्प और चीन की एंट इंटरनेशनल ग्रुप होल्डिंग्स ने जताई है।

एडिडास की प्रवक्ता ने बताया :

जर्मन कंपनी एडिडास ने रीबॉक को साल 2006 में खरीदा था। यह डील 3.8 बिलियन डॉलर में तय हुई थी। बता दें, एडिडास की प्रवक्ता की जानकारी के अनुसार, कंपनी फिलहाल बाजार की अटकलों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देना चाहती है क्योंकि, साल 2016 में भी इस तरह की खबरें सामने आई थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co