जल्द हो जाएंगी Air Asia India और Air India कंपनियां एक, चल रही विलय की बात
जल्द हो जाएंगी Air Asia India और Air India कंपनियां एक, चल रही विलय की बातSocial Media

जल्द हो जाएंगी Air Asia India और Air India कंपनियां एक, चल रही विलय की बात

टाटा ग्रुप की कंपनी टाटा संस ने Air India और Air Asia India एयरलाइन का विलय करने का फैसला किया है। इस मामले में Air India ने फिलहाल अधिग्रहण का प्रस्ताव दिया है।

राज एक्सप्रेस। घाटे का सामना कर रही एयरलाइन कंपनी Air India अपनी दिवालिया प्रोसेस से होते हुए अपने सही हकदार यानी टाटा ग्रुप की कंपनी टाटा संस तक पहुंच गई है। तब से अब तक कंपनी कई तरह के बदलाव कर चुकी है। वहीं, अब कंपनी ने एक और बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले के तहत Air India और Air Asia India एयरलाइन का विलय करने का फैसला किया गया है। जबकि, Air Asia की कमान पहले से ही टाटा संस के हाथों में है। इस मामले में Air India ने फिलहाल अधिग्रहण का प्रस्ताव दिया है।

Air India और Air Asia India का विलय :

दरअसल, पिछले कुछ समय में कई कंपनियां विलय कर चुकी हैं। दरअसल, जब भी किसी कंपनी को अपने द्वारा बनाई गई योजना को पूरा करने के लिए किसी अन्य दूसरी कंपनी के साथ की जरूरत पड़ती है तो वह कुछ राशि का निवेश कर उस कंपनी में हिस्सेदारी हासिल कर लेती है। इस प्रकार वह दोनों कंपनियां मिलकर उस योजना पर कार्य करती हैं। पिछले कुछ समय में कई सैक्टर की कंपनियां विलय करने के मामले में आगे आई हैं। इसी कड़ी में अब Air India ने एयरएशिया इंडिया (Air asia india) का अधिग्रहण करने के लिए प्रस्ताव पेश किया है। हालांकि, यह विलय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) की मंजूरी के बाद ही सफल माना जाएगा। फिलहाल एयरलाइन ने इस विलय के लिए प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) से मंजूरी मांगी है।

CCI की मंजूरी अभी बाकी है :

टाटा के स्वामित्व वाली टाटा संस ने कॉम्पटीशन कमीशन ऑफ इंडिया (CCI) से दोनों कंपनियों के विलय के लिए मंजूरी की मांग करते हुए कहा है कि, 'प्रस्तावित संयोजन से प्रतिस्पर्धी परिदृश्य में कोई बदलाव नहीं होगा या भारत में प्रतिस्पर्धा पर कोई उल्लेखनीय प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा।' वहीं, CCI के पास जमा किए गए एक नोटिस में कहा गया है कि, 'प्रस्तावित संयोजन एअर इंडिया लिमिटेड (AIL) द्वारा एयरएशिया (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड की पूरी इक्विटी शेयर पूंजी अधिग्रहण करने से जुड़ा हुआ है। ऐसा करने की जरूरत इसलिए पड़ी क्योंकि एक तय सीमा से ज्यादा हिस्सेदारी वाले सौदों के लिए सीसीआई की मंजूरी लेना जरूरी है।'

Air Asia India की शुरुआत :

जानकारी के लिए बता दें, Air Asia India की शुरुआत साल 2014 के जून से हुई थी। तब से लगातार कंपनी की उड़ाने जारी हैं। कंपनी देश में हवाई यात्री सेवाएं, एयर कार्गो परिवहन और चार्टर उड़ानें उपलब्ध कराती है और Air Asia India की 83.67% हिस्सेदारी टाटा संस प्राइवेट लिमिटेड के पास है। जबकि, बाकी हिस्सेदारी मलेशिया के एयरएशिया ग्रुप का हिस्सा एयर एशिया इंवेस्टमेंट लिमिटेड (एएआईएल) के पास है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.