सरकार ने किया Air India को टाटा ग्रुप को सौंपने से पहले बकाया चुकाने का ऐलान
सरकार ने किया Air India को टाटा ग्रुप को सौंपने से पहले बकाया चुकाने का ऐलानSocial Media

सरकार ने किया Air India को टाटा ग्रुप को सौंपने से पहले बकाया चुकाने का ऐलान

घाटे का सामना कर रही Air India एयरलाइन दिवालिया प्रोसेस से हो कर सही हकदार तक पहुंच गई है। अब केंद्र सरकार ने Air India को टाटा ग्रुप को सौपनें से पहले उसका पूरा बकाया कर्ज चुकाने का ऐलान कर दिया है।

राज एक्सप्रेस। घाटे का सामना कर रही एयरलाइन कंपनी Air India अपनी दिवालिया प्रोसेस से होते हुए अपने सही हकदार तक पहुंच गई है। जी हां, बीते दिनों टाटा ग्रुप ने एयरलाइन के लिए लगाई बोली जीत कर Air India की कमान अपने हाथ में थाम ले ली है। इस बारे में जानकारी देते हुए रतन टाटा ने खुशी जाहिर करते हुए Air India का स्वागत भी किया था। वहीँ, अब केंद्र सरकार ने Air India को टाटा ग्रुप को सौपनें से पहले उसका पूरा बकाया कर्ज चुकाने का ऐलान कर दिया है।

सरकार चुकाएगी Air India का शेष कर्ज :

दरअसल, अब विमानन कंपनी Air India की कमान टाटा ग्रुप की कंपनी टाटा संस के हाथ में आचुकी है। यानी अब इतिहास दोहराएगा और फिर टाटा ग्रुप Air India का संचालन करेगा, लेकिन उससे पहले केंद्र सरकार Air India के ईंधन बिल और आपूर्तिकर्ताओं का करीब 16,000 करोड़ रुपये बकाया चुकाएगी। इस मामले में एक वरिष्ठ अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया है कि, 'सरकार यह राशि एक विशेष उद्देश्यीय इकाई में हस्तांतरित करेगी। इसके अलावा खबरों की मानें तो, Air India की भूमि और भवन जैसी गैर-प्रमुख संपत्तियां संभालने वाली Air India Assets Holding Limited (AIAHL) के अकाउंट में विमानन कंपनी का 75% कर्ज ट्रांफर करेगी। हालांकि, इसकी जिम्मेदारी टाटा ग्रुप नहीं लेगा।

DIPAM सचिव ने बताया :

निवेश एवं सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (DIPAM) के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने जानकारी देते हुए बताया है कि, 'कर्ज के अलावा AIAHL पर अतिरिक्त देनदारी भी आएगी। इनमें तेल कंपनियों, एयरपोर्ट परिचालकों और वेंडर्स का बकाया शामिल है। इसलिए टाटा समूह को सौंपने से पहले सरकार बाकी चार महीने (सितंबर-दिसंबर) Air India के बहीखातों पर काम करेगी। बची देनदारियों को एआईएएचएल को स्थानांतरित कर दिया जाएगा।'

AIAHL को की जाएगी राशि हस्तांतरित :

बताते चलें, Air India पर 69 हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज था जो 31 अगस्त तक कुल 61,562 करोड़ बचा था। इसमें से टाटा ग्रुप की कंपनी टाटा संस ने 15,300 करोड़ रूपये की जिम्मेदारी लेने की बात कही है, लेकिन बकाया राशि यानी 46,262 करोड़ AIAHL को हस्तांतरित किया जाएगा। इसके अलावा विमानन कंपनी की गैर-प्रमुख 14,718 करोड़ रुपये कीमत की संपत्तियां भी AIAHL को हस्तांतरित की जाएगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.