अमेरिकन बोइंग का इरादा भारत में बनाएगी सबसे बड़ा कैंपस
अमेरिकन बोइंग का इरादा भारत में बनाएगी सबसे बड़ा कैंपसSocial Media

अमेरिकन बोइंग का इरादा भारत में बनाएगी सबसे बड़ा कैंपस, करोड़ो के इन्वेस्ट की है योजना

अमेरिकी एयरप्लेन कंपनी बोइंग भारत में रिसर्च और डेवलपमेंट पर 1,600 करोड़ रुपए निवेश करेगी। कंपनी बेंगलुरू में 43 एकड़ का इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी कैम्पस तैयार करेगी।

आज भारत हर क्षेत्र में तरक्की कर रहा है।विदेश की कंपनियां भारत में काफी रूचि लेती नज़र आ रही है। पिछले कुछ ही समय में यदि देखें तो, कई विदेशीं कंपनियों ने भारत में किसी न किसी क्षेत्र में निवेश किया ही है। वहीं, अब अमेरिका की एयरप्लेन कंपनी 'बोइंग' (Boeing) भारत में अपना एक सबसे बड़ा कैंपस बनाने की तैयारी में जुटी हुई है। कंपनी ने इस बारे में काफी जानकारी दी है। बता दें, Boeing इस कैंपस को बेंगलुरू में तैयार करेगी।

Boeing कर रहा भारत में सबसे बड़ा कैंपस बनाने की तैयारी :

दरअसल, अमेरिका की एयरप्लेन कंपनी Boeing भारत में सबसे बड़ा कैंपस बनाने की तैयारी कर रही है। इस कैंपस को लेकर ऐसी खबर सामने आ रही है कि, कंपनी इसे बेंगलुरू में 43 एकड़ में इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी (R&D) कैम्पस के तौर पर तैयार करेगी। इतना ही नहीं कंपनी की रिसर्च और डेवलपमेंट पर 1,600 करोड़ रुपए निवेश करने की भी योजना है। इसकी शुरुआत होने के बाद यह अमेरिकी कंपनी बोइंग की अमेरिका के बाहर अपने तरह की सबसे बड़ी फैसिलिटी मानी जाएगी। कंपनी का मानना है कि, भारत बोइंग के प्रोडक्ट्स का बड़ा बाजार है और बोइंग इंडिया इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी सेंटर में 4,000 से ज्यादा कर्मचारी कार्यरत हैं। इनमें से इंजीनियरों की संख्या 3,000 से ज्यादा हैं। कंपनी का प्लान इस क्षमता को 25% बढ़ाने का है।

बोइंग कर रही है पुरानी योजना पर काम :

खबरों की मानें तो, साल 2021 में कंपनी ने भारत को क्षेत्रीय यानी मेंटेनेंस, रिपेयर एंड ऑपरेशन (MRO) हब बनाने तैयार करने हेतु एक बोइंग इंडिया रिपेयर डेवलपमेंट एंड सस्टेनमेंट (birds) प्रोग्राम की शुरुआत की थी। इसके माध्यम से कंपनी का इरादा भारत में रक्षा और कमर्शियल इंजीनियरिंग, रखरखाव, कौशल, मरम्मत और रखरखाव सेवाओं को मजबूत करने का था। अब यह माना जा रहा है कि, कंपनी अपनी पुरानी यानी साल 2021 में तैयार की गई इस योजना पर काम कर रही है।

एशिया-प्रशांत प्रेसिडेंट का कहना :

एयरबस के एशिया-प्रशांत प्रेसिडेंट आनंद स्टेनली ने बताया है कि, 'भारत का घरेलू विमानन बाजार इस क्षेत्र के अन्य देशों से तेज रिकवरी दिखा रहा है। इस क्षेत्र में इंफ्रास्ट्रक्चर के लगातार विकास से डिमांड बढ़ रही है। एयरबस भारत और एशिया-प्रशांत क्षेत्र में बड़े विमान बेचने के लिए विमानन कंपनियों के संपर्क में है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co