Apple removed 4500 Chinese games from store
Apple removed 4500 Chinese games from store |Social Media
व्यापार

चीन की इंटरनेट पॉलिसी के चलते Apple ने स्टोर से हटाए 4500 चीनी गेम्स

Apple द्वारा अपने Apple स्टोर से लगभग 4500 गेम्स हटा देने की खबर सामने आई है। खबरों के अनुसार, पिछले सप्ताह के मात्र दो दिनों के अंदर ही चाइना ऐप स्टोर से 3,000 से अधिक गेम्स को हटाया गया था।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। बीते दिनों भारत सरकार द्वारा बैन लगाए जाने पर प्ले स्टोर से TikTok को हटाने की खबर सामने आई थी वहीं, अब Apple द्वारा अपने Apple स्टोर से लगभग 4500 गेम्स हटा देने की खबर सामने आई है। खबरों के अनुसार, पिछले सप्ताह के मात्र दो दिनों के अंदर ही चाइना ऐप स्टोर से 3,000 से अधिक गेम्स को हटाया गया था।

चीनी सरकार की नई पालिसी :

दरअसल, इन ऐप्स को हटाने का सिलसिला चीनी सरकार की 1 जुलाई से लागू की गई नई इंटरनेट पाॅलीसी के चलते शुरू हुआ है। यही कारण है कि, Apple को भी अपने ऐप स्टोर से 4,500 से ज्यादा गेम्स हटाने पड़े हैं। टेकनोड के रिपोर्ट के अनुसार, इंटरनेट पाॅलिसी के तहत गेम डेवलपर्स को चीन के एपल ऐप स्टोर में अपने ऐप अपलोड करने से पहले चीनी नियामकों से एप्रूवल लेना जरूरी है।

चीन द्वारा सालभर में गेम्स को दी मंजूरी :

बता दें, Apple चाइना के मार्केटिंग मैनेजर टॉड कुहन्स ने बताया है कि, 1 जुलाई से चीनी सरकार की नई पॉलिसी लागू होने के बाद से ही हमें हर दूसरे दिन किसी न किसी गेम वाली ऐप को अपने स्टोर से हटाना पड़ रहा है। जानकारी के अनुसार, चीन एक साल में करीबन 1,500 गेम ऐप को ही लाइसेंस की मंजूरी देता है और मंजूरी मिलने की इस प्रोसेस को पूरा होने में ही लगभग 6 से 12 महीने लग जाते हैं। यही कारण है कि, ऐप को स्टोर में अपलोड होने में काफी समय लग जाता है।

Apple ने बताया :

Apple ने बताया हमारे द्वारा 1 जुलाई को 1,571 गेम एप, 2 जुलाई को 1,805 गेम एप और 3 जुलाई को 1,276 गेम एप्स अपने स्टोर से हटाए गए हैं। एक अंदाजे के अनुसार, चीन द्वारा लगाए गए नए प्रतिबंधों के चलते कुल 20,000 से अधिक ऐप प्रभावित हो सकती हैं। वर्तमान समय में Apple द्वारा चीन में लगभग 60,000 गेम्स होस्ट किये जाते हैं, बता दें, किसी भी एप्स को डाउनलोड करने के लिए यूजर्स को इन्हें खरीदना पड़ता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co