Asian Market Affected by the current recession in China
Asian Market Affected by the current recession in China|Kavita Singh Rathore -RE
व्यापार

चाइना में मौजूदा मंदी से कितना प्रभावित एशियाई बाजार?

चाइनीज़ मार्केट सेक्टर की परेशानी का उपचार भारत, जापान और कोरिया मिलकर कर सकते हैं। साथ ही क्षतिपूर्ति करने में अहम योगदान दे भी सकते हैं।

Neelesh Singh Thakur

हाइलाइट्स :

  • ड्रैगन इकोनॉमी डैमेज

  • भारत से डैमेज कंट्रोल की उम्मीद

  • Dassault Systemes को भारत पर भरोसा

  • विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था का बुरा दौर

राज एक्सप्रेस। कोरोना का दंश देश झेल रही बड़ी इकोनॉमिक कंट्री चाइना में हाल ही में उभरी आर्थिक मंदी से एशियाई मार्केट पर भी इसकी गहरी मार पड़ी है। द ग्रेट डेवलपर, प्रोड्यूसर, सप्लायर के रूप में शुमार इस देश के कारण अर्थव्यवस्था के कई सेक्टर्स पर बुरा असर पड़ा है।

ड्रैगन इकोनॉमी डैमेज:

खान-पान में खुद की लापरवाही से परेशान कंट्री ड्रैगन की अर्थव्यवस्था के कई अंग ठप्प पड़ रहे हैं। भारत ने भी चिकित्सीय और आर्थिक सुधार में मदद की पहले ही पेशकश की है।

डैमेज कंट्रोल :

ऐसे में डसॉल्ट सिस्टम्स ने उम्मीद जताई है कि चाइना की परेशानी के इस दौर में बड़ी अर्थव्यस्था की ओर अग्रसर भारत, जापान और कोरिया मिलकर बड़ा सहयोग कर सकते हैं। कंपनी ने 3DEXPERIENCE (थ्रीडीएक्सपिरियंस) वर्ल्ड इवेंट की शुरुआत के दौरान इस बात की उम्मीद जताई। 'SolidWorks वर्ल्ड इवेंट्स-गौरतलब है कंपनी का Dassault Systèmes 'SolidWorks वर्ल्ड इवेंट्स उसकी 20 सालों की त्रिआयामी डिजाइन्स और इंजीनियरिंग जगत में उसके योगदान को समर्पित एक कार्यक्रम है। कार्यक्रम में सभी उद्योगों के लगभग 6,000 डिजाइनर, इंजीनियर, निर्माता, उद्यमी, छात्र और व्यापारी नेता नवीनतम 3 डी तकनीकों को सीखने, सहयोग करने के साथ ही अनुभव हासिल करने एकत्रित हुए हैं।

डसॉल्ट को उम्मीद :

फ्रेंच टेक मेजर डसॉल्ट सिस्टम्स ने उम्मीद जताई कि चाइना में जारी कोरोना वायरस समस्या के कारण एशियाई मार्केट में बुरा असर पड़ेगा। साथ ही कंपनी ने इस स्थिति में भारत की ओर खास तौर पर बतौर गैम चेंजर आशा भरी दृष्टि भी लगाई है।

मंदी संभावित :

व्यापार जगत की रिपोर्ट्स के मुताबिक कंपनी भारत से साल 2019 में मिले योगदानों से काफी आशान्वित है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी का मानना है कि चीन मजबूती के साथ जरूर खड़ा है। लेकिन यह भी साफ है कि चाइना में वर्ष 2020 में उपजने वाली मंदी का अनुमान लगाया जा सकता है।

अगला प्लान :

बकौल डसॉल्ट सिस्टम्स, बोर्ड के वाइस चेयरमैन एंड सीईओ बर्नार्ड चार्ल्स “चाइनीज़ मार्केट सेक्टर की परेशानी का उपचार भारत, जापान और कोरिया मिलकर कर सकते हैं। साथ ही क्षतिपूर्ति करने में अहम योगदान दे भी सकते हैं।” कंपनी ने अमेरिका में 24% ग्रोथ के साथ भविष्य में यूरोप में भी आगे बढ़ने की उम्मीद जताई।

साल की शुरुआत में कंपनी ने वित्तीय वर्ष 19 के परिणाम भी जारी किए थे। डसॉल्ट के मुताबिक भारत के राजस्व में भी पिछले साल काफी वृद्धि हुई है और हर तीन से पांच साल में कंपनी का भारत में राजस्व को दोगुना करने का प्लान है।

इतनी विराट अर्थव्यवस्था :

ईस्ट एशिया की बड़ी अर्थव्यवस्था चाइना की जनसंख्या भी दुनिया में सबसे ज्यादा है। आंकड़ों के मुताबिक साल 2017 में देश की आबादी 1.428 बिलियन थी। क्षेत्रफल में दुनिया की तीसरी बड़ी इस कंट्री में आज हर शख्स को कोरोना नाम की दहशत है। सामूहिक इकट्ठा होने से बचा जा रहा है जिससे अर्थव्यवस्था के संकट को समझा जा सकता है।

देश की करेंसी रेन्मिन्बी हालांकि है तो तगड़ी हालत में लेकिन भविष्य में संकट गहरा सकता है। आंकड़ों के मुताबिक वर्ल्ड बैंक के अनुसार चाइना का सकल घरेलू उत्पाद लगभग 12.24 लाख करोड़ यूएस डॉलर है।

विश्व में दूसरा स्थान :

ड्रैगन की शक्ति इस बात से ही जानी जा सकती है कि, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का स्थाई सदस्य चीन विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। साथ ही यह विश्व का सबसे बड़ा निर्यातक और दूसरा सबसे बड़ा आयातक देश भी है।

शो मस्ट गो ऑन :

अब जब एशियाई मार्केट में संकट का दौर है और एशियाई अर्थव्यवस्था को मदद की आस है तो भारत अपने वित्तीय संसाधनों का सदुपयोग कर उचित आर्थिक रणनीतियों के सहारे एशियाई मार्केट में अपना विस्तार कर सकता है। ऐसे में न केवल भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत होगी बल्कि चाइना को चुनौती भी दी जा सकती है। साथ ही साख को मजबूत किया जा सकता है। भले की मौजूदा परिस्थिति में ऐसी बात अमानवीय लगे लेकिन अर्थव्यवस्था का एक ही रूल है “द शो मस्ट गो ऑन!”

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co