महिंद्रा के स्वामित्व वाली SsangYong Motor एडिसन मोटर्स कंसोर्टियम को बिकी
M&M के वर्चस्व वाली दक्षिण कोरियाई SsangYong Motor का फिर नया मालिक होगा। - सांकेतिक चित्रNeelesh Singh Thakur – RE

महिंद्रा के स्वामित्व वाली SsangYong Motor एडिसन मोटर्स कंसोर्टियम को बिकी

SsangYong Motor उच्च कर्ज के बोझ तले दब गया है और पिछले साल इसकी वाहन बिक्री गिरकर 84,496 हो गई, जो एक साल पहले की तुलना में लगभग 21% कम है।

हाइलाइट्स

  • दक्षिण कोरियाई कंपनी है सैंगयॉन्ग मोटर

  • फिर नया मालिक होगा SsangYong Motor का

  • M&M: महंगी पड़ी SsangYong Motor संग डील

राज एक्सप्रेस। दक्षिण कोरिया की SsangYong Motor का एक बार फिर से नया मालिक होगा। सैंगयॉन्ग मोटर (SsangYong Motor) ने सोमवार को पुष्टि की कि इसे एक स्थानीय संघ द्वारा 305 बिलियन वॉन यानी लगभग 254 मिलियन डॉलर में अधिग्रहित किया गया है।

सैंगयॉन्ग मोटर (SsangYong Motor) ने सोमवार को कहा कि दक्षिण कोरियाई इलेक्ट्रिक कार निर्माता एडिसन मोटर्स कंपनी (Edison Motors Co) के नेतृत्व में एक सहायता संघ (consortium) ने कर्ज में डूबी SsangYong Motor Co Ltd का 305 बिलियन वॉन ($ 254.65 मिलियन) में अधिग्रहण करने पर सहमति व्यक्त की है।

ऑटोमेकर की एक नियामक फाइलिंग से पता चला है कि; SsangYong Motor उच्च कर्ज के बोझ तले दब गया है और पिछले साल इसकी वाहन बिक्री गिरकर 84,496 हो गई, जो एक साल पहले की तुलना में लगभग 21% कम है।

ऑटोमेकर ने जनवरी-सितंबर 2021 में 1.8 ट्रिलियन वॉन की रेवेन्यू से 238 बिलियन वॉन के ऑपरेटिंग लॉस की सूचना दी।

मेजॉरिटी ओनर महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahindra and Mahindra) के एक खरीदार को सुरक्षित करने में विफल रहने के बाद कार निर्माता के पुनर्वास के प्रयास में SsangYong अप्रैल से अदालती रिसीवरशिप के अधीन है।

अधिक पढ़ने शीर्षक स्पर्श/क्लिक करें –

M&M के वर्चस्व वाली दक्षिण कोरियाई SsangYong Motor का फिर नया मालिक होगा। - सांकेतिक चित्र
M&M ट्रैक्टर का पहिया फिसला, शुद्ध लाभ की गाड़ी पटरी से उतरी

M&M का स्वामित्व -

भारतीय वाहन निर्माता महिंद्रा (Mahindra), जिसके पास सितंबर के अंत में सैंगयॉन्ग (SsangYong) का लगभग 75% स्वामित्व था, अपनी सभी या अधिकांश हिस्सेदारी के लिए एक खरीदार की तलाश कर रहा है, जिसे उसने 2010 में दक्षिण कोरियाई वाहन निर्माता के दिवालिया होने के समय खरीदा था।

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने 2010 में नियंत्रण हिस्सेदारी हासिल कर ली थी लेकिन हाल के वर्षों में SsangYong Motor में बढ़ते नुकसान को देखा गया।

SsangYong Motor का अतीत काफी खराब रहा है और उसने कई बार खुद को नुकसान में पाया है।

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने 2010 में दक्षिण कोरियाई कंपनी में नियंत्रण हिस्सेदारी हासिल कर ली थी और उम्मीद थी कि एसयूवी बॉडी टाइप के निर्माण से इसे अपनी किस्मत को पुनर्जीवित करने में मदद मिलेगी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह दक्षिण कोरियाई कंपनी भारतीय ऑटो प्रमुख के लिए एक अवसर की तुलना में अधिक दायित्व बन गई। SsangYong Motor के लिए हाल का वर्ष कठिन रहा है और कोविड-19 महामारी ने इसे एक गंभीर झटका दिया।

2020 के अप्रैल में, महिंद्रा ने अधिक पैसा लगाना बंद करने का विकल्प चुना और एक खरीदार की असफल तलाश शुरू कर दी। 2020 के अंत तक, SsangYong Motor ने 100 बिलियन वॉन के बकाया ऋण के साथ दिवालिया होने की जानकारी दी।

रॉयटर्स ने ऑटोमेकर की एक नियामक फाइलिंग का हवाला देते हुए बताया कि 2021 में वाहन की बिक्री 84,000 से थोड़ी अधिक हो गई थी, जो पिछले वर्ष की तुलना में 21% कम थी। 2021 के जनवरी और सितंबर के बीच, ऑटो कंपनी को 1.8 ट्रिलियन वॉन के राजस्व से 238 बिलियन वॉन का परिचालन घाटा हुआ था।

1988 में SsangYong Business Group द्वारा इसे अपने कब्जे में लेने से पहले SsangYong Motor ने अपनी जड़ें 1950 के दशक में Dong-A Motor से खोजी थीं। अंततः महिंद्रा एंड महिंद्रा की नियंत्रित हिस्सेदारी खोजने से पहले देवू मोटर्स और SAIC द्वारा इसे लिया गया।

अधिक पढ़ने शीर्षक स्पर्श/क्लिक करें –

M&M के वर्चस्व वाली दक्षिण कोरियाई SsangYong Motor का फिर नया मालिक होगा। - सांकेतिक चित्र
Mahindra दे रही है इन 5 दमदार गाड़ियों पर भारी छूट

डिस्क्लेमर आर्टिकल मीडिया एवं एजेंसी रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त जानकारी जोड़ी गई हैं। इसमें प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co