दो मंत्रियों की मौजूदगी में बाबा रामदेव ने फिर लांच की कोरोना की दवा Coronil
बाबा रामदेव ने फिर लांच की कोरोना की दवा CoronilSocial Media

दो मंत्रियों की मौजूदगी में बाबा रामदेव ने फिर लांच की कोरोना की दवा Coronil

पतंजलि कंपनी के फाउंडर योग गुरू बाबा रामदेव ने एक बार फिर अपनी उसी कोरोना की दवा 'कोरोनिल' (Coronil) को दो केंद्रीय मंत्रियों की मौजूदगी में एक बार फिर लांच किया है।

राज एक्सप्रेस। पिछले साल जब देशभर में कोरोना का प्रकोप बहुत तेजी से बढ़ रहा था तब योग गुरू बाबा रामदेव ने कोरोना की आयुर्वेदिक दवा 'कोरोनिल' (Coronil) को लांच किया था। हालांकि, लांचिंग के बाद से ही यह विवादों में घिर गई थी। वहीं, आज यानी शुक्रवार को बाबा रामदेव ने अपनी उसी कोरोना की दवा को दो केंद्रीय मंत्रियों की मौजूदगी में एक बार फिर लांच किया है।

बाबा रामदेव ने फिर लांच की कोरोना की दवा :

जी हां, कई विवादों से होकर गुजरने के बाद आज बाबा रामदेव ने कोरोना की दवाई 'Coronil' को फिर से लॉन्च कर दिया है। कोरोना की दवा की लांचिंग के मौके पर बाबा रामदेव के साथ सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन भी उपस्थित रहे। इस नई दवा को पतंजलि योगपीठ द्वारा निर्मित किया गया है। साथ ही इस दवा को लेकर कंपनी का कहना है कि, 'कोरोना के उपचार में काम आने वाली दवा 'Evidence Based' है, यानी ये दवा साक्ष्यों पर आधारित है।'

दवा को लेकर बाबा राम देव के विचार :

पतंजलि कंपनी के फाउंडर योग गुरू बाबा रामदेव ने कोरोना की दवा को लांच करते हुए दवा को लेकर कहा है कि,

'इस ने एक दवा के लिए बनाये गए जितने भी पैरामीटर्स तय किये जाते हैं, सभी का पालन करते हुए सब को पास किया है। क्योंकि, पहले कोरोनिल पर बहुत लोगों ने सवाल उठाए थे, लोग शक की निगाह से देखते हैं। पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट के साइंटिस्ट और पुरुषार्थ से विश्व को करोना जैसी महामारी से मुक्ति दिलाने की यह सफल अनुसंधान संभव हो पाया है। यह औषधि आपके शरीर में प्रवेश कोरोना की कार्यप्रणाली को बाधित करने की चेष्टा रखती है। कुछ लोग दवाएं बनाते हैं व्यापार के लिए, लेकिन हमने दवा बनाई उपचार और उपकार के लिए। मैं तो चाहता हूं कि, एक समय के बाद WHO का हेड ऑफिस भारत में बन जाए।'

बाबा राम देव, योग गुरू

अलग-अलग बीमारी पर किया रिसर्च :

बाबा राम देव ने आगे कहा कि, 'जब हमने कोरोनिल के जरिए लाखों लोगों को जीवनदान देने का काम किया तो कई लोगों ने सवाल उठाए। कुछ लोगों के मन में रहता है कि रिसर्च तो केवल विदेश में हो सकता है, खासतौर पर आर्युवेद के रिसर्च को लेकर कई तरह के शक किए जाते हैं। अब हमने शक के सारे बादल छांट दिए हैं। कोरोनिल से लेकर अलग-अलग बीमारी पर हमने रिसर्च किया है।'

बाबा रामदेव ने की मोदी सरकार की तारीफ :

कोरोना की दवा लॉन्च करते हुए बाबा रामदेव ने मोदी सरकार और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की तारीफ की। उन्होंने कहा कहा कि, 'मोदी सरकार का काम 6 लाख 38 हजार गांवों में जमीन पर दिखता है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने हरिद्वार से दिल्ली की दूरी को 6 घंटे से तीन घंटे का कर दिया है। इसी मौके पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी अपने विचार रखते हुए कहा कि

'चमत्कार के बगैर कोई नमस्कार नहीं होता' और लगातार रिसर्च करना समय की आवश्यकता है।

नितिन गडकरी, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का कहना :

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि, 'दुनिया के कई देशों ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड , कोलंबिया, मॉरिशस, बांग्लादेश, श्रीलंका और चीन ने भारत के आयुर्वेद को अपने रेगुलर मेडिसिन सिस्टम में लागू किया है। आयुर्वेद का डिग्री लिया हुआ डॉक्टर इन देशों में जाकर प्रैक्टिस कर सकता है। आयुर्वेद के बारे में वेदों से लेकर सभी स्थानों पर जानकारियां उपलब्ध हैं। 2014 में जब मुझे थोड़े समय के लिए स्वास्थ्य मंत्री बनने का मौका मिला था। पीएम मोदी ने 2014 में आयुष मंत्रालय की स्थापना की थी, आयुर्वेद के संदर्भ में बाबा रामदेव का सपना है वही हमारा सपना भी है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co