जुलाई-सितंबर तिमाही में सालाना आधार पर बढ़ा बैंकों का कर्ज
जुलाई-सितंबर तिमाही में सालाना आधार पर बढ़ा बैंकों का कर्जSyed Dabeer Hussain - RE

जुलाई-सितंबर तिमाही में सालाना आधार पर बढ़ा बैंकों का कर्ज, RBI ने दी जानकारी

देश के केंद्रीय बैंक भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने ‘सितंबर-2022 के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की जमा और ऋण का तिमाही आंकड़ा जारी किया है। इन आंकड़ो से पता चला है कि, बैंकों का ऋण इस दौरान बढ़ा है।

राज एक्सप्रेस। भारत में लॉकडाउन के हालातों से लेकर हर तरह की परिस्थिति में बैंकों का कार्य निरंतर चलता रहा है। इसके बाद भी भारत के बैंक बीते कुछ समय से नुकसान का सामना कर रहे हैं। बैंकों पर भारी कर्ज हो गया है। इस मामले में जानकारी देते हुए भारत के सभी बैंकों की कमान अपने हाथ में रखने वाले देश के केंद्रीय बैंक भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने ‘सितंबर-2022 के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की जमा और ऋण का तिमाही आंकड़ा जारी किया है। इन आंकड़ो से पता चला है कि, बैंकों का ऋण इस दौरान बढ़ा है।

RBI ने जारी किए बैंकों के जमा और कर्ज के आंकड़े :

दरअसल, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा समय-समय पर बैंकों के आंकड़े जारी किए जाते हैं। वहीं, अब RBI ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के ‘सितंबर-2022 के जमा और कर्ज के आंकड़े जारी किए हैं। इन आंकड़ो के अनुसार, बैंकों के ऋण में जुलाई-सितंबर तिमाही में सालाना आधार पर 17.2% की बढ़त दर्ज की गई है। जबकि, पिछले साल सामान अवधि में बैंकों के कर्ज में 7% की बढ़त दर्ज हुई थी। बैंकों के कर्ज में दर्ज हुई बढ़ोतरी से आर्थिक गतिविधियों में तेजी का संकेत मिलते है। बता दें, RBI ने ‘सितंबर-2022 के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की जमा और ऋण का तिमाही आंकड़ा जारी करते हुए कहा, ‘‘ऋण में वृद्धि व्यापक रही है। सभी जनसंख्या समूहों और बैंक समूहों ने सितंबर, 2022 के दौरान ऋण में 10 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि दर्ज की है।’’

अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के आधार पर जारी हुए आंकड़े :

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा जारी किए गए आंकड़े सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों (SCB) द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर जारी किए गए हैं। इसमें क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (RRB), लघु वित्त बैंक (SFB) और भुगतान बैंक (PB) का डाटा भी शामिल किया गया हैं। RBI के आंकड़ों के मुताबिक, बैंकों के कर्ज में सितंबर तिमाही में 17.2% की बढ़त दर्ज हुई है। जबकि, इससे पहले अप्रैल-जून तिमाही में बैंकों का कर्ज बढ़कर 14.2% पर था। जबकि, एक साल पहले की बात करें तो समान तिमाही में यह 7% थी। वहीँ, जून 2021 से कुल जमा वृद्धि (साल-दर-साल) लगातार 9.5% और 10.2% के बीच रही है। हालांकि, यह सितंबर, 2022 में 9.8% थी। ग्रामीण, अर्ध-शहरी और शहरी क्षेत्रों की तुलना में महानगरीय क्षेत्रों में बैंक शाखाएं दिसंबर, 2020 से ऊंची सालाना वृद्धि दर्ज कर रही हैं।

RBI का कहना :

RBI ने कहा कि, 'प्राइवेट क्षेत्र के बैंक समूह जमा जुटाने में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों, विदेशी बैंकों और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों को पीछे छोड़ रहे हैं। कुल जमा में बचत जमा की हिस्सेदारी नवीनतम तिमाही में मामूली रूप से घटकर 34.7% रह गई। यह जून, 2019 के 32.4% से बढ़कर जून, 2022 में 35.2 के उच्चस्तर पर पहुंची थी।' आंकड़ों के अनुसार, सावधि जमा वृद्धि सालाना आधार पर सितंबर, 2022 में बढ़कर 10.2% हो गई, जो एक साल पहले इसी अवधि में 6.4% थी। हालांकि चालू और बचत जमा वृद्धि एक साल पहले के क्रमशः 17.5% और 14.5% से घटकर 8.8% और 9.4% रह गई।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co