Big decline in FDI
Big decline in FDIRaj Express

अप्रैल-सितंबर के दौरान केमैन आइलैंड, साइप्रस से भारत में आने वाले एफडीआई में दिखी बड़ी गिरावट

सरकारी आंकड़ों के अनुसार इस वित्त वर्ष में अप्रैल-सितंबर के दौरान केमैन आइलैंड और साइप्रस से भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) में काफी कमी आई है।

हाईलाइट्स

  • केमैन आइलैंड व साइप्रस से एफडीआई में दिखी बड़ी की गिरावट।

  • केमैन आइलैंड से 75% घटकर 145 मिलियन डॉलर रहा एफडीआई।

  • एफडीआई में कमी के लिए आवेदनों जांच प्रक्रिया को बताया जिम्मेदार।

राज एक्सप्रेस।  देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) इक्विटी प्रवाह में गिरावट आई है। इस वर्ष के पहले छह महीनों में एफडीआई प्रवाह 24 प्रतिशत घटकर 20.48 अरब डॉलर रहा है। इसके पीछे कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर, दूरसंचार, वाहन और औषधि क्षेत्रों में आई कमी है। इस वर्ष के अप्रैल-सितंबर के दौरान प्रमुख देशों से निवेश में भी कमी देखी गई है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार इस वित्त वर्ष में अप्रैल-सितंबर के दौरान केमैन आइलैंड और साइप्रस से भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) में काफी कमी आई है। कहा जा रहा है कि प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में कमी के लिए निवेश प्रस्ताओं की जटिल जांच प्रक्रिया को प्रमुख कारण माना जा रहा है।

साइप्रस से पूंजी का प्रवाह 95% से अधिक गिरा

छह महीने की अवधि के दौरान साइप्रस से पूंजी का प्रवाह 95 प्रतिशत से अधिक घटकर 35 मिलियन अमेरिकी डॉलर रह गया, जबकि अप्रैल-सितंबर 2022-23 में यह 764 मिलियन अमेरिकी डॉलर था। विशेषज्ञों ने साइप्रस और केमैन द्वीप से एफडीआई में आई तेज गिरावट के लिए आवेदनों की गहन जांच को जिम्मेदार ठहराया है। आंकड़ों में सामने आया है कि 2023-24 की पहली छमाही के दौरान सिंगापुर और संयुक्त अरब अमीरात जैसे अन्य टैक्स हेवन से एफडीआई प्रवाह में भी केमैन द्वीप और साइप्रस के समान कमी देखी गई है। प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के लिए

निवेश में गिरावट की वजह सख्त जांच पड़ताल

अधिकांश लोग केमैन आइलैंड्स और साइप्रस से विदेशी निवेश में हाल के दिनों में आई गिरावट के इन देशों से आने वाले निवेश आवेदनों की सख्त जांच को जिम्मेदार ठहराया है। टैक्स हेवन से निवेश में आने वाली हालिया गिरावट भी 2023 की पहली छमाही के दौरान एफडीआई में आई समग्र गिरावट के अनुरूप है। निवेश में गिरावट की वजह अमेरिका और अन्य पश्चिमी देशों में उच्च मुद्रास्फीति के कारण बढ़ी हुई ब्याज दरों को माना जा सकता है, जो पूर्वी यूरोप और पश्चिम एशिया में भू-राजनीतिक स्थितियों के कारण बढ़ी है।

अगले दिनों में सकारात्मक हो सकता है एफडीआई प्रवाह

ध्यान देने योग्य बात यह है कि साइप्रस से दुनिया भर में कुल एफडीआई बहिर्प्रवाह 62 प्रतिशत की चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर (सीएजीआर) से घट रहा है। केमैन आइलैंड के लिए इस साल अक्टूबर में, इस क्षेत्र को फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) द्वारा ग्रे सूची से हटा दिया गया था। माना जा रहा है कि इसके परिणामस्वरूप आने वाले समय में केमैन आइलैंड से सकारात्मक एफडीआई प्रवाह हो सकता है। कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर, टेलीकॉम, ऑटो और फार्मा में कम प्रवाह के कारण अप्रैल-सितंबर 2023-24 में भारत में एफडीआई 24 प्रतिशत घटकर 20.48 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co