BigBasket & Grofers
BigBasket & Grofers|Kavit Singh Rathore -RE
व्यापार

कोरोना संकट के बीच बिगबास्केट और ग्रोफर्स कंपनियों ने दी 'खुशखबरी'

जहां लॉकडाउन के चलते कई कंपनियों के कर्मचारियों के सर पर नौकरी जाने का खतरा मंडरा रहा हैI वहीं, ऐसे हालातों में 'बिगबास्केट' (BigBasket)और 'ग्रोफर्स' (Grofers) कंपनी ने एक खुशखबरी दी है I

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस I कोरोना वायरस के चलते देश में 21 दिन का लॉक डाउन है, इसलिए लोग अपने-अपने घरों में हैं ना कोई कहीं जा पा रहा है, ना कोई किसी प्रकार की खरीददारी कर पा रहा है I ऐसे में पूरे देश में आर्थिक मंदी लगातार बढ़ती ही जा रही है I ऐसे में कई कंपनियों के कर्मचारियों के सर पर नौकरी जाने का खतरा मंडरा रहा हैI वहीं, ऐसे हालातों में 'बिगबास्केट' (BigBasket)और 'ग्रोफर्स' (Grofers) कंपनी ने एक खुशखबरी दी है I

दोनों कंपनियों द्वारा दी गई खुशखबरी :

दरअसल, ऑनलाइन ग्रॉसरी प्रोडक्ट मुहैया कराने वाली कंपनी बिगबास्केट ऑफ ग्रोफर्स ने इन हालातों में 12,000 नई नौकरियां प्रदान करने का ऐलान किया है। ऐसा करके यह दोनों कंपनियां ग्राहकों के पेंडिंग आर्डर को भी पूरा करेंगी। इन नौकरियों के तहत बिग बास्केट गोदान और डिलीवरी के लिए 10,000 लोगों की नियुक्ति करेगी, जो 26 शहरों में की जाएगी, जिन शहरों में बिगबास्केट की सर्विसेज मौजूद हैं। वहीं, ग्रोफर्स कंपनी अपने स्टाफ में 2,000 नए कर्मचारियों की नियुक्ति करेगी।

दोनों कंपनियों ने बताया :

बिगबास्केट कंपनी ने बताया है कि, कंपनी के गोदाम और डिलीवरी टीम में 50% कर्मचारियों की कमी है, जिसे कंपनी जल्द ही पूरा करेगी। इसके अलावा ग्रोफर्स कंपनी ने बताया कि, कंपनी के पास लगभग 5,00,000 आर्डर का बैकलॉग है। लॉकडाउन के दौरान कंपनी को डिलीवरी करने में कर्मचारियों की कमी के कारण बहुत ही ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ा है।

कंपनियों के पास हो रही आर्डर की भरमार :

भारत में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते लोग मार्केट से सब्जी या ग्रॉसरी प्रोडक्ट खरीदने में कतरा रहे हैं और मार्केट की जगह ऑनलाइन ग्रॉसरी प्रोडक्ट खरीदने को ज्यादा उचित समझ रहे हैं। इसका मुख्य कारण यह है कि, एक तो वह कैश के लेनदेन से बच जाएंगे और उन्हें कहीं जाने आवश्यकता भी नहीं होगी। यहीं, बड़ा कारण है कि, इस समय ऑनलाइन ग्रॉसरी प्रोडक्ट की कंपनियों के पास आर्डर की भरमार है लगातार बहुत ज्यादा मात्रा में आर्डर आ रहे हैं इतना ही नहीं इन हालातों में डिलीवरी के लिए कर्मचारियों की संख्या तक कम पड़ रही है।

वॉलमार्ट का ऐलान :

वहीं, अमेरिकी ऑनलाइन कंपनी वॉलमार्ट ने ऐलान करके बताया कि, वह अपने कर्मचारियों का वेतन नहीं काटेगी। इसके अलावा इस वायरस के फैलने से पहले जिन लोगों के सामने नौकरी की पेशकश की गई थी, उन्हें भी नौकरियां मिलेंगी।

फ्लिपकार्ट टाउन हॉल का आयोजन :

बताते चलें, इन हालातों को मद्देनजर रखते हुए फ्लिपकार्ट कंपनी के CEO कल्याण कृष्णमूर्ति ने ऑनलाइन एक टाउन हॉल का आयोजन किया था। जिसमें 6000 के लगभग कर्मचारियों ने हिस्सा लिया। इस टाउन हॉल में कंपनी के CEO कृष्णमूर्ति ने अपने कर्मचारियों को आश्वासन दिया कि, चिंता करने की कोई बात नहीं है सारे कर्मचारी पूरी तरीके से सुरक्षित हैं, साथी ही कंपनी की वित्तीय स्थिति भी काफी सुरक्षित है। हालांकि, 21 दिन लॉकडाउन के दौरान फ्लिपकार्ट के कारोबार पर काफी प्रभाव पड़ा है कंपनी की साईट पर स्मार्टफोन सहित इलक्ट्रोनिक प्रोडक्टस उपलब्ध ही नहीं है। वहीं फ्लिपकार्ट की फैशन सहयोगी कंपनी मयंत्रा (Myntra) ने सेवाएं लॉकडाउन के दौरान बंद कर दी हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co