Card Tokenization
Card TokenizationKavita Singh Rathore -RE

अगले महीने लागू होने से पहले जान लें क्या है 'कार्ड टोकनाइजेशन' ?

आज भी बहुत से कस्टमर्स फ्रॉड के शिकार हो जाते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए अपने ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचाने के लिए RBI ने एक 'कार्ड टोकनाइजेशन' (Card Tokenization) की सुविधा पेश की है।

Card Tokenization : देश के सभी बैंकों के लिए सभी नियम रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) तय करता है। साथ ही अपने ग्राहकों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए नियमों में समय-समय पर बदलाव किए जाते रहते है। वहीं, अब जब आजकल देश में ऑनलाइन फ्रॉड के साथ ही डेबिट कार्ड (Debit Card) और क्रेडिट कार्ड (Credit Card) से जुड़े फ्रॉड के बहुत से मामले सामने आ रहे हैं। इनमें ज्यादातर मामले में ग्राहक को फ्रॉड कैसे हुआ यह भी समझ नहीं आ पाता है। क्योंकि, आज भी बहुत से कस्टमर्स फ्रॉड करने वालों की बातों में आ जाते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए अपने ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचाने के लिए RBI ने एक 'कार्ड टोकनाइजेशन' (Card Tokenization) की सुविधा पेश की है।

RBI की नई कार्ड टोकनाइजेशन की सुविधा :

बताते चलें, देश में लोगों की सभी बैंकों में जमा पूंजी का रखवाला भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ही हैं। ऐसा इसलिए, क्योंकि, RBI समय-समय पर अपने ग्राहकों और बैंकों को अलर्ट करता आया है। इसी कड़ी में अब लोगों की मेहनत की कमाई को डेबिट कार्ड (Debit Card) और क्रेडिट कार्ड (Credit Card) फ्रॉड से बचाने के मकसद से RBI ने अगले महीने यानी 1 ऑक्टूबर से कार्ड टोकनाइजेशन की सुविधा लागू करने का फैसला किया है। इस सेवा के तहत यूनिक टोकन जारी किया जाएगा।

सभी कार्ड का किया जाएगा टोकेनाइजेशन :

कार्ड टोकनाइजेशन की सुविधा के तहत RBI सभी क्रेडिट और डेबिट कार्ड के डेटा को ऑनलाइन, पॉइंट-ऑफ-सेल और इन ऐप से होने वाले लेनदेन को एकसाथ मर्ज देगा, इसके बाद इनके लिए एक यूनिक टोकन जारी किया जाएगा। यह पूरे देश में अगले महीने से लागू कर दिया जाएगा। हालांकि, यह यूनिक टोकन पहले 30 जून को जारी होने वाला था। इस सुविधा के लागू होते ही आपके सभी कार्ड का टोकेनाइजेशन किया जाएगा। बता दें, इस सुविधा के माध्यम से लेनदेन करना अभी की तुलना में ज्यादा सुरक्षित तो है ही, साथ ही यह सुविधा ग्राहक को बैंकिंग धोखाधड़ी से भी बचाएगी।

क्या है कार्ड टोकेनाइजेशन या यूनिक टोकन ?

इतनी खबर पढ़ने के बाद आपके मन में यह सवाल जरूर उठ रहे होंगे कि, आखिर यह कार्ड टोकेनाइजेशन या यूनिक टोकन क्या है ? तो आपको इस प्रश्न का उत्तर देते हुए बता दें, यूनिक टोकन RBI द्वारा जारी किया जाएगा। इसमें ग्राहक को पेमेंट से जुड़े सभी ऑप्शन दिए जाएंगे। और सरल शब्दों में समझे तो, एक यूनिक कोड के माध्यम से आपके सभी वास्तविक कार्ड डिटेल्स को बदल दिया जाएगा। यह सुरक्षित इसलिए है क्योंकि, लेनदेन के दौरान आपके क्रेडिट और डेबिट कार्ड की एक्चुअल डिटेल्स मर्चेंट के पास जाएगी ही नहीं, बल्कि उसे बस एक यूनिक मिलेगा।

RBI ने दी जानकारी :

RBIद्वारा एक ट्वीट के माध्यम से जाकारी देते हुए बताया गया है कि, एक आम नागरिक कार्ड को एक यूनिक टोकन में कैसे बदल सकेगा? उसके लिए RBI ने 6 स्टेप फ़ॉलो करने को कहा हैं।

  • स्टेप 1 : सबसे पहले किसी भी ई-कमर्शियल मर्चेंट वेबसाइट या एप्लिकेशन पर जाएं।)

  • स्टेप 2 : 'अपना कार्ड चुनें' (चेक आउट के दौरान, भुगतान विधि के रूप में पहले सहेजे गए अपने डेबिट, क्रेडिट कार्ड का विवरण दर्ज करें।)

  • स्टेप 3 : 'अपना कार्ड सुरक्षित करें' ('RBI के दिशानिर्देशों के अनुसार अपने कार्ड को सुरक्षित करें' या 'RBI के दिशानिर्देशों के अनुसार अपने कार्ड को टोकनाइज़ करें' विकल्प चुनें।)

  • स्टेप 4 : 'टोकन बनाने के लिए सहमति दें' (आपके बैंक द्वारा आपके मोबाइल फोन या ईमेल पर भेजा गया ओटीपी दर्ज करें और आगे बढ़ें।)

  • स्टेप 5 : 'टोकन जेनरेट करें'

  • स्टेप 6 : 'टोकनाइज्ड' (जब आप उसी वेबसाइट या एप्लिकेशन पर दोबारा जाते हैं, तो आपके द्वारा सेव किए गए कार्ड के डिटेल वहां उपलब्ध मिलेंगे जिसमें आपको आपके कार्ड के अंतिम के चार अंक दिख रहे होंगे। इसकी मदद से आप वहां आसानी से टोकनाइज्ड पेमेंट कर पाएंगे।)

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co