CCI ने दिए Google के खिलाफ जांच के आदेश
CCI ने दिए Google के खिलाफ जांच के आदेशSocial Media

CCI ने दिए Google के खिलाफ जांच के आदेश

Google की मुश्किलें अब कुछ बढ़ती नजर आरही हैं। क्योंकि, इस बार Google पर 'कंपटीशन कमीशन ऑफ इंडिया' (CCI) की गाज गिरी है। CCI ने कंपनी के खिलाफ जांच के आदेश जारी किए हैं।

राज एक्सप्रेस। पिछले कुछ समय से कई IT कंपनियां सोशल मीडिया के लिए लागू किए गए नए नियमों के चलते काफी चर्चा में रही हैं। इन्हीं में दुनियाभर में बहुचर्चित दिग्गज कंपनी 'गूगल' (Google) भी शामिल है। वहीं, Google की मुश्किलें अब कुछ बढ़ती नजर आरही हैं। क्योंकि, इस बार Google पर 'कंपटीशन कमीशन ऑफ इंडिया' (CCI) की गाज गिरी है। CCI ने कंपनी के खिलाफ जांच के आदेश जारी किए हैं।

कंपनी के खिलाफ जांच के आदेश :

दरअसल, Google के डिजिटल विज्ञापन कारोबार को लेकर सवाल उठ रहे हैं। इस मामले में कंपटीशन कमीशन ऑफ इंडिया (CCI) द्वारा Google के डिजिटल विज्ञापन कारोबार की जांच करने के आदेश दिए हैं। क्योंकि Google की ही कंपनी अल्फाबेट पर आरोप लगा है कि, 'इकंपनी ने भारत में एंड्रॉयड बेस्ड टेलिविजन मार्केट में गलत तरीके से कारोबार किया। जिससे कंपनी गलत तरह से लाभ कमा रही है। कंपनी का ऐसा करना एंट्री ट्रस्ट कानून का उल्लंघन करना माना जाएगा। खबरें तो यह भी हैं कि, कंपनी ने पिछले साल ऑनलाइन विज्ञापनों से लगभग 11 लाख करोड़ रुपये का लाभ कमाया था।

CCI का कहना :

बताते चलें, कंपटीशन कमीशन ऑफ इंडिया (CCI) ने का कहना है कि, 'Google ने कंपटीशन के नियम तोड़े हैं। इससे प्रतिद्वंद्वियों, प्रकाशकों, विज्ञापनदाताओं और विज्ञापन तकनीकी सेवाएं देने वाली अन्य कंपनियों को नुकसान पहुंचा है।' CCI ने 22 जून को दिए आदेश में बताया है कि, Google भारतीय एंट्री ट्रस्ट रेगुलेशन की दोषी है। इसलिए ही डायरेक्टर जनरल को इस मामले को जांच के आदेश दिए गए हैं।

कब शुरू होगी जाँच :

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि, Google के खिलाफ की जाएगी जांच इस साल के अंत तक शुरू की जाएगी, लेकिन कमीशन ने इस मामले में शीघ्रता दिखाई। बता दें, कंपटीशन कमीशन ऑफ इंडिया (CCI) यूरोपीय संघ की सबसे बड़ी प्रतिस्पर्धा नियामक एजेंसी है। साथ की उसके द्वारा की गई जांच को व्यापक जांच माना जा रहा है। खबरों की मानें तो, इन विज्ञापनों के लिए तकनीक से लेकर प्लेटफार्म तक Google ने ही तैयार किया है। यही कारण है कि, अब तक कई देश अपनी व्यवस्था में अनुचित फायदा लेने का शक जता चुके हैं।

Google का बयान :

बता दें, इस मामले में Google ने पहले से ही बयान तैयार कर लिया था। कंपनी द्वारा दिए गए बयान में कहा गया है कि, 'यूरोप में हजारों कारोबारी उसे विज्ञापन देते हैं। वह उन्हें नए उपभोक्ताओं तक पहुंचाने और हर रोज वेबसाइट के जरिए पैसा कमाने में मदद करता है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co