प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल
प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल Social Media

प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल ने देश की GDP को लेकर कही बड़ी बात

इस साल GDP में काफी सुधार देखने को मिला है। इसी बीच प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल ने देश की GDP को लेकर बड़ी बात कही है। उनके द्वारा कही इस बात को सुनकर हर कोई हैरान रह गया है।

राज एक्सप्रेस। इंटरनेशनल मोनेटरी फण्ड (IMF) द्वारा समय-समय पर देश की GDP को लेकर आंकड़े जारी किए जाते हैं। हालांकि, लॉकडाउन के बाद से देश में आंकड़े गिरने की आशंका पहले से ही थी, लेकिन इस साल GDP में काफी सुधार देखने को मिला है और इस सुधार से देश के हालात काफी सुधर गए हैं। इसी बीच प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल ने देश की GDP को लेकर बड़ी बात कही है। उनके द्वारा कही इस बात को सुनकर हर कोई हैरान रह गया है।

1990 से लेकर अब तक की सबसे बेहतरीन बढ़त :

दरअसल, भारत में आई महामारी कोरोना ने देश की हालत काफी ख़राब करके रख दी थी। इतना ही नहीं देश का हर एक सेक्टर इस महामारी के चलते प्रभावित हुआ है और इनका सीधा असर पड़ा है देश की अर्थव्यवस्था या कहे GDP पर। हालांकि, अब हर सेक्टर देश में आई इस आर्थिक मंदी से उबरता नजर आरहा है। जिसके चलते GDP में आई गिरावट अब धीरे-धीरे कम हो रही है। यदि हम पिछले कुछ महीनों की देश की GDP ग्रोथ पर ध्यान दें तो जून तिमाही के दौरान GDP ग्रोथ 20.1% पर थी। जबकि सरकारी आंकड़ों के अनुसार, GDP की यह ग्रोथ 1990 से लेकर अब तक के किसी भी वित्‍त वर्ष की किसी भी तिमाही की सबसे बेहतरीन बढ़त है। इस मामले में प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल (Sanjeev Sanyal) ने हैरान कर देने वाली बात कहते हुए GDP के प्री-कोविड लेवल पर पहुंचने का अनुमान जताया है।

प्रमुख आर्थिक सलाहकार का कहना :

बताते चलें, देश की अर्थव्यवस्था या GDP ग्रोथ को लेकर प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल ने कहा है कि, 'हमने सालाना आधार पर अप्रैल-जून में 20.1 फीसदी जीडीपी ग्रोथ देखी। यह बहुत मजबूत संख्या है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि, यह 2020 में इसी अवधि में लॉकडाउन के कारण लोअर बेस पर आधारित है। अगर तीसरी लहर का सामना नहीं करते हैं तो हम अक्टूबर-दिसंबर तिमाही तक प्री-कोविड लेवल तक पहुंचने में सक्षम होंगे। हम बहुत तेजी से अर्थव्यवस्था का विस्तार करने की स्थिति में हैं। यहां तक ​​कि अगर हम तीसरी लहर की चपेट में आते हैं, तो भी हमारे पास इससे निपटने के लिए वित्तीय संसाधन हैं। हमारा राजकोषीय घाटा बहुत नियंत्रित है।'

मार्च 2021 तिमाही की GDP ग्रोथ :

यदि मार्च 2021 तिमाही की GDP ग्रोथ पर नजर डालें तो, इस दौरान GDP ग्रोथ 1.6% थी। जबकि, वित्‍त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में लो बेस इफेक्ट के कारण GDP ग्रोथ में तेजी दर्ज की गई है। गौरतलब है कि, कोरोना वायरस के चलते लगे लॉकडाउन के कारण साल 2020 के दौरान पूरे देश में आर्थिक गतिविधियां काफी प्रभावित हुई थी। जो GDP ग्रोथ में गिरावट का बड़ा कारण बना था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co