विश्व बैंक ने माना भारत में व्यापार इतना आसान
विश्व बैंक ने माना भारत में व्यापार इतना आसानSocial Media

विश्व बैंक ने माना भारत में व्यापार इतना आसान

“यह सूची किसी देश की आर्थिक नीतियों, कारोबारी सुगमता, उपलब्ध संसाधन और उनका कुशल प्रयोग जैसे सभी स्तरों पर आंकड़ों-परिस्थितियों को परखने के बाद जारी की जाती है।”

हाइलाइट्स :

  • वर्ल्ड बैंक की ताजा रैंकिंग में भारत ने किया सुधार

  • 'ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस' इंडेक्स में भारत पर बढ़ा भरोसा

  • ताजा रैंकिंग में 14 स्थान खिसककर भारत 63वीं पोजीशन पर

राज एक्सप्रेस। कारोबार में आसानी के मामले में भारत ने बड़ी खाई को पाटते हुए नई इबारत दर्ज की है। इसी क्रम में 'ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस' की ताजा रैंकिंग में भारत ने 14 स्थान की छलांग लगाकर अंतर राष्ट्रीय स्तर पर भारतीय उद्योग जगत के लिए नया विश्वास पैदा किया है।

इतने देशों के बीच-

'ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस' इंडेक्स में 190 देशों की विश्व पटल पर समीक्षा होती है। इसमें इन देशों में व्यापार की संभावनाओं और सुविधाओं के बारे में आंकलन होता है। भारत ने इस मामले में पिछली रैंकिंग के मुकाबले 14 पोजीशन का बड़ा सुधार किया और अब भारत विश्व बैंक की ताजा रैंकिंग में 63वें नंबर पर आ पहुंचा है।

इन्होंने भी किया सुधार-

भारत के अलावा सुधारक देशों में सऊदी अरब, जॉर्डन, टोगो, बहरीन, ताजिकिस्तान, पाकिस्तान, कुवैत, चीन,नाइजीरिया ने भी अपने देशों में व्यापार करने की परिस्थितियों में व्यापक स्तर पर सकारात्मक सुधार किया है।

लक्ष्य से चूकी सरकार!-

भारत में केंद्र शासित NDA सरकार ने देश में बिज़नेस और कारोबारी जगत की कार्यप्रणाली में बड़े सुधार का लक्ष्य रखा था। सरकार का लक्ष्य 'ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस' इंडेक्स में 50 देशों के भीतर आने का था। गौरतलब है वर्ष 2018 में भारत की पोजीशन 77 थी। इसके पहले 2017 में भी भारत ने 30 पोजीशन का सुधार करते हुए 100वीं पोजीशन हासिल की थी।

विश्वास से मिलेगा बूस्ट-

जब पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में साल 2014 में एनडीए सरकार बनी थी, तब भारत की रैंकिंग 190 देशों में 142वें स्थान पर थी। ताजा सुधार की खबर से भारतीय बिज़नेस सेक्टर्स में भी बूस्ट आने की पूरी संभावना है।

इस सुधार का श्रेय भारत में केंद्र की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नीत् एनडीए सरकार को दिया जा रहा है। गौरतलब है भारत इस सूची में लगातार तीसरे साल शीर्ष प्रदर्शन करने वाले देशों के बीच अपना स्थान बनाने में कामयाब रहा।

क्या होता है 'ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस'?-

दरअसल दुनिया भर के देशों को फंडिंग करने वाला विश्व बैंक समय-समय पर इन देशों की वार्षिक रिपोर्ट भी बनाता है। इसी क्रम में विश्व बैंक ने 190 देशों में व्यापार/कारोबार करने में कितनी सुगमता है, इस बात का तय मानकों के अनुसार अध्ययन कर रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट का मकसद यह पता लगाना होता है कि, इन देशों में कारोबार में कहां-कितने सुधार की आवश्यक्ता है?

यह सूची किसी देश की आर्थिक नीतियों, कारोबारी सुगमता, उपलब्ध संसाधन और उनका कुशल प्रयोग जैसे सभी स्तरों पर आंकड़ों को परखने के बाद जारी की जाती है।

भारतीय सरकार की सराहना-

विश्व बैंक ने 'ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस' के सर्वे में भारत में आर्थिक सुधारों की सराहना की है। रिपोर्ट में पिछले सालों के दौरान भारत में आर्थिक जगत की तरक्की को दुनिया के लिए भी बड़ा योगदान बताया गया। सर्व के मुताबिक भारत में कई आर्थिक मोर्चों पर सुधार किया गया है।

भारत के लिए बड़ी खबर-

यह रैंकिंग उस समय आई है, जब भारतीय रिजर्व बैंक(RBI), वर्ल्ड बैंक, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF), मूडीज सहित कई एजेंसियों ने आर्थिरक सुस्ती को देखते हुए जीडीपी में बढ़त के अनुमान का घटाया है। देश के आर्थिक मोर्चे पर लगभग सभी सेक्टर्स में निगेटिव इम्पैक्ट दिख रहा था।

ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस लिस्ट में इतने बड़े सुधार के खुशखबरी से अंतर राष्ट्रीय स्तर पर भी भारत की साख में सुधार होगा। गौरतलब है कि भारतीय अर्थव्यवस्था इस समय आर्थिक सुस्ती से जूझ रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co