RBI के लक्ष्य के मान से महंगाई दर संतोषजनक, मार्च में रही 5.91%

खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट मुख्य रूप से सब्जियों, अंडा- मांस जैसी रसोई से जुड़ीं आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में ढील के कारण देखी गई।
RBI के लक्ष्य के मान से महंगाई दर संतोषजनक, मार्च में रही 5.91%
पेंडेमिक कोविड 19 का असर अर्थव्यवस्था के स्वास्थ्य पर भी पड़ा है। (सांकेतिक चित्र)Social Media

हाइलाइट्स

  • मुद्रास्फीति पहुंची चार महीने के निचले स्तर पर

  • मार्च में 5.91% दर्ज, फरवरी में थी 6.58 फीसदी

  • फरवरी के मुकाबले खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट

राज एक्सप्रेस। सोमवार को सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक कंज्यूमर प्राइज इंडेक्स (CPI) यानी उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित खुदरा मुद्रास्फीति फरवरी के 6.58 प्रतिशत के मुकाबले मार्च में चार महीने के निचले स्तर 5.91 प्रतिशत पर आ गई।

घट रही मुद्रास्फीति :

साल-दर-साल गणना के आधार पर मार्च 2019 में मुद्रास्फीति की दर 2.86 प्रतिशत रही। गौरतलब है पिछले महीने से मुद्रास्फीति का आंकड़ा घट रहा है। पिछले निम्न स्तर की बात करें तो पिछली गिरावट नवंबर 2019 में 5.54 फीसदी थी।

नेशनल स्टैस्टिकल ऑफिस (NSO) यानी राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने सीपीआई के आंकड़े जारी किए हैं। इनके अनुसार, मार्च 2020 के दौरान फूड बास्केट में मुद्रास्फीति 8.76 प्रतिशत दर्ज हुई। पिछले महीने यह 10.81 प्रतिशत दर्ज की गई थी।

कीमतों में ढील वजह :

खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट मुख्य रूप से सब्जियों, अंडा- मांस जैसी रसोई से जुड़ीं आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में ढील के कारण देखी गई। गौरतलब है कोरोनो वायरस संक्रमण प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए 21 दिनों के लागू राष्ट्रव्यापी बंद के कारण पहले से ही मांग में कमी की आशंका जताई जा रही थी। हालांकि, यह भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के 4 प्रतिशत के लक्ष्य से ऊपर रही। महंगाई दर का यह डाटा रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के लक्ष्य के मान से संतोषजनक स्तर पर माना जा सकता है।

इन पर इतना प्रभाव :

आंकड़ों के अनुसार पिछले माह फरवरी के 7.28 फीसदी के मुकाबले मार्च माह के दौरान अंडे में मुद्रास्फीति 5.56 प्रतिशत दर्ज की गई। इसी तरह फरवरी में 31.61 प्रतिशत के मुकाबले सब्जियों की कीमत में वृद्धि की दर मार्च में 18.63 फीसदी दर्ज की गई। आंकड़ों से पता चलता है कि फलों की कीमतों के साथ-साथ दालों और संबंधित उत्पादों में भी यह दर धीमी रही।हालांकि, फरवरी के मुकाबले मार्च में दूध और उत्पादों की मुद्रास्फीति थोड़ी अधिक रही।

RBI के उपाय :

RBI को उसकी द्विमासिक मौद्रिक नीति पर पहुंचने के लिए मुख्य रूप से खुदरा मुद्रास्फीति का कारक माना जा रहा है। गौरतलब है पिछले महीने के अंत में आरबीआई ने घरेलू बाजारों में रुपये और डॉलर की तरलता के इलाज के लिए कई उपायों की घोषणा करते हुए एक आपातकालीन निर्णय के रूप में अपनी प्रमुख उधार दर में 75-अंक (बीपीएस) की उम्मीद के साथ कटौती की थी।

हालांकि, केंद्रीय बैंक ने विकास और मुद्रास्फीति के लिए कोई अनुमान लगाने से परहेज भी किया। बैंक के मुताबिक आगामी दिनों में इन दो व्यापक आर्थिक मानकों का प्रदर्शन कोरोना वायरस की तीव्रता, प्रसार और अवधि पर निर्भर करेगा।

COVID-19 प्रभाव अस्पष्ट :

मुद्रास्फीति पर वृद्धि के बारे में COVID-19 का प्रभाव अस्पष्ट है। जबकि गैर-खाद्य पदार्थों की कीमतों में संभावित लागत-वृद्धि का कारण आपूर्ति में व्यवधान बताया गया है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (MPC) यानी मौद्रिक नीति समिति को सरकार ने CPI पर आधारित खुदरा मुद्रास्फीति 4 प्रतिशत (+, - 2 प्रतिशत) पर वश में करने का जिम्मा सौंपा है।

MPC ने 2021-22 के लिए, एक सामान्य मानसून के अनुमान और कोई बड़े बाहरी कारकों या नीतिगत झटकों को न मानते हुए संरचनात्मक मॉडल के अनुमान के आधार पर मुद्रास्फीति 3.6 से 3.8 फीसदी सीमा में चलने की राय दी है।

फील्ड वर्क निलंबित :

मंत्रालय के मुताबिक COVID-19 महामारी के प्रसार की जांच करने के लिए NSO द्वारा उठाए गए निवारक उपायों और सरकार द्वारा देशव्यापी तालाबंदी की घोषणा को ध्यान में रखते हुए मूल्य संग्रह के लिए फील्ड वर्क को 19 मार्च, 2020 से निलंबित कर दिया गया था। जबकि लगभग 66 प्रतिशत मूल्य उद्धरण प्राप्त हुए।

CPI डेटा जारी करते समय बताया गया कि; "शेष मूल्य कोटेशन के मूल्य व्यवहार आंकलन के लिए NSO अच्छी तरह से स्थापित और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीकृत कार्यप्रणाली और अभ्यास का अनुसरण करता है।"

साथ ही बताया गया कि; सामान्य सीपीआई के अनुमानों पर राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर बाकी रह गए मूल्य डेटा का समग्र प्रभाव स्वीकार्य सीमा के भीतर है।

(एजेंसी के इनपुट के आधार पर)

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर ।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co