IMF ने घटाया भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान, रूस -युक्रेन युद्ध बना महंगाई का बड़ा कारण

देश में महंगाई काफी बढ़ती जा रही है। जिससे भारत की ग्रोथ गिरने की आशंका पहले से ही थी। इसी बीच IMF द्वारा GDP ग्रोथ को लेकर अनुमान जताया गया है। जिसके अनुसार, IMF ने लगाए गए अनुमान को घटा दिया है।
IMF ने घटाया भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान
IMF ने घटाया भारत की GDP ग्रोथ का अनुमानKavita Singh Rathore -RE

राज एक्सप्रेस। इंटरनेशनल मोनेटरी फण्ड (IMF) द्वारा समय-समय पर दुनियाभर के देशों की GDP या ग्रोथ को लेकर आंकड़े जारी किए जाते हैं। हालांकि, कोरोना और रूस-युक्रेन के बीच जारी जंग के चलते भारत में भी काफी हाहाकार मचा है। जिसके चलते यहां काफी लंबे समय तक आर्थिक मंदी का माहौल रहा। हालांकि, महंगाई अब भी देश में बहुत बढ़ी ही है। जिससे भारत की ग्रोथ गिरने की आशंका पहले से ही थी। इसी बीच IMF द्वारा हाल ही में आर्थिक विकास दर यानी GDP ग्रोथ को लेकर अनुमान जताया गया है। जिसके अनुसार, IMF ने लगाए गए अनुमान को घटा दिया है।

IMF ने दी जानकारी :

दरअसल, इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (IMF) द्वारा भारत की आर्थिक विकास दर यानी भारत की GDP ग्रोथ का जो अनुमान जताया गया है। उसे पहले की तुलना में घटा दिया गया है। IMF ने इस अनुमान को 8.2% से घटाकर 7.4% कर दिया है। इसका बड़ा कारण युक्रेन और भारत के बीच जारी जंग को ही बताया जा रहा है। इतना ही नहीं IMF ने देश में बढ़ रही महंगाई को लेकर चेतावनी भी जारी की है। IMF ने कहा कि, 'यूक्रेन युद्ध ने दुनिया को मंदी के कगार पर पहुंचा दिया है। अप्रैल में जारी 3.6% के पूर्वानुमान से 2022 में ग्लोबल रियल GDP ग्रोथ धीमी होकर 3.2% हो जाएगी। चीन और रूस में मंदी के कारण दुनिया की जीडीपी वास्तव में दूसरी तिमाही में सिकुड़ी है।' बता दें, IMF ने अपने वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक का अपडेट देते हुए यह जानकारी दी है।

IMF की वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक अपडेटेड रिपोर्ट :

IMF ने जुलाई 2022 के वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक (World Economic Outlook) की अपडेटेड रिपोर्ट में कहा है कि, 'महामारी और रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण संकट में फंसी वैश्विक अर्थव्यवस्था अनिश्चित हालात और आउटलुक का सामना कर रही है। साल 1970 के बाद से ग्लोबल ग्रोथ केवल पांच बार 2% से नीचे दर्ज हुई है। इन 5 सालों में 1973, 1981 और 1982, 2009 और 2020 में COVID-19 महामारी की वजह से मंदी आई है।' रिपोर्ट में IMF ने 2022 में वैश्विक अर्थव्यवस्था की ग्रोथ रेट घटकर 3.2% रहने का अनुमान लगाया है जो पिछले साल 6.1% था। ग्लोबल ग्रोथ रेट 2022 में 3.2% और 2023 में 2.9% रहने की संभावना है। जबकि, यह अप्रैल, 2022 में वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक में जताये गये अनुमान से क्रमश: 0.4% और 0.7% कम है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co