P. Chidambaram Estimated India's GDP
P. Chidambaram Estimated India's GDP|Kavita Singh Rathore -RE
अर्थव्यवस्था

पी. चिदंबरम ने भारत की GDP का अनुमान बताया

चालू वित्त वर्ष में IMF ने भारत की GDP के आनुमानिक आंकड़ें घटा दिए। वहीं IMF के आंकड़ों और डॉ. गीता गोपीनाथ की बात पर पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने भी भारत की GDP के आंकड़ों की भविष्वाणी कर डाली।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • IMF ने GDP के आनुमानिक आंकड़ें घोसित किये

  • पी. चिदंबरम ने भारत की GDP का अनुमान बताया

  • GDP की ग्रोथ के आंकड़ें 4.8% रहने का अनुमान लगाया गया

  • डॉ. गीता गोपीनाथ ने भी की GDP के आंकड़ों में कमी

राज एक्सप्रेस। हाल ही में इंटरनेटिनॉल मोनेटरी फंड (IMF) ने GDP के आनुमानिक आंकड़ें घोषित किये थे। IMF द्वारा लगाए गए अनुमान के अनुसार, वित्त वर्ष 2019-20 में भारत की GDP की ग्रोथ के आंकड़ें 4.8% रहने का अनुमान लगाया गया। जानकारी के लिए बता दें कि, GDP की ग्रोथ का अनुमान बताने वाली एजेंसियों में IMF लगातार 9वीं एजेंसी जिसने ग्रोथ का अनुमान कम बताया है। वहीं अब जमानत पर जेल से बाहर आये कांग्रेसी नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने भारत की GDP का अनुमान बताया है।

चिदंबरम का अनुमान :

पी. चिदंबरम द्वारा लगाए गए अनुमान के अनुसार, GDP की ग्रोथ 5% से कम लगभग 4.8% के आसपास रहने की असंका है। उन्होंने यह भविष्यवाणी अपने ऑफीशियल ट्वीटर अकाउंट से ट्वीट द्वारा की। उन्होंने कहा कि, "मैंने ट्वीट किया है अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से रियलिटी चेक। 2019-20 में वृद्धि 5% से कम 4.8% होगी। यहां तक ​​कि 4.8% भी कुछ विंडो ड्रेसिंग के बाद है।" उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में कहा कि, "अगर यह और भी कम हो जाए तो मुझे आश्चर्य नहीं होगा आईएमएफ की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ नोटबंदी की सबसे पहले निंदा करने वालों में से एक थीं। मुझे लगता है कि, हमें IMF और डॉ. गीता गोपीनाथ पर सरकार के मंत्रियों के हमले के लिए खुद को तैयार कर लेना चाहिए।"

कौन हैं डॉ. गीता गोपीनाथ :

पी. चिदंबरम द्वारा किये गए ट्वीट में जिन डॉ. गीता गोपीनाथ का जिक्र किया गया है, वो इंटरनेटिनॉल मोनेटरी फंड (IMF) की चीफ इकोनॉमिस्ट (मुख्य अर्थशास्त्री) है। उन्होंने भारत की GDP ग्रोथ को लेकर अपने अनुमान में काफी कमी बताई थी। डॉ. गोपीनाथ ने कहा था कि, "कॉर्पोरेट टैक्स दर में कटौती के चलते अगले साल भारत की अर्थव्यवस्था में सकारात्मक असर दिख सकता है।"

डॉ. गीता गोपीनाथ का अनुमान :

IMF की चीफ इकनॉमिस्ट गीता गोपीनाथ द्वारा दिसंबर में अनुमान बताया गया था, साथ ही कहा गया था कि, "भारत की ग्रोथ फोरकास्ट जनवरी में होने वाले रिव्यू में 'काफी' कम की जा सकती है। वहीं बीते हफ्ते यूनाइटेड नेशंस ने वित्त वर्ष 2020 में भारत की GDP की दर का अनुमान 5.7% से भी घटाकर 5% रहने का बताया था। आपको बताते चलें कि, डॉ. गीता गोपीनाथ अकेली नहीं हैं जिन्होंने GDP की ग्रोथ में कमी बताई है इससे पहले सरकारी सांख्यिकी विभाग द्वारा भी GDP की ग्रोथ 5% और वर्ल्ड बैंक द्वारा भी GDP की ग्रोथ 5% रहने का अनुमान बताया गया था।

IMF के आनुमानिक आंकड़ें :

आपको बता दें कि, IMF द्वारा बीते सोमवार भारत की GDP ग्रोथ के चालू वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आनुमानिक आंकड़ें जारी किये गए, जिनके अनुसार, भारत की GDP ग्रोथ 1.3% घटा दी गई है अर्थात 4.8% रहने की आशंका जताई जा रही है। वहीं यही दर अक्टूबर में 6.1% होने का अनुमान लगाया गया था। वहीं इन आंकड़ों का सबसे कम अनुमान SBI और फिच ने लगाया है। उनके अनुसार यह आंकड़ें 4.6% रहने वाले हैं। इन दोनों का अनुमान IMF के अनुमान के बाद लगाया गया सबसे कम अनुमान है। वहीं IMF द्वारा ग्लोबल ग्रोथ का अनुमान 3% से कम करते हुए 2.9% बताया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co