डॉलर के मुकाबले रुपये में नज़र आई मजबूती
डॉलर के मुकाबले रुपये में नज़र आई मजबूती Syed Dabeer Hussain - RE

लगातार काफी समय की गिरावट के बाद डॉलर के मुकाबले रुपये में नज़र आई मजबूती

बीते कुछ समय में रूपये में डॉलर के मुकाबले अब तक रिकॉर्ड स्तर की गिरावट दर्ज हो चुकी है। हालांकि, आज गुरुवार को डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती देखने को मिली है।

राज एक्सप्रेस। आज पूरे विश्व में सिर्फ एक ही मामले की चर्चा है और वह है यूक्रेन और रूस के बीच चल रहा युद्ध। इस युद्ध के चलते सबसे ज्यादा असर शेयर मार्केट पर देखने को मिला है पर इसमें लगातार काफी समय तक भारी गिरावट देखने को मिलती रही और शेयर मार्केट (Share Market) में दर्ज हुई गिरावट का असर भारत के रूपये पर पड़ता रहा है। डॉलर के मुकाबले इसमें अब तक रिकॉर्ड स्तर की गिरावट दर्ज हो चुकी है। हालांकि, आज गुरुवार को डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती देखने को मिली है।

रुपये में दर्ज हुई मजबूती :

दरअसल, बीते काफी समय से रुपये में गिरावट का दौर जारी था, जबकि, डॉलर लगातार मजबूत होता नज़र आता रहा है।ऐसे में भारत में महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है। इसी बीच आज गुरुवार को भारतीय करेंसी में कुछ रिकवरी दिखाई दी है और भारतीय रुपये अमेरिकी डॉलरकी तुलना में 67 पैसे मजबूती के साथ बंद हुआ। जबकि, मंगलवार को रुपया डॉलर की तुलना में 7 पैसे की तेजी के साथ बंद हुआ था। वहीँ, आज भारतीय रुपया 67 पैसे मजबूती के साथ 82.14 रुपये प्रति डॉलर पर आ पहुंचा है।

पिछला ट्रेडिंग सेशन :

पिछले ट्रेडिंग सेशन की बात करें तो, उस दौरान डॉलर की तुलना में रुपये की कीमत 82.81 पर जाकर बंद हुई थी और आज शुरुआती ट्रेड में इसकी कीमत में 82.14 रुपये प्रति डॉलर का लेवल देखने को मिल गया। जबकि, बुधवार को फॉरेक्स मार्केट दीवाली के चलते बंद थे। भारत में रुपये में आई मजबूती से ट्रेडर्स को राहत मिली है। इससे करेंसी मार्केट में भी रुपये को सपोर्ट मिल रहा है। जिससे इसकी कीमत में सुधार देखा गया है। उधर इंटरबैंक फॉरेन करेंसी एक्सचेंज की बात करें तो वहां, घरेलू करेंसी 82.15 के लेवल पर खुली। जबकि, मंगलवार से ही यहां हल्की तेजी देखने को मिल रही है।

जानकारों का कहना :

करेंसी मार्केट की जानकारी रखने वाले जानकारों का कहना है कि, 'डॉलर इंडेक्स के 110 के लेवल से नीचे जाने पर रुपये को मजबूती मिली और ये बढ़त के साथ खुलने में कामयाब रहा।डॉलर की कीमतों में गिरावट के पीछे कारण बताया जा रहा है कि आगामी महीने यानी नवंबर 2022 में अमेरिका में फेडरल रिजर्व के दरों में उम्मीद से कम बढ़ोतरी का अनुमान है और इस रुझान का असर डॉलर के दाम पर देखा जा रहा है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co