ED issues notice against Anil Ambani
ED issues notice against Anil Ambani |Kavita Singh Rathore -RE
व्यापार

यस बैंक मामले में ED ने अनिल अंबानी के खिलाफ किया नोटिस जारी

हाल ही में यस बैंक के फाउंडर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज हुआ था वहीं, अब ED ने रिलायंस समूह के चेयरमैन अनिल अंबानी के खिलाफ नोटिस जारी किया है। अंबानी ने ED से कुछ समय की मोहलत मांगी है।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • यस बैंक के फाउंडर के खिलाफ दर्ज हुआ था मनी लॉन्ड्रिंग का मामला

  • ED ने अनिल अंबानी के खिलाफ जारी किया नोटिस

  • रिलायंस समूह से जुड़ी कंपनियों ने लिया था यस बैंक से 12,800 करोड़ रुपये कर्ज

  • Yes बैंक के फाउंडर के घर पर हुई थी ED की छापेमारी

राज एक्सप्रेस। रिलायंस समूह के चेयरमैन अनिल अंबानी की मुश्किलें तो जैसे थमने का नाम ही नहीं ले रही हैं। कुछ समय पहले ही उनकी कंपनी अपनी दीवालिया प्रोसेस से गुजर रही थी। वहीं, अब अनिल अंबानी पर एक और नई मुसीबत मंडराती हुई नजर आ रही है। दरअलस, हाल ही में यस बैंक के फाउंडर राणा कपूर और उनसे जुड़े कुछ अन्य लोगों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज हुआ था। बता दें कि, इस मामले की जांच प्रवर्तन निदेशालय (ED) कर रही है और इसी मामले में आज (सोमवार) ED ने अनिल अंबानी के खिलाफ एक नोटिस जारी किया है।

बैंक से लिया था लोन :

नोटिस जारी होने के बाद अनिल अंबानी ने ED से अपने स्वास्थ्य का हवाला देते हुए छूट मांगी है। उन्हें नई तारीख मिलने की उम्मीद है। वहीं, आज यस बैंक के फाउंडर राणा कपूर की भी कोर्ट में पेशी है। बता दें कि, रिलायंस समूह की अन्य कंपनियों द्वारा यस बैंक से लगभग 12,800 करोड़ रुपये कर्ज लिया गया था, इन कंपनियों द्वारा लिए गए कर्ज की यह रकम NPA हो गई थी। अनिल अंबानी की कंपनी द्वारा कर्ज लेने की बात वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने छह मार्च की हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताई थी। उन्होंने यस बैंक से कर्ज लेने वाले नामों में अनिल अंबानी ग्रुप सहित एस्सेल, ILFS, DHFL और वोडाफोन आदि ग्रुप का नाम बताया था।

प्रमोटर्स को बुलाया गया पूछताछ के लिए :

अधिकारियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, अनिल अंबानी ग्रुप सहित एस्सेल, ILFS, DHFL और वोडाफोन आदि सभी बड़े ग्रुप के प्रमोटर्स को जांच एजेंसी द्वारा पूछताछ करने के लिए बुलाया गया है। उनसे इस बारे में पूछताछ की जाएगी कि, उन्होंने कर्ज लेकर वापस क्यों नहीं लौटाया। वहीं, इन सब के बीच यस बैंक के लिए एक अच्छी खबर यह है कि, बैंक पर लगे सभी प्रतिबंध 18 मार्च को हट जाएंगे। ऐसे में बैंक के पुनर्गठन के बाद पूंजी 6,200 करोड़ रूपये होगी और बैंक की शेयर वेल्यू 2 रूपये। इसके अलावा बैंक की अधिकृत शेयर पूंजी 200 करोड़ रूपये ही रहेगी। बैंक के लिए नियुक्त प्रशासक बैंक को 7 दिनों के लिए खाली करवाएगा।

निदेशक मंडल संभालेगा कार्यभार :

सरकार द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार, मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक प्रशांत कुमार की अगुवाई वाला निदेशक मंडल मार्च के अंत तक कार्यभार संभाल लेगा।

Yes बैंक के फाउंडर के घर पर हुई थी ED की छापेमारी :

यस बैंक के पूर्व प्रमोटर और डायरेक्टर राणा कपूर के खिलाफ मामला दर्ज होते ही ED की टीम 6 मार्च देर रात उनके घर उनके मुंबई स्थित समुद्र महल टॉवर क्षेत्र वाले घर पर छापा मरने पहुंची थी। ED की टीम काफी रात तक उनके घर की छानबीन करती रही थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co