Apple Smartwatch
Apple SmartwatchRaj Express

अमेरिकी बैन के बाद भी 17 अरब डॉलर का स्मार्टवॉच कारोबार बचाने के प्रयास में जुटा टेक दिग्गज एप्पल

एप्पल स्मार्टवॉच सीरीज़ 9 और अल्ट्रा 2 में मौजूद फीचर को लेकर पेटेंट विवाद शुरु हो गया है। मैसिमो का दावा है एप्पल ने उसके पेटेंट का उल्लंघन किया है।

हाईलाइट

  • स्मार्टवॉच सीरीज़-9 व अल्ट्रा-2 के ब्लड ऑक्सीजन फीचर को लेकर पेटेंट विवाद

  • स्मार्टवॉच पर प्रतिबंध से पहले सॉफ्टवेयर में बदलाव में जुटे एप्पल के इंजीनियर

  • पेटेंट का समाधान न मिला, तो रूक सकती है सीरीज़-9, अल्ट्रा-2 की बिक्री

  • ऐसा हुआ को अमेरिकी टेक दिग्गज को उठाना पड़ सकती है भारी आर्थिक हानि

राज एक्सप्रेस । एप्पल की स्मार्टवॉच सीरीज़ 9 और अल्ट्रा 2 में मौजूद ब्लड ऑक्सीजन फीचर को लेकर एक पेटेंट विवाद पैदा हो गया है। मेडिकल टेक्नोलॉजी कंपनी मैसिमो का दावा है कि एप्पल ने उनके पेटेंट का उल्लंघन किया है। इस वजह से अमेरिकी अंतर्राष्ट्रीय व्यापार आयोग (आईटीसी) ने एप्पल के आयात पर रोक लगाने का आदेश दिया था। हालांकि, इस समय अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन इस फैसले की समीक्षा कर रहे हैं। माना जा रपहा है कि इस पर 25 दिसंबर तक अंतिम निर्णय आ सकता है। इस ताजा विवाद ने एप्पल की चिंताओं को बढ़ा दिया है।

इंजीनियरों से कहा समस्या का समाधान खोजिए

उसने अपने इंजीनियरों को इस समस्या का समाधान ढूंढने के लिए तेजी से काम करने के लिए कहा है। कंपनी चाहती है कि उसके इंजीनियर एप्पल सॉफ्टवेयर में इस तरह बदलाव करें कि अगर आयात रोक का आदेश लागू भी हो जाता है, तो भी वह अमेरिकी बाजार में अपनी स्मार्टवॉच की बिक्री जारी रख सके। इस समय एप्पल के इंजीनियर यूजर्स के रक्त और ऑक्सीजन स्तर को मापने वाले डिवाइस की एल्गोरिदम में बदलाव करने की कोशिश में जुटे हुए हैं। यह ऐसी सुविधा है, जिसके बारे में मासिमो ने तर्क दिया है कि यह उसके पेटेंट का उल्लंघन करता है।

बड़ी दिक्कत यह, बैन लगने में कुछ ही दिन बचे

दिग्गज टेक कंपनी एप्पल के लिए दिक्कत की बात यह है कि स्मार्टवॉच पर अमेरिकी सरकार के प्रतिबंध लागू होने में कुछ ही दिन बाकी बचे हैं। इस बारे में माना जा रहा है अमेरिकी सरकार 25 दिसंबर तक अपना फैसला सुना सकती है। एप्पल प्रबंधन इस तैयारी में जुटा है अगर विपरीत फैसला भी आए तो भी उसका 17 अरब डॉलर के स्मार्टवॉच कारोबार निर्बाध रूप से जारी रह सके। इसी लिए अब कंपनी स्मार्टवाच का अस्तित्व बनाए रखने के लिए नई रणनीति पर काम कर रही है। एप्पल के बचाव मिशन मे्ं सॉफ्टवेयर फिक्स और अन्य संभावित समाधान शामिल हैं।

कई देशों में पहले ही प्रतिबंधित है एप्पल

दिक्कत की बात यह है कि यह एप्पल द्वारा पहले किए गए किसी भी प्रयास के विपरीत एक उच्च-स्तरीय इंजीनियरिंग प्रयास है। हालाँकि आईफोन उत्पादों के निर्माता को कानूनी विवादों के कारण कुछ देशों में पहले ही प्रतिबंधित किया जा चुका है, पर इस प्रतिबंध से एप्पल को अपने ही देश में बड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा। व्हाइट हाउस के अंतिम समय के वीटो के बिना, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार आयोग द्वारा लगाया गया प्रतिबंध 25 दिसंबर से प्रभावी हो जाएगा। एप्पस अपनी स्मार्टवॉच में शामिल ब्लड ऑक्सीजन फीचर से जुड़े पेटेंट विवाद को लेकर कुछ अलग रास्ते अपने की कोशिश कर रहा है।

मैसिमो के साथ समझौता अंतिम विकल्प

एक अंतिम उपाय के रूप में एप्पल अपनी प्रतिद्वंदी कंपनी मैसिमो के साथ समझौता भी कर सकता है। हालांकि, अब तक दोनों कंपनियों के बीच इस विषय पर कोई बातचीत शुरू नहीं हुई है। फिलहाल, एप्पल अपना ध्यान सरकारी नियमों का पालन करते हुए अपनी तकनीक में बदलाव लाने पर लगा हुआ है। इसका मतलब यह है कि एप्पल फिलहाल समझौता करने के बजाय, खुद ही इस समस्या का समाधान ढूंढने की कोशिश कर रहा है। एप्पल अपनी स्मार्टवॉच की तकनीक में जरूरी बदलाव करके पेटेंट का उल्लंघन नहीं करते हुए ब्लड ऑक्सीजन फीचर को लागू करना चाहता है।

हल अपने स्तर पर निकालना चाहता है एप्पल

एप्पल अमेरिकी अंतर्राष्ट्रीय व्यापार आयोग जैसे सरकारी नियामकों को इस बात के लिए मनाने की कोशिश कर रहा है कि उसके डिवाइस नियमों का समुचित पालन करते हैं। कंपनी सूत्रों ने बताया मैसिमो के साथ समझौता नहीं करने की एप्पल की जिद, कोई और विकल्प नहीं बचने की स्थिति में भविष्य में बदल भी सकती है। कोई और विकल्प नहीं बचने की स्थिति में एप्पल मैसिमो से समझौता करने पर भी विचार कर सकता है। फिलहाल लोगों की नजरें इस बात में लगी हैं कि आखिरकार एप्पल इस मुद्दे का समाधान किस तरह करता है। उसकी स्मार्टवॉच अमेरिकी बाजार में उपलब्ध होगी या फिर यह अतीत की कहानी में तब्दील हो जाएगी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co