मई में खुदरा महंगाई दर 5.3% रहने का अनुमान
मई में खुदरा महंगाई दर 5.3% रहने का अनुमानKavita Singh Rathore -RE

मई में खुदरा महंगाई दर 5.3% रहने का अनुमान

इस साल मई का महीना भी भारत के लिए लिए कुछ खास नहीं रहने वाला। इसी बीच देश में खुदरा महंगाई दर मई में 5.3% से रहने की आशंका जताई गई है। सरकार द्वारा जल्द ही खुदरा महंगाई के आंकड़े जारी किए जा सकते हैं।

राज एक्सप्रेस। कोरोना वायरस के चलते सभी देशों के लिए साल 2020 काफी बुरा साबित हुआ था। इस साल के बीते महीने भी कुछ ज्यादा खास नहीं रहे हैं। ऐसा ही कुछ हाल भारत का भी है। भारत में बढ़ती महंगाई और खाने-पीने की चीजों और फैक्ट्री उत्पादों की कीमतें बढ़ती हुए देख कर लग रहा है कि, इस साल मई का महीना भी भारत के लिए लिए कुछ खास नहीं रहने वाला है। इसी बीच देश में खुदरा महंगाई दर मई में 5.3% से रहने की आशंका जताई गई है। सरकार द्वारा जल्द ही खुदरा महंगाई के आंकड़े जारी किए जा सकते हैं।

खुदरा महंगाई दर :

दरअसल, देश में खाने-पीने की चीजों और फैक्ट्री उत्पादों की कीमतें बढ़ने से मई में खुदरा महंगाई दर में लगभग 1% की बढ़त दर्ज ही सकती है। इस बढ़त के बाद खुदरा महंगाई की दर मई के महीने में 5.3% से ज्यादा होने की आशंका जताई गई है, जबकि अप्रैल के दौरान खुदरा महंगाई 4.29% थी, जो तीन महीने में सबसे कम रही। इस मामले में अर्थशास्त्री कुणाल कुंडू का कहना है कि, 'कई राज्यों में चुनाव के चलते अप्रैल में पेट्रोल की कीमतों पर नियंत्रण रहा। उनमें कोई बदलाव नहीं हुआ। इस दौरान क्रूड की कीमतों में बढ़ोतरी के बावजूद पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों में इजाफा नहीं हुआ।'

4 से 9 जून के बीच किया गया सर्वे :

यदि पेट्रोल डीजल की कीमतों की तो, सिर्फ मई में ही चुनाव होने के तुरंत बाद पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कुल 7 बार बढ़त दर्ज की गई है। इस बढ़त का सीधा असर मई की खुदरा महंगाई दर पर भी पड़ सकता है। इस बात का अंदाजा लगाने के लिए 4 से 9 जून के एक सर्वे किया गया था। जिसमें 40 अर्थशास्त्री शामिल हुए थे। इन सभी ने एक राय देते हुए कहा कि, 'मई में खुदरा महंगाई दर अप्रैल के मुकाबले एक फीसदी बढ़कर 5.30 फीसदी पहुंच सकती है।'

ICICI सिक्योरिटीज का कहना :

ICICI सिक्योरिटीज के अभिषेक उपाध्याय का कहना है कि, 'संक्रमण की दूसरी लहर का आपूर्ति श्रृंखला पर ज्यादा असर नहीं पड़ा है, बल्कि वैश्विक स्तर पर बढ़ती महंगाई का भारत पर ज्यादा प्रभाव दिख रहा है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.