गोरेगांव में चलाया जा रहा था फर्जी कॉल सेंटर
गोरेगांव में चलाया जा रहा था फर्जी कॉल सेंटरSocial Media

भंडाफोड़ : गोरेगांव में ‘वन 721 ग्लोबल सर्विस लिमिटेड’ नाम से चलाया जा रहा था फर्जी कॉल सेंटर

महाराष्ट्र के गोरेगांव से एक फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ हुआ है। जो ‘वन 721 ग्लोबल सर्विस लिमिटेड’ नाम से चलाया जा रहा था।

महाराष्ट्र, भारत। कोरोना काल में जब बहुत से लोगों की नौकरी चली गई थी। इसके बाद से तो जैसे देश में अपराधों के सिलिसला ही शुरू हो गया। क्योंकि, इस दौरान बहुत से लोगों ने गलत रास्ते को भी चुन लिया था। लोग गलत रास्ता अपनाते हए फर्जीवाड़ा करते हुए पैसा कमाना चाहते हैं। इसके लिए लोग फ्रोड कॉल करते हुए लोगों के बैंकों के अकाउंट से पैसा उड़ा लेते हैं। इतना ही नहीं अब तो कुछ अपराधिक सोच रखने वाले लोग इस हद्द पर उतर आए है कि, फर्जी कॉल सेंटर तक चलाने लगे हैं। जी हां, महाराष्ट्र के गोरेगांव से एक फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ हुआ है। जो ‘वन 721 ग्लोबल सर्विस लिमिटेड’ नाम से चलाया जा रहा था।

गोरेगांव में चल रहा था फर्जी कॉल सेंटर :

आपने जामताड़ा (Jamtara) वेब सीरीज तो देखी ही होगी। इस सीरिज में कुछ लोग फर्जी कॉल करके लोगों से पैसा लूटते हैं। ठीक इसी तर्ज पर महाराष्ट्र के गोरेगांव से एक हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है कि, खबर यह है कि, यहां एक आलीशान इमारत में एक फर्जी कॉल सेंटर का संचालन किया जा रहा था। जो कि, ‘वन 721 ग्लोबल सर्विस लिमिटेड’ नाम से चलाया जा रहा था। यहां फर्जी लोगों की एक टीम भी काम करती थी जो लोगों के पैसे उड़ाकर लोगों के साथ ठगी की वारदात को अंजाम देते थे। इन लोगों ने मिलकर फर्जी कॉल के माध्यम से चार करोड़ रुपये की ठगी की। मुंबई पुलिस द्वारा मंगलवार को की गई कार्रवाई के बाद इस मामले का भंदाफोड़ते हुए छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

अधिकारी ने दी इसकी जानकारी :

बताते चलें, इस मामले की जानकारी मुंबई पुलिस के एक अधिकारी ने दी है। अधिकारी ने विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि, 'मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने सोमवार रात एसवी रोड पर डीएलएच पार्ट स्थित एक कार्यालय पर छापेमारी की। आरोपी विदेशी मुद्रा शेयरों, मुद्रा और कमोडिटी ट्रेडिंग के एक्सपर्ट बनकर लोगों को सोशल नेटवर्किंग साइट्स के जरिए आमंत्रित करते थे और लोगों को व्यापार शुरू करने के लिए अपने खाते में 200 अमेरिकी डॉलर जमा करने का लालच देते थे। जांच में पाया गया कि आरोपियों ने लोगों से चार करोड़ रुपये की ठगी की है और छापेमारी में छह लैपटॉप और अन्य सामग्री जब्त की गई।'

पुलिस उपायुक्त ने बताया :

पुलिस उपायुक्त कृष्णकांत उपाध्याय ने बताया है कि, 'आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता (IPC) और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 420 (धोखाधड़ी) व अन्य प्रावधानों के तहत मामला दर्ज करते हुए गिरफ्तारी की गई है।'

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co