कंपनियों के लिए कई बार दोधारी तलवार साबित होता है मशहूर कारोबारी वॉरेन बफेट का निवेश

वॉरेन बफेट द्वारा किया जाने वाला निवेश कंपनियों के लिए दोधारी तलवार की तरह साबित होता है। वह कंपनियों को परेशानी से उबारते हैं तो परेशानी में भी डालते हैं।
Warren Buffett
Warren Buffett Raj Express

हाईलाइट्स

  • बफेट निवेश के लिए आगे बढ़ें तो खुश हो जाता है कंपनी प्रबंधन

  • यह चिंता भी रहती है जिस दिन दूर गए खडी हो जाएंगी मुश्किलें

  • मतलब वह साथ रहें तो लाभ, दूर जाना खड़ी कर देता है कठिनाइयां

राज एक्सप्रेस । प्रख्यात निवेशक वॉरेन बफेट द्वारा किया जाने वाला निवेश कंपनियों के लिए दोधारी तलवार की तरह साबित होता है। जब वह किसी कंपनी में निवेश की पहल करते हैं उन कंपनियों के वरिष्ठ अधिकारी खुश होने की जगह चिंता में पड़ जाते हैं। जापान की ट्रेडिंग कंपनियों ने इसकी वजह को स्पष्ट किया है। वारेन बफेट की कंपनी बर्कशायर हैथवे इंक ने अगस्त 2020 में इन कंपनियों में हिस्सेदारी खरीदी थी। इसके बाद उन कंपनियों की अंतरराष्ट्रीय प्रोफ़ाइल में इजाफा हुआ और इसकी वजह से अन्य निवेशक भी इन कंपनियों की ओर आकर्षित हुए। अगले चार सालों में, पाँच कंपनियों ने व्यापक बाज़ार में बहुत बेहतर प्रदर्शन किया। लेकिन बात केवल इतनी ही नहीं है।

इस वजह से अक्सर संकट में पड़ जाती हैं कंपनियां

इसका दूसरा पहलू भी है, जिसकी वजह से वे कंपनियां अक्सर संकट में पड़ जाती हैं, जिनमें बफेट निवेश करते हैं। उदाहरण के लिए जब बर्कशायर हैथवे ने पिछले साल बढ़ते भूराजनीतिक जोखिमों के कारण ताइवान की सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में अपनी हिस्सेदारी घटाई, तो चिप निर्माता कंपनी के शेयरों में तेजी से गिरावट देखने को मिली। क्योंकि अन्य निवेशकों ने भी वारेन बफेट के फैसले का अनुसरण किया और बड़े पैमाने पर शेयरों की बिकवाली की। उस उदाहरण को ध्यान में रखते हुए, जापान की कंपनियाँ अब बफ़ेट द्वारा हिस्सेदारी बेचने का निर्णय लेने पर इसके नकारात्मक प्रभाव को कम करने की कोशिश करने के लिए कदम उठा रही हैं।

जोखिम को देखते हुए हमने शुरू की बचाव की तैयारी

सुमितोमो कॉर्प के निवेशक संबंधों के प्रमुख योशिनोरी ताकायामा ने कहा हमें नहीं लगता कि बर्कशायर हमारे शेयरों को हमेशा के लिए अपने पास रखेगा। उन्होंनें कहा हम बिकवाली के जोखिमों को ध्यान में रखते हुए अपने शेयरधारकों में विविधता लाने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन हम जानते हैं ऐसा करना आसान काम नहीं है। बर्कशायर देश की सभी पाँच सबसे बड़ी व्यापारिक कंपनियों में सबसे बड़े शेयरधारकों में से एक है। इटोचू कॉर्प, सुमितोमो कॉर्प, मित्सुबिशी कॉर्प, मित्सुई एंड कंपनी और मारुबेनी कॉर्प में बर्कशायर की हिस्सेदारी 7.5% से 8.4% के बीच है। बर्कशायर ने ऐसा कोई संकेत नहीं दिया है कि वह इन कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी बेचने की योजना बना रहा है।

जापान में वारेन बफेट ने किया है बड़े पैमाने पर निवेश

वारेन बफेट ने अधिकारियों के साथ बैठक के लिए पिछले साल के अप्रैल माह में जापान की यात्रा की थी और उसके बाद व्यापारिक कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाई थी। बर्कशायर ने जापान में कुल 1.3 ट्रिलियन येन (8.8 बिलियन डॉलर) के बांड बेचकर धन जुटाया है। इसमें से उसने पिछले साल नवंबर में 122 अरब येन जुटाए थे। वारेन बफेट ने कहा है कि वह जापानी शेयरों में अधिक एक्सपोजर चाहते हैं, लेकिन जब तक कंपनियों के बोर्ड द्वारा विशिष्ट मंजूरी नहीं दी जाती, तब तक वह ट्रेडिंग कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी अधिकतम 9.9% तक सीमित रखेंगे। इसके अलावा, बफेट इस बात के लिए भी मशहूर हैं कि वह कंपनियों को चलाने के लिए प्रबंधन पर भरोसा करते हैं।

बाजार को आश्वस्त करता है उनका प्रबंधन को समर्थन

उनका प्रबंधन को यह समर्थन व्यापक बाजार को आश्वस्त कर सकता है, जैसा कि 2008 में वित्तीय संकट की चरम स्थिति में हुआ था, जब उन्होंने गोल्डमैन सैक्स में हिस्सेदारी ली थी। उन्होंने 2015 में बर्कशायर द्वारा प्रिसिजन कास्टपार्ट्स कॉर्प के अधिग्रहण के भुगतान के लिए बैंक में अपनी हिस्सेदारी कम कर दी थी। अधिकांश जापानी व्यापारिक फर्मों की जड़ें 19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में हैं, जब देश ने समुराई शासन को समाप्त कर दिया था और औद्योगीकरण और पश्चिमी प्रथाओं को अपनाने के माध्यम से विकास की मांग की जा रही थी। उनका मुनाफा ऐतिहासिक रूप से मजबूत कमोडिटी बाजारों द्वारा संचालित रहा है। पिछले साल, भोजन और बुनियादी ढांचे में विविधता से कमाई में मदद मिली थी।

ताइवान की तुलना में जापान में निवेश के हिमायती हैं बफेट

ब्लूमबर्ग द्वारा संकलित आंकड़ों और निवेश की घोषणा के समय शेयर कीमतों का उपयोग करके गणना के अनुसार बफेट ने कंपनियों में लगभग 1.3 ट्रिलियन येन का निवेश किया है। उनकी हिस्सेदारी वर्तमान में लगभग 3.2 ट्रिलियन येन की है। टीएंडडी एसेट मैनेजमेंट के मुख्य रणनीतिकार हिरोशी नामिओका ने कहा, जब शेयर की कीमत अधिक हो जाती है और निवेश कम आकर्षक हो जाता है तो बारेन बफेट के लिए शेयरों को बेचना असंभव नहीं है। उन्होंने कहा बाजार को बफेट के विभिन्न कंपनियों के शेयर बिकने की उम्मीद नहीं है, लेकिन चूंकि उनकी शैली मूल्य निवेश की है, इसलिए इस संभावना को खारिज भी नहीं किया जा सकता है। बर्कशायर ने जापानी कंपनियों में अपने निवेश पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

चीन-अमेरिका तनाव से बफेट ने एसएमसी में कम किया हिस्सा

वारेन बफ़ेट ने कहा वह ताइवान के बजाय जापान में निवेश करना ज्यादा पसंद करते हैं, क्योंकि वहां चीन और अमेरिका के बीच तनाव से व्यापार बाधित होने का जोखिम कम है। उन्होंने इसी कारण से टीएसएमसी में अपनी हिस्सेदारी कम की है। उनके बातों, निवेश का बाजार पर कितना असर पड़ता है, यह समझने के लिए यह उदाहरण काफी है। एक बार जब उन्होंने ताइवानी कंपनी को दुनिया में सबसे प्रबंधित कंपनियों में से एक बताया, तब से टीएसएमसी के शेयरों में तेजी देखने को मिली है। अपने शेयरधारक आधार को व्यापक बनाने के अलावा, कंपनियां कमाई बढ़ाने और निवेशकों को आकर्षित करने के लिए नए नए उपाय भी कर रही हैं।

अपने शेयर धारक आधार में विस्तार कर रही हैं कंपनियां

कंपनी के निवेशक संबंध प्रभाग के महाप्रबंधक हिदेकी कोनिशी के अनुसार, मित्सुई शेयरधारकों के साथ बातचीत में स्वास्थ्य देखभाल और ऊर्जा जैसे क्षेत्रों पर प्रकाश डाल रही है। मित्सुबिशी और मारुबेनी के निवेशक संबंध अधिकारियों ने भी कहा कि कंपनियां अपने शेयरधारक आधार का विस्तार करने की कोशिश कर रही हैं। मित्सुबिशी ने अपने शेयर की कीमत कम करने और अधिक खुदरा निवेशकों को आकर्षित करने के लिए तरह-तरह के उपाय किए हैं। बायबैक ने इटोचू को अपने शेयरों का सबसे बड़ा धारक बनाने में मदद की है।

अर्निंग पोटेंशियल से कम होगा उनके जाने का नकारात्मक प्रभाव

टोकई टोक्यो रिसर्च इंस्टीट्यूट के वरिष्ठ विश्लेषक हिदेकी कुरीबारा के अनुसार, कंपनियों की अर्निंग पोटेंशियल ही अंततः बर्कशायर द्वारा होल्डिंग्स को कम करने से पैदा होने वाले नकारात्मक प्रभावों को कम करने में सहायक हो सकता है। कुरीबारा ने कहा कंपनियों का मुनाफ़ा ढांचा अच्छा है। यदि बफ़ेट कभी भी कंपनी से दूरी बनाने का निर्णय लेते हैं, तो बेहतर प्रबंधन के साथ-साथ वस्तुओं से परे विस्तार और डीकार्बोनाइजेशन में समर्थन बढ़ेगा। अगर बफेट अपना हिस्सा बेचते हैं, तो स्वाभाविक रूप से कुछ निवेशक इसका अनुसरण करेंगे, लेकिन मेरा मानना है कि कमाई जैसे बुनियादी सिद्धांत ही अधिक महत्वपूर्ण हैं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

और खबरें

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co