Raj Express
www.rajexpress.co
Flying Car in India
Flying Car in India|Kavita Singh Rathore -RE
व्यापार

जल्द ही भारत में उड़ेगी फ्लाइंग कार, गुजरात में लगेगा इनका प्लांट

अब जल्द ही भारत के गुजरात में उड़ने वाली कार (Flying Car in India) को असेम्बल करने वाले प्लांट लगने वाले हैं। इसके प्रस्ताव के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री द्वारा मंजूरी मिल चुकी है। जाने इसकी कीमत।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • अब भारत में आकाश में उड़ेंगी कारें

  • भारत में लगेगा फ्लाइंग कार का प्लांट

  • डच की कंपनी के अधिकारियों ने जानकारी दी

  • बहुत कम समय में तय करेगी दूरी

  • गुजरात के मुख्यमंत्री विजय ने प्रस्ताव के लिए दी मंजूरी

राज एक्सप्रेस। सड़क पर जाम में फँसे हुए क्या आपका कभी मन करता है कि, आप अपनी कार लेकर हवा में उड़ जाये? शायद यह आपको सुनने में ही अजीब लग रहा होगा, पर अब ऐसा हो सकता है, जी हां अब जल्द ही आने वाली है, हवा में उड़ने वाली कार (Flying Car in India)। इतना ही नहीं यह कारें भारत में ही असेम्बल हुआ करेंगी, इन कारों को तैयार करने के लिए जल्द ही भारत के गुजरात में नए प्लांट लगेंगे। इस प्लांट को लगाने में जापान, भारत की मदद करेगा।

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से हुई बात:

इस कार के प्लांट को लगाने हेतु डच की एक कंपनी PAL-V ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से बात भी की है, उन्होंने कंपनी के इस प्रस्ताव के लिए मंजूरी दे दी है। बताते चलें कि, दुनिया की पहली फ्लाइंग कार पेश करने वाली कंपनी PAL-V ही है। उन्होंने कंपनी को भरोसा जताया है कि, गुजरात में प्लांट लगाने के लिए उन्हें जमीन से लेकर बिजली, पानी जैसी सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। साथ ही सरकार की पूरी मदद मिलेगी।

फ़्लाइन कार की प्री-बुकिंग:

वैसे तो यह कार आम लोगों के बजट में न होने के कारण कम ही लोग खरीद सकेंगे, लेकिन फिर भी हम आपको बता दें कि, इन कारों की प्री-बुकिंग दिसंबर-2018 से ही शुरू हो चुकी है। कंपनी इन कारों को वह 2020 तक अपने पहले ग्राहक तक पहुंचने का दावा कर रही है। हालांकि, शुरूआत में यह कार ब्रिटेन, यूरोप और उत्तरी अमेरिका में ही मिल सकेंगी, यदि भारत में इसका प्लांट जल्द ही लगता है तो, एशियाई देशों में भी इस कार के मिलने की उम्मीदें बढ़ जाएंगी। यह कारें कानूनी तौर पर यूके में चलाना और उड़ाई जा सकेंगी। साथ ही इसे यूरोपीय विमानन सुरक्षा एजेंसी के नियमों के अंतर्गत प्रमाणित किया जाएगा।

इन कारों की कीमत:

यह फ्लाइंग कार की कीमत आम लोगों के बजट से काफी बहार होंगी, जी हां कंपनी ने इस कार की शुरूआती कीमत ही भारतीय करेंसी में 2 करोड़ रखी है। इसका कारण यह है कि, इन कारों के निर्माण में कंपनी अब तक लगभग 550 करोड़ रुपये का लगा चुकी है।

फ्लाइंग कार से जुडी कुछ बातें:

  • फ्लाइंग कार से दिल्ली से लखनऊ तक की दूरी दो घंटे से भी कम समय और दिल्ली से जयपुर की दूरी एक घंटे में में तय की जा सकती है।

  • अगर सड़क की बात करें तो, यह थ्री-व्हीलर फ्लाइंग कार एक बार में 1287 किमी चलाई जा सकती है।

  • अगर हवा की बात करें तो, यह कार एक बार में 482 किलोमीटर तक उड़ सकती है।

  • इन कारों का फ्यूल टैंक 100 लीटर का होगा।

  • यह कार ड्राइविंग मोड से फ्लाइंग मोड में आने के लिए मात्र 10 मिनट का समय लेगी।

  • इसे सिर्फ पेट्रोल से ही चलाया जा सकेगा।

  • इसे सड़क पर 160 किमी प्रति घंटा की रफ़्तार से चलाया जा सकता है।

  • फ्लाइंग कार को हवा में 180-190 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ाया जा सकेगा।

  • इन्हें एक निश्चित ऊंचाई तक ही उड़ाया जा सकता है।

अधिकारियों ने बताया :

इस प्लांट को लेकर डच कंपनी के अधिकारियों ने बताया है कि, कंपनी नए प्लांट्स के लिए अन्य राज्यों में भी बेहतर विकल्प की तलाश में हैं और दुनिया भर में फ्लाइंग कार का बाजार 2040 तक डेढ़ ट्रिलियन डॉलर ( भारतीय करेंसी में 1068 खरब रुपये) से ज्यादा का होने की उम्मीद की जा रही है। अधिकारियों के अनुसार, फ्लाइंग कार का भविष्य बहुत ही बेहतरीन है और इसके लिए कई देश लगातार खोज कर रहे हैं।

इस देश में उपलब्ध है फ़्लाइंग कार :

आपकी जानकारी के लिए बता दें, फ़िलहाल यह कारें जापान में उपलब्ध हैं। जापान की एक कंपनी NEC कॉर्प ने इस कार को अगस्त 2019 में लांच किया था। कंपनी ने इस कार की डिजाइन एक बड़े ड्रोन जैसी बनाई है। कंपनी ने यह कार मानवरहित फ्लाइट्स के लिए डिजाइन की थी। कार को तैयार करने के बाद इसका परीक्षण किया गया था, जिसमें पता चला कि, यह कार 10 फुट की ऊंचाई तक जाने में सफल है। इसमें चार पंखे (प्रोपेलर) दिए गए हैं।