शहर में ऑटोमोबाइल स्क्रैपिंग सुविधा विकसित करने को लेकर गडकरी ने दी जानकारी
शहर में केंद्र से 150KM के दायरे में कम से कम एक स्क्रैपिंग सुविधा विकसित करना : नितिन गडकरीRaj Express

शहर में ऑटोमोबाइल स्क्रैपिंग सुविधा विकसित करने को लेकर गडकरी ने दी जानकारी

सरकार पिछले महीने नई स्‍क्रैप (कबाड़) पॉलिसी लेकर आई थी। वहीं, अब सरकार का विचार शहर के केंद्र से 150 किलोमीटर के दायरे में कम से कम एक ऑटोमोबाइल स्क्रैपिंग सुविधा विकसित करना है।

ऑटोमोबाइल। आज दुनियाभर में इलेक्ट्रिक वाहनों का क्रेज काफी तेजी से बढ़ता चला जा रहा है। इसी के चलते हाल ही में कई नई स्टार्टअप कंपनियों ने भी अपने इलेक्ट्रिक वाहन लांच किए हैं। इन वाहनों का एक फायदा ये भी है कि, इन वाहनों से कम प्रदूषण होता है। इतना ही नहीं पिछले काफी समय से भारत सरकार भी इलेक्ट्रिक वाहनों को देश में काफी बढ़ावा दे रही है। जिसके लिए कई योजनाएं भी ला चुकी है। इसी के तहत सरकार नई स्‍क्रैप (कबाड़) पॉलिसी लेकर आई थी। वहीं, अब सरकार का विचार शहर के केंद्र से 150 किलोमीटर के दायरे में कम से कम एक ऑटोमोबाइल स्क्रैपिंग सुविधा विकसित करना है।

स्क्रैपिंग सुविधा विकसित करने पर विचार :

दरअसल, भारत में तेजी से बढ़ रहे पर्यावरण प्रदूषण को कुछ हद्द तक कम करने के लिए पेट्रोल-डीजल वाहनों की जगह इलेक्ट्रिक व्‍हीकल को सड़कों पर उतारने के लिए केंद्र सहित राज्‍य सरकारें ई-वाहन से जुड़ी नई-नई योजनाएं और नीतियां तैयार कर रही है, यह योजना स्‍क्रैप पर आधारित है। जिस प्रकार को भी वस्तु एक समय के बाद कबाड़ में तब्दील हो जाती है। ठीक उसी तरह अब इलेक्ट्रिक वाहनों को स्क्रैप में तब्दील किया जा सकेगा। इसके लिए शहर में ऑटोमोबाइल स्क्रैपिंग सुविधा का होना जरूरी है। इसी पर विचार करते हुए एक कार्यक्रम को संबोधित करने के दौरान केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को बताया है कि,

'सरकार का लक्ष्य प्रत्येक शहर के केंद्र से 150 किलोमीटर के दायरे में कम से कम एक ऑटोमोबाइल स्क्रैपिंग सुविधा विकसित करना है। राष्ट्रीय वाहन परिमार्जन नीति (national vehicle scrappage policy) भारतीय परिवहन और स्थिरता के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण पहल है। यह पुराने और अनुपयुक्त वाहनों को हटाने और चरणबद्ध तरीके से नए कम प्रदूषण वाले वाहनों की शुरूआत करने में सक्षम होगी। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री ने कहा कि मेरा लक्ष्य शहर के सभी केंद्रों से 150 किमी. की पहुंच के भीतर एक वाहन स्क्रैपिंग सेंटर विकसित करना है।'

नितिन गडकरी, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री

केंद्रीय मंत्री गडकरी का कहना :

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री गडकरी ने आगे कहा कि, 'सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने वाहन स्क्रैपिंग नीति को इस तरह से डिजाइन किया है कि, सभी प्रकार और आकार के निवेशकों को अपने स्क्रैपिंग केंद्र स्थापित करने की अनुमति मिली है। बड़ी संख्या में वाहन स्क्रैपिंग केंद्रों का विकास करते हुए हम एक शहर में वाहन स्क्रैपिंग इकाइयों के कई अधिकृत संग्रह केंद्र भी विकसित कर सकते हैं, जिनके पास वाहन का पंजीकरण रद्द करने और जमा प्रमाण पत्र जारी करने का अधिकार होगा।'

स्क्रैपिंग हब बनने की क्षमता :

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि, 'भारत में पूरे दक्षिण एशियाई क्षेत्र का एक वाहन स्क्रैपिंग हब बनने की क्षमता है। हम बांग्लादेश, भूटान, म्यांमार, मालदीव, नेपाल और श्रीलंका से बड़ी संख्या में पुराने वाहनों को अपने देश में स्क्रैप करने के लिए आयात कर सकते हैं। स्क्रैपिंग के लिए इस्तेमाल की जाने वाली तकनीक स्क्रैपिंग और रीसाइक्लिंग के अर्थशास्त्र को तय करने में गेम चेंजर होगी। कच्चे माल की निकासी या उपकरणों को खत्म करने के लिए स्क्रैपिंग यूनिट में उपकरण स्थापित किए जा सकते हैं।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.