General Atlantic-Jio Deal
General Atlantic-Jio Deal|Syed Dabeer Hussain - RE
व्यापार

RIL की Jio प्लेटफ्रॉम द्वारा हुई चार हफ्तों में ये चौथी बड़ी डील

बीते दिनों फेसबुक, सिल्वर लेक और अमेरिकी प्राइवेट इक्विटी फर्म विस्ता के बाद अब रिलायंस के Jio प्लेटफ्रॉम की नई डील की खबर सामने आई है। इस डील के तहत कंपनी की जनरल अटलांटिक के साथ डील हुई है।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। देश में कोरोना वायरस की चपेट में आने से कई कंपनियों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। वहीं, मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली कंपनी रिलायंस इंडस्ट्री अपने Jio प्लेटफ्रॉम के द्वारा कोरोना संकट के बीच भी लगातार एक के बाद एक बड़ी डील साइन करती जा रही है। कंपनी ने बीते दिनों फेसबुक और सिल्वर लेक और अमेरिकी प्राइवेट इक्विटी फर्म विस्ता इक्विटी के डील साइन की थी। वहीं, अब रिलायंस के Jio प्लेटफ्रॉम की नई डील की खबर सामने आई है। इस डील के तहत कंपनी की जनरल अटलांटिक के साथ डील हुई है।

जनरल अटलांटिक और Jio प्लेटफ्रॉम की डील :

दरअसल, इस लॉकडाउन के दौरान ही मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस के Jio प्लेटफॉर्म्स ने जनरल अटलांटिक के साथ एक नई डील साइन की है। जिसके तहत जनरल अटलांटिक ने Jio प्लेटफॉर्म्स में 6,598.38 करोड़ रुपये का निवेश किया है। बता दें यह कंपनी की चार हफ्तों में हुई चौथी बड़ी डील है। इसके अलावा जनरल अटलांटिक का द्वारा किया गया निवेश पूरे एशिया का सबसे बड़ा निवेश है। बता दें, यह निवेश RIL की 1.34% हिस्सेदारी के बराबर है। वहीं, इस निवेश में जियो प्लेटफॉर्म्स की इक्विटी वैल्यू 4.91 लाख करोड़ रुपये और एंटरप्राइज वैल्यू 5.16 लाख करोड़ के बराबर है।

रिलायंस के चेयरमैन का कहना :

इस डील को लेकर रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी का कहना है कि, "मैं जनरल अटलांटिक का स्वागत करता हूँ। मैं इस कंपनी को कई दशकों से जानता हूं। जनरल अटलांटिक ने भारत के लिए एक डिजिटल सोसाइटी के अपने नज़रिए को पेश किया है और 1.3 अरब भारतीयों के जीवन को समृद्ध बनाने में डिजिटलीकरण की परिवर्तनकारी शक्ति में विश्वास किया।"

नियामक की मंज़ूरी का इंतज़ार :

खबरों के अनुसार, दोनों कंपनियों की यह डील अपने अंतिम चरण में है। परंतु अभी इस निवेश के लिए दोनों कंपनियों को नियामक की मंज़ूरी का इंतज़ार है। बताते चलें, यह निवेश रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड (RIL) में हुए अब तक के सभी निवेशों में चौथा बड़ा प्राइवेट निवेश है। वहीं, इससे पहले अन्य 3 प्राइवेट कंपनियों में फ़ेसबुक, सिल्वर लेक और विस्टा इक्विटी जैसी कंपनियां Jio प्लेटफॉर्म्स में बड़ा निवेश कर चुकी हैं। सूत्रों का कहना है कि, अन्य कई कंपनियां भी जियो प्लेटफॉर्म में निवेश कर सकती हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co