Generic medicine of Corona delivered to five states
Generic medicine of Corona delivered to five states|Social Media
व्यापार

खुशखबरी: पांच राज्‍यों में पहुंचाई गई कोरोना की जेनेरिक दवा

कोरोना जैसे गंभीर हालातों के बीच एक राहत पहुंचाने वाली खबर सामने आई है कि, कोरोना वायरस की जेनेरिक दवा पांच राज्‍यों को पंहुचा दी गई है। जिसे हैदराबाद स्थित कंपनी हेटरो (Hetero) ने तैयार किया है।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। आज एक तरफ देश कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों से परेशान है। क्योंकि, देवश में कोरोना का आंकड़ा 4 लाख को छू गया है। वहीं, इन गंभीर हालातों के बीच एक राहत पहुंचाने वाली खबर सामने आई है कि, कोरोना वायरस की जेनेरिक दवा पांच राज्‍यों को पंहुचा दी गई है। जिसे हैदराबाद स्थित कंपनी हेटरो (Hetero) ने तैयार किया है।

राज्यों में पहुंचाई गई :

दरअसल, हैदराबाद की एक हेटरो कंपनी ने रेमडेसिवीर का जेनेरिक वर्जन कोविफोर के नाम से एक दवाई तैयार की है। जिसे कंपनी द्वारा 20,000 वायल की पहली खेप दिल्‍ली, महाराष्‍ट्र, गुजरात और तमिलनाडु जैसे राज्‍यों में पंहुचा दी है। बताते चलें, यह वह राज्य है जो कोरोना की चपेट में बहुत ही बड़े स्तर पर आए हैं। इस दवाई का सबसे पहले इस्तेमाल हैदराबाद में किया जाएगा जहां की ये कंपनी है। खबरों के अनुसार जल्द ही इस दवाई की अगली खेप भोपाल, इंदौर, कोलकाता, पटना, लखनऊ, रांची, भुवनेश्‍वर, कोच्चि, विजयवाड़ा, गोवा और त्रिवेंद्रम जैसे राज्यों में भी भेजी जाएगी।

दवाई की कीमत :

बता दें, हेटरो के अनुसार, कोविफोर नाम की इस दवाई का 100 मिलीग्राम का वायल 5,400 रुपये का मिलेगा। कंपनी के मुताबिक कंपनी इस दवाई के एक लाख वायल अगले तीन-चार हफ्तों में तैयार कर लेगी। बताते चलें, यह एक इंजेक्शन है जिसे हैदराबाद की कंपनी ने अपनी फॉर्म्‍युलेशन फैसिलिटी में तैयार किया गया है। इसके अलावा इस दवाई का एक्टिव फार्मास्‍यूटिकल इन्‍ग्रीडिएंट विशाखापट्नम की यूनिट में तैयार किया जा रहा है। कंपनी ने यह दवाई अस्पतालों में पहुंचाई है और वर्तमान में यह दवाई सिर्फ अस्‍पतालों और सरकार द्वारा ही मिल रही है। इसे मेडिकल स्‍टोर्स से नहीं ख़रीदा जा सकता है।

तैयार हो रहा एक और वर्जन :

प्राप्त जानकारी के अनुसार, दवा निर्माता कंपनी सिप्‍ला द्वारा रेमडेसिवीर बनाने वाली अमेरिकन कंपनी Gilead Sciences Inc के साथ लाइसेंसिंग एग्रीमेंट साइन किया है। जिससे अब सिप्‍ला भी इस दवाई को बना कर बेच सकेगी। कंपनी ने बताया कि, वह इस दवाई को तैयार करके 5,000 रुपये से कम में उपलब्‍ध कराएगी। भारत में ऐलोपैथिक दवाओं के रेगुलेटर, ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने सिप्‍ला और हेटरो, दोनों को कोरोना मरीजों पर रिस्‍ट्रक्‍टेड इमर्जेंसी यूज के लिए दवा तैयार करने और बेचने की अनुमति दे दी है। हाल ही में DGCI को भी एंटी वायरल दवा फेविपिराविर का जेनेरिक वर्जन बनाने के लिए ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स को भी अनुमति दे चुका है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co