Google CEO sundar pichai tweet over decision to stop H1-B visa
Google CEO sundar pichai tweet over decision to stop H1-B visa|Kavita Singh Rathore -RE
व्यापार

H1-B वीजा पर रोक के फैसले पर Google के CEO ने जताई निराशा

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्‍प ने रोजगार आधारित H1-B वीजा पर रोक लगा दी है। इससे भारत समेत दुनिया के IT प्रोफेशनल को झटका लगा है। वहीं, अब इस पर Google के CEO सुंदर पिचाई ने प्रतिक्रिया दी है।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। वैसे तो पूरी दुनिया ही कोरोना जैसे महासंकट का सामना कर रही है। लेकिन अमेरिका जैसा महाशक्ति कहलाने वाला देश कोरोना वायरस के प्रकोप बहुत बड़े स्तर पर प्रभावित हुआ है। वहां मरने वालों का आंकड़ा भी लाखों में पहुंच गया है। अमेरिका के इन हालातों का जिम्मेदार चाइना को मानते हुए अमेरिकी राष्‍ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्‍प ने रोजगार आधारित H1-B वीजा पर रोक लगा दी है। इससे भारत समेत दुनिया के आईटी प्रोफेशनल को बड़ा झटका लगा है। वहीं, अब इस पर Google के CEO सुंदर पिचाई ने प्रतिक्रिया दी है।

Google के CEO की प्रतिक्रिया :

दरअसल, अमेरिका द्वारा रोजगार आधारित H1-B वीजा पर लगाई गई रोक से अमेरिका की मानी-जानी इंटरनेट कंपनी Google के CEO सुंदर पिचाई जो कि, भारतीय मूल के हैं। उन्होंने निराशा जताते हुए अपने ट्वीटर अकाउंट पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने लिखा है कि,

"प्रवासियों ने अमेरिका की आर्थिक सफलता में बहुत योगदान दिया है। जिससे अमेरिका टेक इंडस्ट्री में ग्लोबल लीडर बन गया है और इनकी वजह से ही Google कंपनी आज जो है, वो है। आज के फैसले से निराशा हुई - हम सभी प्रवासियों के साथ खड़े-खड़े रहेंगे और सभी के लिए अवसर का विस्तार करने के लिए काम करेंगे।"
सुंदर पिचाई, Google के CEO

वीजा पर रोक :

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के किये गए इस ऐलान से अमेरिका में नौकरी करने की इच्छा रखने वाले हजारों लोगों की उम्मीदों पर पानी फिर गया है। उन्हें H1-B वीजा के निलंबित होने पर बड़ा झटका लगा है। बताते चलें, ट्रम्प सरकार द्वारा भी इस साल के अंत तक निम्नलिखित वीज़ा पर प्रतिबंध लगा दिया हैं। इतना ही नहीं ट्रम्प सरकार ने ग्रीन कार्ड जारी करने पर भी रोक लगा दी है।

  • टेक प्रोफेशनल्स और उनके परिवार के लिए जारी किए जाने वाले H1-B और H-4 वीज़ा, H-2B

  • वर्क एंड स्टडी के लिए जारी होने वाले J वीज़ा

  • इंटरनल ट्रांसफर के लिए जारी होने वाले L वीज़ा

पाबंदियों का असर :

बताते चलें, इन वीजा पर लगने वाली इन पाबंदियों का सीधा बुरा असर 5 लाख से भी अधिक लोगों की नौकरियों पर पड़ेगा। जो कि IT सेक्टर्स से ताल्कुक रखती है। क्योंकि, अमेरिका में IT सेक्टर्स की कंपनियों की सबसे ज्यादा मांग है। अमेरिका में कोरोना के चलते अब तक 30 लाख से ज्यादा लोगों की नौकरियां गई हैं।

H1-B वीजा क्‍या ?

H1-B वीजा एक गैर-आव्रजन वीजा है, जो अमेरिकी कंपनियों को विदेशी कर्मचारियों की नियुक्ति करने की और विशेषकर प्रौद्योगिकी विशेषज्ञता वाले कामों में सुविधा देता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co