Raj Express
www.rajexpress.co
Google pay 3.3 £Bn to iphone Users
Google pay 3.3 £Bn to iphone Users|Kavita Singh Rathore -RE
व्यापार

क्या Google करेगा एप्पल के iPhone यूजर्स को भुगतान?

Google को करना पड़ सकता है, यूनाइटेड किंगडम (UK) में iPhone इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को मुआवजे के रूप में 3.3 £ बिलियन की रकम का भुगतान। क्यों करना होगा भुगतान। यह जानने के लिए पढ़ें, पूरी खबर।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। Google को अवैध ट्रैकिंग के लिए Apple कंपनी के हर एक iPhone यूजर्स को मुआवजे के रूप में 3.3 £ बिलियन की रकम का भुगतान करना पड़ (Google pay 3.3 £Bn to iphone Users) सकता है। इसका मुख्य कारण यह है कि, यूके में iPhone इस्तेमाल करने वाले 4 मिलियन से अधिक यूजर्स के व्यक्तिगत डेटा की अवैध ट्रैकिंग को लेकर कानूनी कार्रवाई आगे बढ़ सकती है जो, Google के खिलाफ होगी।

जजों का फैसला :

कोर्ट की अपील पर जजों ने फैसला सुनाया है कि, गूगल ने बड़े स्तर पर iPhone यूजर्स के डेटा को गैरकानूनी तरीके से थर्ड-पार्टी कुकीज के इस्तेमाल से ट्रैक किया था और गूगल कोर्ट में यह ऐतिहासिक केस हार गया। कोर्ट में अपील करने वाले दावेदारों ने क़ानूनी कार्यवाही के साथ ‘Google You Owe Us’ नाम के एक उपभोक्ता अभियान की भी शुरुआत की है।

दावेदारों का आरोप :

इन दावेदारों का आरोप है कि, Google ने सफारी वेब ब्राउज़र से व्यक्तिगत डेटा जारी करने में उपकरणों को प्रभावी ढंग से धोखा देकर iPhone की गोपनीयता का उल्लंघन किया है और Google ने यह काम "डू नॉट ट्रैक सेटिंग्स" को तोड़ कर यूजर्स का डाटा का इस्तेमाल किया। अदालत के सबमिशन में उन्होंने कहा कि, Google ने जो डेटा एकत्र किया, उसमें दौड़, शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, राजनीतिक झुकाव, सेक्सुअलिटी, सामाजिक वर्ग, फाइनेंसियल, खरीदारी की आदतें और यूजर्स की लोकेशन से जुड़ी जानकारी शामिल थी। जानकारी के लिए बता दें कि, सफ़ारी Apple iPhones के लिए बनाया गया एक वेब ब्राउज़र है, और iOS पर चलने के लिए डिज़ाइन किए गए iOS ऑपरेटिंग सिस्टम का एक अंग है।

ऐसे ही मामले जताई सहमति :

Google को यूके में iPhone यूजर्स को मुआवजे के रूप में 3.3 £ बिलियन की रकम का भुगतान करना पड़ सकता है। 2012 में Google ने अमेरिका में ऐसे ही एक मामले नुकसान होने के कारण 22.5 $ मिलियन (£ 18.3m) का भुगतान करने पर सहमति जताई थी, यह मामला स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के छात्र द्वारा विज्ञापन का अध्ययन करने के बाद डेटा ट्रैकिंग पर ध्यान देने का था।

गूगल के प्रवक्ता ने यूके में एक बयान जारी कर अपनी बात रखते हुए कहा -

“हमारे उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता और सुरक्षा की रक्षा करना हमेशा हमारी पहली प्राथमिकता रही है। यह मामला लगभग एक दशक पहले हुई घटनाओं से संबंधित है और जिसे हमने उस समय संबोधित किया था। हमें भरोसा ​​है कि, इसमें कोई योग्यता नहीं है और इसे खारिज कर दिया जाना चाहिए।"

गूगल प्रवक्ता