सरकार और उड़ानों की अनुमति देने पर कर रही विचार : पुरी
सरकार और उड़ानों की अनुमति देने पर कर रही विचार : पुरीSocial Media

सरकार और उड़ानों की अनुमति देने पर कर रही विचार : पुरी

कोविड-19 महामारी के बीच हवाई यात्रियों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर सरकार घरेलू मार्गों पर और उड़ानों की अनुमति देने पर विचार कर रही है।

राज एक्सप्रेस। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को यहाँ एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि "विमान सेवा कंपनियों को घरेलू मार्गों पर कोविड-19 से पहले की तुलना में 80 प्रतिशत तक उड़ानों के परिचालन की अनुमति दी गई है। हवाई यात्रियों की संख्या जिस प्रकार रोजाना बढ़ रही है उसे देखते हुये 80 प्रतिशत से अधिक उड़ानों की अनुमति देने पर विचार किया जा रहा है।"

उन्होंने बताया कि यात्री उड़ानों पर दो महीने तक पूर्ण प्रतिबंध के बाद 25 मई को जब उड़ानें दोबारा शुरू की गई थीं उस दिन 30,550 यात्रियों ने सफर किया था। यह संख्या 28 दिसंबर को बढ़कर 2,46,838 पर पहुँच गई है। सरकार ने 25 मई को 33 प्रतिशत उड़ानों के संचालन की अनुमति दी थी। इसे बढ़ाकर 26 जून से 50 प्रतिशत, 02 सितंबर से 60 प्रतिशत और 11 नवंबर से 80 प्रतिशत कर दिया गया।

घरेलु यात्रियों की संख्या 28 दिसंबर को बढ़कर 2,46,838 पर पहुँच गई है
घरेलु यात्रियों की संख्या 28 दिसंबर को बढ़कर 2,46,838 पर पहुँच गई हैSocial Media

श्री पुरी ने कहा "हमने कोविड-काल में कई सबक सीखे हैं। हम इन सबके बीच पहले से कहीं अधिक मजबूत होकर उभरे हैं। हवाई अड्डों पर (प्रवेश से बोर्डिंग तक) पूरी प्रक्रिया संपर्क रहित हो गई है। यात्रा के नये प्रोटोकॉल सामने आये हैं। किराये की न्यूनतम और अधिकतम सीमा तय करने से सभी को फायदा हुआ है।"

हरदीप सिंह पूरी प्रेस कांफ्रेंस
हरदीप सिंह पूरी प्रेस कांफ्रेंसSocial Media

एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि उड़ान की अवधि के आधार पर किराये की न्यूनतम और अधिकतम सीमा तय करने से यात्रियों और विमान सेवा कंपनियों दोनों को लाभ हुआ है। यह व्यवस्था फिलहाल फरवरी तक बढ़ाई गई है और इसे आगे जारी रखने या समाप्त करने के बारे में फैसला बाद में किया जायेगा।

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co