केंद्र सरकार कर रही IFCI की दो सहायक कंपनियां बेचने की तैयारी
Government will sell two subsidiaries of IFCISocial Media

केंद्र सरकार कर रही IFCI की दो सहायक कंपनियां बेचने की तैयारी

केंद्र सरकार ने जल्द ही इंडस्ट्रियल फाइनेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (IFCI) की दो सहायक कंपनियां स्टॉक होल्डिंग्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया और IFCI इंफ्रा डेवलपमेंट को बेचने का फैसला किया है।

राज एक्सप्रेस। केंद्र सरकार ने जल्द ही इंडस्ट्रियल फाइनेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (IFCI) की दो सहायक कंपनियां स्टॉक होल्डिंग्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया और IFCI इंफ्रा डेवलपमेंट को बेचने का फैसला किया है। इस बारे में जानकारी सरकार ने स्वयं दी है।

सरकार बेचेगी IFCI की दो सहायक कंपनियां :

दरअसल, केंद्र सरकार इंडस्ट्रियल फाइनेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (IFCI) की दो सहायक कंपनियां स्टॉक होल्डिंग्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया और IFCI इंफ्रा डेवलपमेंट को बेचने की तैयारी कर रही है। खबरों की मानें तो, इन कंपनियों को बेचने के बाद हासिल होने वाली रकम का इस्तेमाल सरकार सरकारी NBFC कंपनी के लिए करेगी। बता दें, सरकारी कंपनी को चालू वित्त वर्ष के सितंबर में 43.30 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा था। जबकि पिछले साल की समान तिमाही में सरकारी कंपनी को 32.32 करोड़ रुपए का लाभ हुआ था।

IFCI का घाटा :

रेगुलेटरी फाइलिंग के अनुसार, जून तिमाही में कंपनी को 301.32 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। सामने आये आंकड़ों के अनुसार, जुलाई-सितंबर की अवधि में कंपनी की इनकम 859.10 करोड़ रुपए रही, जो पिछले साल की समान तिमाही में 709.51 करोड़ रुपए थी।

IFCI का NPA :

सरकारी कंपनी IFCI का चालू वित्त वर्ष के मार्च महीने में नॉन-परफॉर्मिंग असेट्स (NPA) टू एडवांस रेशियो बढ़कर 42.7% तक पंहुचा, जो पिछले साल की समान अवधि में 31.8% रहा था।

कंपनी की शुरुआत से लेकर अब तक :

गौरतलब है कि, इंडस्ट्रियल फाइनेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (IFCI) कंपनी की शुरुआत साल 1948 में एक कॉर्पोरेशन के रुप में हुई थी। इसके बाद साल 1993 से इसे इंडियन कंपनी एक्ट, 1956 के तहत कॉर्पोरेशन से कंपनी बना दिया गया। वहीं, साल 1999 के अक्टूबर से कंपनी का नाम IFCI लिमिटेड कर दिया गया। कुछ सालों के बाद कंपनी में साल 2015 में सरकार ने हिस्सेदारी हासिल कर अपनी हिस्सेदारी बढ़ाकर इसे पब्लिक सेक्टर की कंपनी में तब्दील कर दिया। तब से अब वर्तमान में कंपनी के पास 7 सब्सिडियरी और एक एसोसिएट मौजूद है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co