Syringe Crisis: WHO ने चेताया कोरोना वैक्सीनेशन से हो सकती है 200 करोड़ सिरिंज की कमी
WHO ने चेताया कोरोना वैक्सीनेशन से हो सकती है सिरिंज की कमीसांकेतिक चित्र

Syringe Crisis: WHO ने चेताया कोरोना वैक्सीनेशन से हो सकती है 200 करोड़ सिरिंज की कमी

अगले साल तक तकरीबन 200 करोड़ इंजेक्शन सिरिंज की कमी का सामना दुनिया के देशों को करना पड़ सकता है। इस कमी का कारण कोरोना महामारी के निदान के लिए दुनिया भर में किया जा रहा कोरोना टीकाकरण बताया गया है।

हाइलाइट्स

  • Syringe Crisis: WHO की चेतावनी

  • कोरोना वैक्सीनेशन से सिरिंज की कमी

  • 200 करोड़ सिरिंज पड़ सकती हैं कम : WHO

राज एक्सप्रेस। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन यानी विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट में सिरिंज की कमी की बात कही गई है। रिपोर्ट के मुताबिक अगले साल तक तकरीबन 200 करोड़ इंजेक्शन सिरिंज की कमी का सामना दुनिया के देशों को करना पड़ सकता है। इस कमी का कारण कोरोना महामारी के निदान के लिए दुनिया भर में किया जा रहा कोरोना टीकाकरण बताया गया है।

रिपोर्ट्स के अनुसार कोरोना प्रभावित देशों को मिलाकर तमाम कंट्रीज में सिंगल, डबल और बूस्टर डोज को मिलाकर लगभग 725 करोड़ से अधिक कोरोना वैक्सीन का टीकाकरण किया जा चुका है। प्रतिवर्ष लगने वाले कुल इंजेक्शन की तुलना में यह संख्या दोगुना अधिक है। दरअसल कोरोना टीकाकरण में एक सिरिंज एक बार उपयोग की जाती है इसलिए सिरिंज की समस्या पैदा होने की आशंका जताई जा रही है।

अगले साल तक वैक्सीनेशन के लिए सिरिंज की कमी हो सकती है, जो कि चिंता की बात है क्योंकि इससे टीकाकरण की गति मंद पड़ सकती है।
लिसा हेडमैन, सीनियर एडवाइजर, डिविजन ऑफ एक्सेस टु मेडिसिन एंड हेल्थ प्रोडक्ट्स, WHO

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट में सिरिंज उत्पादन में तेजी लाने की सलाह दी गई है। सिरिंज (syringe) की कमी के कारण जमाखोरी के अलावा विश्व स्तर पर चिंताजनक स्थिति निर्मित होने की आशंका रिपोर्ट में जताई गई है। जरूरत के वक्त सिरिंज की कमी (Syringe crisis) न हो इसलिए सिरिंज की खपत और आपूर्ति संतुलन पर ध्यान रखने का सुझाव भी डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में दिया गया है।

हेडमैन का मानना है कि चिकित्सा से जुड़ीं आवश्यक चीजों की कमी की आशंका परेशानी का सबब हैं। सिरिंज की कमी सौ से दो सौ करोड़ के आसपास हो सकती है। यह समस्या पैदा न हो इसलिए समय रहते कारगर कदम उठाना जरूरी है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co