वित्त वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही में ICICI बैंक के मुनाफे में हुई वृद्धि
वित्त वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही में ICICI बैंक के मुनाफे में हुई वृद्धिSyed Dabeer Hussain - RE

वित्त वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही में ICICI बैंक के मुनाफे में हुई वृद्धि

भारत के प्राइवेट सेक्टर के ICICI बैंक ने शनिवार को वित्त वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही के आंकड़े जारी किये हैं। जिसके अनुसार बैंक को मुनाफा हुआ है।

राज एक्सप्रेस। देश में कोरोना के मामलों को बढ़ता देखते हुए लागू किए गए लॉकडाउन के चलते लगभग सभी कार्यालय बंद रहे। जिससे लगभग सभी सेक्टरों को नुकसान उठाना पड़ा। हालांकि, इस दौरान सभी बैंकों में रेग्युलर कार्य हो रहा था। इस दौरान भारत की प्राइवेट सेक्टर के ICICI बैंक का मुनाफा भी काफी बढ़ा है। वहीं, शनिवार को ICICI बैंक ने वित्त वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही के आंकड़े जारी किये हैं। जिसके अनुसार बैंक को मुनाफा हुआ है।

ICICI बैंक का मुनाफा :

दरअसल, लॉकडाउन का बैंकिंग सेक्टर पर भी काफी बुरा असर पड़ा है। RBI के अनुसार, इस दौरान बैड लोन में भी काफी बढ़त दर्ज हुई है। परंतु इसके बाबजूद भी ICICI बैंक को वित्त वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही में काफी मुनाफा हुआ। जी हां, आज ICICI बैंक ने अंतिम तिमाही के आंकड़े जारी किए हैं। जिसके अनुसार, ICICI बैंक को वित्त वर्ष 2021 की अंतिम तिमाही में 4,403 करोड़ रुपए का नेट प्रॉफिट हुआ है, जो कि पिछले साल के इसी क्वॉर्टर से 261% ज्यादा है।

ICICI बैंक का ऐलान :

ICICI बैंक ने मुनाफे के आंकड़े के साथ ही बड़ा ऐलान करते हुए दो रुपए प्रति शेयर का डिविडेंड देने की भी घोषणा की है। जबकि, 2019 में बैंक ने एक रुपया और 2018 में 1.5 रुपए प्रति शेयर का डिविडेंड दिया था। इसके अलावा यदि ICICI बैंक के पिछले मुनाफे पर नजर डालें तो, पिछले साल के मार्च क्वॉर्टर में बैंक को 1,221.40 करोड़ रुपए का नेट प्रॉफिट हुआ था। जबकि, एनालिस्टों के अनुमान के अनुसार, बैंक को इस साल के पिछले क्वॉर्टर में लगभग 5,000 करोड़ रुपए का नेट प्रॉफिट होना था।

ICICI बैंक की नेट इंटरेस्ट इनकम :

ICICI बैंक को इस दौरान 10,431 करोड़ रुपए की नेट इंटरेस्ट इनकम (NII) हुई है जो, पिछले साल के मार्च क्वॉर्टर से 17% ज्यादा है। इसके अलावा पिछले साल के मार्च क्वॉर्टर में बैंक की नेट इंटरेस्ट इनकम 8,927 करोड़ रुपए थी। जबकि, बाजार के जानकारों के अनुमान के मुताबिक इस साल बैंक की नेट इंटरेस्ट इनकम 10,300 करोड़ रुपए होनी थी। जानकारी के लिए बता दें, बैंक बॉरोअर्स से वसूल किए जाने वाले कुल ब्याज के मुकाबले जितना कम ब्याज डिपॉजिटर्स को देता है, वह उसका 'नेट इंटरेस्ट इनकम' (NII) कहलाता है।

वित्त वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही में ICICI बैंक के कुछ अन्य आंकड़े :

  • बैंक का नेट इंटरेस्ट मार्जिन (NIM) 3.84% रहा जो दिसंबर क्वॉर्टर में 3.67% था, जो साल भर पहले के मार्च क्वॉर्टर में 3.87% रहा था।

  • बैंक का ग्रॉस नॉन परफॉर्मिंग एसेट (NPA) 4.96% रहा जो दिसंबर क्वॉर्टर में 5.42% था।

  • बैंक ने मार्च क्वॉर्टर के लिए 2,883 करोड़ रुपए का नेट प्रोविजन किया है। इसमें 1,000 करोड़ रुपए का प्रोविजन उसने कोविड के चलते होने वाले बैड लोन के लिए किया है।

बैंक के मैनेजमेंट का कहना :

बैंक के मैनेजमेंट ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'कोविड की दूसरी लहर के चलते कारोबार थोड़ा सुस्त है लेकिन बैंक ने बैलेंसशीट को मजबूत बनाया है। लोन पोर्टफोलियो इंडस्ट्री में बेस्ट लेवल का है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co