वायुसेना को बल देने भारत ने तैयार की लड़ाकू विमान खरीदने की योजना
India plans to buy new fighter aircraftANI Digital Twitter

वायुसेना को बल देने भारत ने तैयार की लड़ाकू विमान खरीदने की योजना

भारत-चाइना के बीच हालात बिगड़ते नजर आ रहे हैं। वहीं, अब भारत ने जंग की तैयारी शुरू कर दी है। क्योंकि भारत ने अपनी भारतीय वायुसेना की शक्ति बढ़ाने के लिए 33 नए लड़ाकू विमान खरीदने की योजना तैयार की है।

राज एक्सप्रेस। जहां, भारत और चाइना के बीच लगातार हालात बिगड़ते नजर आ रहे हैं। हाल ही में हुई झड़प में भारत के कई जवान शहीद हो गए, लेकिन अब लग रहा है भारत ने जंग लड़ने की तैयारी शुरू कर दी है। क्योंकि भारत ने अपनी भारतीय वायुसेना की शक्ति बढ़ाने के लिए 33 नए लड़ाकू विमान खरीदने की योजना तैयार की है।

भारत की योजना :

दरअसल, भारत के लद्दाख से लगी हुई चाइना की सीमा पर चल रहे हालातों को देखते हुए भारत अब कमर कसता हुआ नजर आ रहा है। क्योंकि, भारत सरकार ने इस बढ़ते तनाव की स्थिति के बीच ही वायुसेना की शक्ति को और अधिक बल देने के लिए 12 नए सुखोई 30 और 21 मिग-29 विमान खरीदने को लेकर भारत के मित्र देश रूस के सामने प्रस्ताव पेश किया है। यदि यह प्रस्ताव स्वीकार होता है तो यह सभी विमान भारत रूस से खरीद लेगा। यह प्रस्ताव भारत सरकार को सौंप दिया गया है। फिलहाल इस पर चर्चा होना बाकि है जो, जल्द ही की जाएगी।

सेना ने रखा प्रस्ताव :

बताते चलें, पूर्वी लद्दाख और चीन के बीच लगातार बढ़ रहे तनावों को देखते हुए भारतीय वायु सेना द्वारा सरकार के सामने एक प्रस्ताव पेश किया गया। जिसमें रूस द्वारा 21 नए मिग -29 और 12 Su-30MKI सहित 33 नए लड़ाकू विमानों को खरीदने को लेकर मांग की गई है। हालांकि, इस प्रस्ताव पर काफी समय से सेना की बातचीत चल रही थी, लेकिन अब सेना द्वारा यह प्रस्ताव भारत सरकार के सामने रखा गया है।

जल्द रखे जाने वाले प्रस्ताव :

खबरों के अनुसार, वायु सेना आने वाले समय में लगभग 6,000 करोड़ रुपये से अधिक की लागत वाले कुछ प्रस्तावों को अंतिम मंजूरी लेने के लिए भारत के रक्षा मंत्रालय के सामने रखेगी। खबरों की माने तो, इन प्रस्तावों में 12 SU-30 MKIs को खरीदने को लेकर बात की गई होगी। यदि यह प्रस्ताव भी पास हो जाता है तो, हाल ही हुई दुर्घटनाओं में वायु सेना के हुए विमानों के नुकसान की भरपाई हो जाएगी। बताते चलें, इससे पहले भी भारत द्वारा अलग-अलग बैचों में कई बार 10 से 15 साल के दौरान 272 सुखोई -30 फाइटर जेट्स के ऑर्डर दिए गए थे। जान लें, वायु सेना द्वारा किए गए एक अध्ययन में यह बात सामने आई थी कि, मिग -29 की एयरफ्रेम लंबे समय तक काम करने के लिए पर्याप्त होते हैं और वे लगभग नई स्थिति में पाए गए हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co