आयात में गिरावट के बाद भी हथियार का सबसे बड़ा आयातक 'भारत'
आयात में गिरावट के बाद भी हथियार का सबसे बड़ा आयातक 'भारत'Social Media

आयात में गिरावट के बाद भी हथियार का सबसे बड़ा आयातक 'भारत', तीसरा सबसे बड़ा आयातक है 'यूक्रेन'

आज भारत सबसे बड़े 'हथियार आयातकों' (Arms Importer) में शामिल हो चुका है। इस मामले में स्वीडिश थिंक टैंक स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (SIPRI) ने एक रिपोर्ट जारी की है।

World's Largest Arms Importer : आज भारत का नाम दुनियाभर में बड़े बड़े कामों के लिए जाना जाता है। बड़े-बड़े इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स से लेकर बड़े हथियार तक भारत में बनने लगे हैं। आज भारत सबसे बड़े 'हथियार आयातकों' (Arms Importer) में शामिल हो चुका है। इस मामले में स्वीडिश थिंक टैंक स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (SIPRI) ने एक रिपोर्ट जारी की है।

भारत दुनिया का सबसे बड़ा हथियार आयातक :

दरअसल, स्वीडिश थिंक टैंक स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (SIPRI) ने एक रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोट के अनुसार, भारत 2018-22 के बीच पांच साल की अवधि के लिए दुनिया का सबसे बड़ा हथियार आयातक बना रहा, हालांकि 2013-17 और 2018-22 के बीच इसके हथियारों के आयात में 11% की गिरावट दर्ज हुई है। जबकि, रूस की बात करें तो, रूस 2013-17 और 2018-22 दोनों में भारत को हथियारों का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता बना रहा, लेकिन कुल भारतीय हथियारों के आयात में इसकी हिस्सेदारी 64% की गिरावट दर्ज करते हुए 45% पर आ गई, जबकि फ्रांस 2018-22 के बीच दूसरे सबसे बड़े आपूर्तिकर्ता के रूप में उभर कर आया है।

दक्षिण कोरिया के लिए दूसरा सबसे बड़ा निर्यात :

SIPRI द्वारा जारी ताज़ा आंकड़ो के मुताबिक, साल 2018-22 की अवधि के लिए शीर्ष 10 हथियार निर्यातकों में से, भारत तीन देशों यानी रूस, फ्रांस और इज़राइल के लिए सबसे बड़ा हथियार निर्यात बाजार था जबकि, दक्षिण कोरिया के लिए दूसरा सबसे बड़ा निर्यात बाजार था। दक्षिण अफ्रीका के लिए भी भारत तीसरा सबसे बड़ा बाजार था जो हथियारों के निर्यातकों की सूची में 21वें स्थान पर था। बता दें, 2018-22 तक की अवधि के लिए, सऊदी अरब के बाद भारत सबसे बड़ा हथियार आयातक बना रहा। रूस का 45% हिस्सा भारत के आयात के बाद फ्रांस (29%) और अमेरिका (11%) का है। इसी समय, रूस और चीन के आयात के 14% के बाद म्यांमार को भारत तीसरा सबसे बड़ा हथियार आपूर्तिकर्ता था।

SIPRI के सीनियर रिसर्चर का कहना :

SIPRI के सीनियर रिसर्चर पीटर वेजमान ने कहा, "हमले ने यूरोप में हथियारों की मांग में तेजी ला दी और इसके दूसरे नतीजे भी हुए हैं। ज्यादा आसार यही हैं कि यूरोपीय देश हथियारों का और ज्यादा आयात करेंगे।"

तीसरा सबसे बड़ा आयातक है 'यूक्रेन' :

SIPRI की रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि, 'यूक्रेन, जिसने 1991 से 2021 के अंत के बीच मुट्ठी भर हथियारों का आयात किया था, युद्ध के कारण दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हथियार आयातक बन गया, जो फरवरी 2022 में शुरू हुआ था। 1991 से 2021 के अंत तक, यूक्रेन ने कुछ प्रमुख हथियारों का आयात किया। फरवरी 2022 में यूक्रेन पर रूसी आक्रमण के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका और कई यूरोपीय राज्यों से सैन्य सहायता के परिणामस्वरूप, यूक्रेन 2022 के दौरान प्रमुख हथियारों का तीसरा सबसे बड़ा आयातक बन गया और 2018-22 के लिए 14वां सबसे बड़ा आयातक बन गया। यूक्रेन ने पांच साल की अवधि में वैश्विक हथियारों के आयात का 2.0 प्रतिशत हिस्सा लिया।'

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co