वंदे भारत का निर्यात करेगा भारत, चिली समेत कई देशों ने जताई ट्रेन को आयात करने की इच्छा : वैष्णव

रेल मंत्री वैष्णव ने ग्लोबल बिजनेस समिट में कहा कि भारत वंदे भारत ट्रेनों के निर्यात की योजना पर काम कर रहा है। कई देशों ने ट्रेन के आयात में दिलचस्पी दिखाई है।
Vande Bharat train
Vande Bharat trainRaj Express

हाईलाइट्स

  • फिलहाल बंदे भारत ट्रेन की गति बढ़ाने पर काम कर रहा भारतीय रेलवे

  • चिली के अलावा कई अन्य देशों ने भी जताई वंदेभारत खरीदने की इच्छा

  • ग्लोबल बिजनेस समिट में वैष्णव ने बताया देश में चल रही हैं 82 ट्रेनें

राज एक्सप्रेस। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने ग्लोबल बिजनेस समिट में कहा कि भारत वंदे भारत ट्रेनों के निर्यात की योजना पर काम कर रहा है। उन्होंने बताया कि चिली समेत कई देशों ने वंदे भारत ट्रेन के आयात में दिलचस्पी दिखाई है। उन्होंने बताया कि चिली के अलावा कई अन्य देशों ने भी वंदेभारत ट्रेन खरीदने में अपनी दिलचस्पी प्रदर्शित की है। रेल मंत्रालय स्वदेशी डिजाइन और दक्षता के साथ सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की इकाइयों के अलावा ट्रेन के लिए अपनी कार्यशालाओं में कई घटकों के निर्माण के लिए पर्याप्त क्षमता विकसित करने के प्रयासों में जुट गया है।

अगले सालों में शुरू कर देंगे वंदेभारत का निर्यात

वैष्णव ने कहा कि हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि अपने देश में पूरी तरह अपने इंजीनियरों की बदौलत वंदे भारत ट्रेन को किस तरह विकसित किया जाए। लेकिन इस चुनौती को हमारे इंजीनियरों ने बहुत बेहतर तरीके से लिया। अश्विनी वैष्णव ने कहा कि अब मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि आने वाले सालों में हम इस ट्रेन का निर्यात शुरू कर देंगे। नई दिल्ली-मुंबई और नई दिल्ली-हावड़ा मार्गों पर ट्रेनों की गति को 160 किलोमीटर प्रति घंटा तक बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

यात्री सुविधाओं के साथ-साथ गति बढ़ाने पर जोर

इसी के साथ, अब देश में वंदे भारत ट्रेनों की संख्या 82 हो चुकी है। वैष्णव जी ने यह भी जानकारी दी कि 31 जनवरी 2024 तक इन 82 वंदे भारत ट्रेनों का संचालन आरंभ कर दिया गया है, जो विभिन्न राज्यों को ब्रॉड गेज (बीजी) विद्युतीकृत नेटवर्क के माध्यम से आपस में जोड़ती हैं। उन्होंने यह भी कहा कि ट्रेन की गति बढ़ाने और स्टेशनों की संख्या में विस्तार करने पर कार्य किया जा रहा है। इसके साथ ही रेलवे ट्रेन की गति और सेवाओं को और अधिक बेहतर बनाने के लिए प्रयत्नशील है, जिससे रेल यात्रियों को देश में उत्तम सुविधाएं मिल सकें।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

और खबरें

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co