भारतीय सेना ने तैयार की सुरक्षित मैसेजिंग ऐप 'SAI'

भारतीय सेना द्वारा भी एक नई मैसेंजिंग ऐप तैयार की गई है। इस ऐप को भारतीय सेना ने 'सिक्योर एप्लीकेशन फॉर द इंटरनेट' (SAI) नाम दिया है। इस ऐप की जानकारी रक्षा मंत्रालय ने घोषित कर दी थी।
भारतीय सेना ने तैयार की सुरक्षित मैसेजिंग ऐप 'SAI'
Indian Army launches SAI secure messaging appKavita Singh Rathore - RE

राज एक्सप्रेस। दुनियभर में कई मैसेंजिंग ऐप मौजूद है, लेकिन आज भारत हर क्षेत्र में आत्मनिर्भर बन रहा है। इस बात को ध्यान में रखते हुए भारतीय सेना द्वारा भी एक नई मैसेंजिंग ऐप तैयार की गई है। इस ऐप को भारतीय सेना ने 'सिक्योर एप्लीकेशन फॉर द इंटरनेट' (SAI) नाम दिया है। इस ऐप की लांचिंग की जानकारी गुरुवार को रक्षा मंत्रालय ने घोषणा कर दी थी।

भारतीय सेना ने तैयार की सुरक्षित मैसेजिंग ऐप :

दरअसल, भारतीय सेना ने भारत सरकार की आत्मनिर्भर भारत मुहिम को ध्यान में रखते हुए पूर्ण रूप से सुरक्षित 'सिक्योर एप्लीकेशन फॉर द इंटरनेट (SAI)' नामक मैसेजिंग एप्लिकेशन को डेवलप कर लांच किया है। फ़िलहाल यह ऐप एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स के लिए लांच की गई है। इस ऐप के द्वारा सेना के जवान किसी से भी एंड-टू-एंड सिक्योर टेक्स्ट, वॉयस और वीडियो कॉलिंग में बात कर सकेंगे।

कुछ समय बाद कर सकेंगे डाऊनलोड :

बताते चलें, भारतीय सेना द्वारा भले ही ये ऐप लांच कर दी गई हो, लेकिन फिलहाल इसे डाऊनलोड नहीं किया जा सकेगा। क्योंकि, अभी यह एप्लिकेशन गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद नहीं है। यह एप्लिकेशन बिल्कुल WhatsApp, Telegram जैसी अन्य ऐप की तरह ही कार्य करेगी। यह ऐप एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन मैसेजिंग प्रोटोकॉल का उपयोग करता है।

रक्षा मंत्रालय ने बताया :

रक्षा मंत्रालय ने बताया कि, 'साई लोकल-इन-हाउस सर्वर और कोडिंग के साथ सुरक्षा सुविधाओं पर काम करता है, जिसे उपयोगिता के अनुसार बदला जा सकता है।' बता दें, यह SAI ऐप केवल आर्मी के जवानों के इस्तेमाल के लिए ही तैयार की गई है। इस सर्विस से सैनिक भी सुरक्षित मैसेजिंग का लाभ ले सकेंगे।

किसने तैयार की ऐप :

मन्त्रालय ऐप ने कर्नल साई शंकर की सराहना करते हुए बताया कि, यह ऐप्लिकेशन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम आफ इंडिया (CERT-In) के ऑडिटर और सेना साइबर ग्रुप ने डेपलप की है। फ़िलहाल इस ऐप पर कार्य जारी है और नेशनल इंफोर्मेटिक्स सेंटर (NIS) पर प्लेटफॉर्म को होस्ट करने और iOS प्लेटफॉर्म पर काम करने के लिए इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स (IPR) फाइल करने की प्रोसेस पर कार्य चल रहा है। रक्षा मंत्री ने इस नई ऐप की कार्यक्षमता की समीक्षा की।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co