दिसंबर 2022 में काफी घटा भारत का आयात-निर्यात
दिसंबर 2022 में काफी घटा भारत का आयात-निर्यातSocial Media

दिसंबर 2022 में काफी घटा भारत का आयात-निर्यात, व्यापार घाटे में दर्ज हुई बढ़त

भारत का निर्यात (Exports) वैश्विक चुनौतियां दिसंबर, 2022 में काफी घटा है। इस बात का अंदाजा सामने आये ताजा आंकड़ों से लगाया जा सकता है। आंकड़ों के मुताबिक, निर्यात का आंकड़ा 12.2% तक गिरावट दर्ज हुई है।

राज एक्सप्रेस। भारत में कई ऐसे प्रॉडक्ट निर्मित किए जाते हैं जो अन्य देशों में नहीं मिलते और कई विदेशों में ऐसे प्रॉडक्ट होते हैं जो यहां नहीं मिलते हैं। ऐसे में भारत के अन्य देशों के साथ अच्छे रिश्ते होने के चलते कई देशों से प्रॉडक्ट का निर्यात और आयात करता है। इसी बीच भारत का निर्यात (Exports) वैश्विक चुनौतियों दिसंबर, 2022 में काफी घटा है। इस बात का अंदाजा सामने आये ताजा आंकड़ों से लगाया जा सकता है। आंकड़ों के मुताबिक, निर्यात का आंकड़ा 12.2% तक गिरावट दर्ज हुई है।

भारत का निर्यात घटा :

दरअसल, किसी भी देश का निर्यात घटना उस देश के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। ऐसे में भारत का निर्यात दिसंबर, 2022 में 12.2% घटा है और घटकर 34.48 अरब डॉलर रह गया। इस दौरान आयात में कमी दर्ज होने के बाद भी देश का व्यापार घाटा 12.8% बढ़कर 23.76 अरब डॉलर पर पहुंच गया। सामने आए आधिकारिक ताज़ा आंकड़ों के अनुसार, पिछले साल दिसंबर 2022 में देश का आयात 3.5% घटकर 58.24 अरब डॉलर रह गया था। जबकि, दिसंबर, 2021 में देश का आयात 60.33 अरब डॉलर रहा था। आधिकारिक आंकड़ो के अनुसार, दिसंबर, 2021 में देश से 39.27 अरब डॉलर की वस्तुएं और सेवाएं निर्यात की गई थी। उस दौरान 21.06 अरब डॉलर का व्यापार घटा हुआ था।

अन्य वस्तुओं का निर्यात :

जारी किए गए ताज़ा आंकड़ो के अनुसार, दिसंबर में इंजीनियरिंग वस्तुओं का निर्यात लगभग 12% घटा है और यह घटकर 9.08 अरब डॉलर रह गया। वहीं, रत्न एवं आभूषणों का निर्यात 15.2% घटकर 2.54 अरब डॉलर रह गया। इसके अलावा, जिन वस्तुओं के निर्यात में गिरावट दर्ज हुई है। उनमें कॉफी, काजू, चमड़े का सामान, दवा, कालीन, हथकरघा जैसे प्रोडक्ट शामिल हैं।

व्यापार घाटा बढ़ने की उम्मीद :

व्यापार घाटा फिलहाल घटा है, लेकिन चालू वित्त वर्ष में नौ महीनों यानी अप्रैल-दिसंबर के दौरान कुल निर्यात 9% बढ़कर 332.76 अरब डॉलर रहा था। इसी दौरान आयात भी 24.96% बढ़कर 551.7 अरब डॉलर पर पहुंच गया था। इससे व्यापार घाटा चालू वित्त वर्ष के पहले नौ महीनों में 60.45% बढ़कर 218.94 अरब डॉलर रहने की उम्मीद लगाई जा रही है। जबकि पिछले साल की समान अवधि में व्यापार घाटा 136.45 अरब डॉलर रहा था। इस मामले में वाणिज्य सचिव सुनील बर्थवाल ने कहा, 'दुनियाभर में वित्तीय चुनौतियों के बावजूद देश का निर्यात बेहतर बना हुआ है। वैश्विक स्तर पर मंदी के रुख से हमें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।'

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co