RBI
RBIRaj Express

सितंबर तिमाही में औसतन 6 फीसदी से अधिक रह सकती है खुदरा महंगाई की दर : आरबीआई

आरबीआई के मासिक बुलेटिन में प्रकाशित एक आलेख में अनुमान लगाया गया है कि खुदरा महंगाई दर मौजूदा तिमाही में भी औसतन छह प्रतिशत से अधिक रह सकती है।

हाईलाइट्स

  • बुलेटिन में प्रकाशित आलेख में कहा गया है कि सप्लाई के मोर्च पर उतार-चढ़ाव का दौर अभी खत्म नहीं हुआ

  • सब्जियों की कीमतों में बढ़ोतरी अगस्त की पहली पखवाड़े तक बढ़ गई है। इसके चलते महंगाई औसतन 6 प्रतिशत से ऊपर रहने की उम्मीद

राज एक्सप्रेस । भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के मासिक बुलेटिन में प्रकाशित एक आलेख में अनुमान लगाया गया है कि खुदरा महंगाई दर मौजूदा तिमाही में भी औसतन छह प्रतिशत से अधिक रह सकती है। 17 अगस्त को प्रकाशित इस लेख को लिखने वालों में भारतीय रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर माइकल पात्रा भी शामिल हैं। आरबीआई के मासिक बुलेटिन में प्रकाशित आलेख में कहा गया है कि सप्लाई के मोर्च पर उतार-चढ़ाव का दौर अभी खत्म नहीं हुआ है।

महंगाई औसतन 6 प्रतिशत से ऊपर रहने की उम्मीद

सब्जियों की कीमतों में बढ़ोतरी अगस्त की पहली पखवाड़े तक बढ़ गई है। इसके चलते महंगाई औसतन 6 प्रतिशत से ऊपर रहने की उम्मीद है। हालांकि यहां यह बताना जरूरी है कि मासिक बुलेटिन में लिखे लेख आरबीआई के नजरिए का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं। यह लेख ऐसे समय में आया है, जब 14 अगस्त को जारी आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई माह में खुदरा महंगाई दर 15 महीनों के उच्चतम स्तर 7.44 फीसदी पर पहुंच गई है। यह अर्थशास्त्रियों की ओर से जारी 6.6 फीसदी के अनुमान से भी काफी अधिक है।

जुलाई-सितंबर में 6.2 प्रतिशत से अधिक हो सकती है महंगाई

इस बीच, भारतीय रिजर्व बने 10 अगस्त को खुद वित्त वर्ष 2024 के लिए अपने महंगाई अनुमान को 0.30 फीसदी बढ़ाकर 5.4 प्रतिशत कर दिया था। वहीं सितंबर तिमाही में उसने महंगाई दर के अनुमान को 1 फीसदी बढ़ाकर 6.2 फीसदी कर दिया था। हालांकि, आलेख में व्यक्त निष्कर्षों से ऐसा लगता है कि महंगाई जुलाई-सितंबर में औसतन 6.2 प्रतिशत से भी अधिक हो सकती है, जैसा कि कई अर्थशास्त्री सोचते हैं। इससे पहले मई में खुदरा महंगाई दर 4.31 फीसदी थी, जो जून में बढ़कर 4.87 फीसदी हो गई थी।

टमाटर ने किया अन्य सब्जियों में महंगाई का नेतृत्व

आरबीआई के आलेख के मुताबिक, जुलाई में टमाटर की कीमतों में उछाल से बाकी सब्जियों के दाम भी बढ़ गए, जिससे महंगाई दर और बढ़ गई। आरबीआई बुलेटिन ने यह भी चेतावनी दी कि अल नीनो इफेक्ट साल की दूसरी छमाही और रबी सीजन में फूड इंफ्लेशन के नतीजे पर दिखता रहेगा। रिजर्व बैंक की मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) ने पिछले सप्ताह अपनी बैठक में लगातार तीसरी बार रेपो रेट को 6.5 प्रतिशत पर बरकरार रखा था, लेकिन महंगाई के अनुमान को 5.4 प्रतिशत से बढ़ाकर 5.1 प्रतिशत कर दिया था। उसने वित्त वर्ष 2024 की दूसरी तिमाही में 6.2 प्रतिशत महंगाई का अनुमान लगाया था।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co