Raj Express
www.rajexpress.co
Infosys CEO Salil Parekh and CFO Nilanjan Roy get clean chit
Infosys CEO Salil Parekh and CFO Nilanjan Roy get clean chit|Social Media
व्यापार

Infosys के CEO सलिल पारेख और CFO निलंजन रॉय को मिली राहत

IT कंपनी Infosys के CEO सलिल पारेख और CFO निलंजन रॉय को मिली बड़ी ही राहत की खबर। यहां पढ़े, क्या था पूरा मामला और किस प्रकार मिली दोनों को राहत।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • Infosys के CEO और CFO को मिली राहत

  • सलिल पारेख और निलंजन रॉय को मिली क्‍लीन चिट

  • Infosys ने किया अंतरिम डिविडेंड का एलान

  • Infosys को हुआ साल 2019 में मुनाफा

राज एक्सप्रेस। साल 2019 में IT क्षेत्र की देश की दूसरी सबसे बड़ी दिग्गज कंपनी Infosys (इन्फोसिस) को हो रहे लगातार मुनाफे के चलते अमेरिका में कंपनी पर आरोप लगने लगे थे कि, कंपनी अपना मुनाफा बढ़ाने के लिए गलत तरीका अपना रही है। इन लगे आरोपों से कंपनी के CEO सलिल पारेख और CFO निलंजन रॉय को बड़ा झटका लगा था क्योंकि, इन आरोपों की सीधी सुई सलिल पारेख और निलंजन रॉय पर ही थी। हालांकि, अब इस मामले में सुई सलिल पारेख और निलंजन रॉय दोनों को ही इस गड़बड़ी करने के आरोप से मुक्ति मिल गई है। दरअसल Infosys के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की ऑडिट कमेटी ने इनपर लगे इन आरोपों को खारिज करते हुए उन्हें क्‍लीन चिट दे दी है।

क्या था मामला :

दरअसल, साल 2019 के अक्‍टूबर माह में व्हीसलब्लोअर के एक ग्रुप ने Infosys के CEO सलिल पारेख पर कंपनी की आय और मुनाफा बढ़ाने के लिए गलत तरीकों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया था। शिकायत के अनुसार कंपनी मुनाफा बैलेंशसीट में भी गड़बड़ी करती है। इस मामले में कंपनी के सीईओ सलिल पारेख और सीएफओ निलंजन रॉय का नाम काफी बदनाम किया गया। इसकी शिकायत एथिकल इम्प्लॉइज नाम के एक ग्रुप ने यूएस (USE) सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन ऑफ इन्फोसिस के बोर्ड अर्थात ऑडिट कमेटी से की गई थी। जिसके बाद ऑडिट कमेटी ने जांच पड़ताल करने के बाद ही दोनों अधिकारियों को क्‍लीन चिट दे दी।

चेयरमैन ने बताया :

Infosys के वर्तामान चेयरमैन नंदन नीलेकणि ने बताया कि, "सलिल पारेख और निलंजन रॉय दोनों ही कंपनी के एक मजबूत संरक्षक हैं। कंपनी को आगे बढ़ने और इतनी ऊपर तक पहुंचाने में दोनों ने ही अपना बहुत योगदान दिया है। जिस समय इन पर ये आरोप लगे थे उस समय कंपनी के एडीआर (ADR) में करीब 16% की गिरावट दर्ज की गई थी।"

Infosys का मुनफा :

Infosys कंपनी ने हाल ही में तिमाही में हुए मुनाफे के आंकड़ें जारी किये। जिसके अनुसार, साल 2019 में अक्टूबर से दिसंबर तक की समय अवधि में कपंनी के मुनाफे में 10.9% की बढ़ोतरी दर्ज की गई, कंपनी का मुनाफा बढ़ कर 4,466 करोड़ रुपये हो गया। जो साल 2018 की दिसंबर तिमाही की तुलना में लगभग 23 फीसदी अधिक है। कंपनी को दिसंबर 2018 की तिमाही में 3,610 करोड़ रूपये का फायदा हुआ था।

Infosys की कमाई :

Infosys कंपनी को इस साल तीसरी तिमाही में हुई कमाई में 7.9% की बढ़त दर्ज की गई, जिससे कंपनी की कमाई 23,092 करोड़ रुपये तक पहुंच गई।

Infosys की आय :

कंपनी की डॉलर में होने वाली आय में 1% की बढ़ोतरी दर्ज की गई, जिससे आय 324.3 करोड़ डॉलर तक पहुंच गई। जो​​ पिछली साल की तिमाही में 321 करोड़ डॉलर थी।

Infosys का एबिट :

तीसरी तिमाही के दौरान कंपनी के एबिट में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई। जो पहले 4,912 करोड़ रुपये था, अब वही एबिट 5,064 करोड़ रुपये तक पहुंच गया। इसके अलावा एबिट मार्जिन पिछली तिमाही से 21.7 फीसदी रहा था जो इस साल बढ़कर 21.9 फीसदी रहा।

टेक्निकल कारोबार से होने वाली आय :

तीसरी तिमाही के दौरान Infosys को टेक्निकल कारोबार से होने वाली आय में 6.8% दर्ज की गई। जिससे यह बढ़कर 131.8 करोड़ डॉलर तक पहुच गई। जबकि कंपनी की Constant Currency ग्रोथ तिमाही के आधार पर 1% ही रही। जो कि सालाना आधार पर ये 9.5 फीसदी रही है।

कंपनी ने दी अन्य जानकारी :

कंपनी अन्य जानकारी देते हुए बताया कि, इस तिमाही में उसने 1.8 अरब डॉलर तक की कई डील भी साइन की है। वहीं इस तिमाही में कंपनी से नए 84 ग्राहक भी जुड़े हैं। जबकि, पिछली तिमाही में कंपनी ने नए 96 ग्राहक जोड़े थे। कंपनी ने शेयर होल्डरों के लिए 8 रुपये प्रति शेयर के अंतरिम डिविडेंड का ऐलान किया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।