इजरायल सरकार ने लिया हवाई यात्राओं से जुड़ा अहम फैसला
इजरायल सरकार ने लिया हवाई यात्राओं से जुड़ा अहम फैसलाSyed Dabeer Hussain - RE

इजरायल सरकार ने लिया हवाई यात्राओं से जुड़ा अहम फैसला

अब इजरायल में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को मद्देनजर रखते हुए रोकथाम करने के मकसद से सरकार ने इंटरनेशनल उड़ानों से जुड़ा बड़ा फैसला किया है।

इजरायल। दुनियाभर के देशों में कोरोना के चलते लगभग सभी नेशनल और इंटरनेशनल एयरलाइंस सेवाएं रोक दी गईं थीं। हालांकि, जरूरतों के हिसाब से कई एयरलाइंस की सेवाएं शुरू भी की गई थीं। इसी कड़ी में भारत सरकार ने भी सभी तरह की एयरलाइंस सेवाओं को दोबारा शुरू करने का ऐलान कर दिया था। लेकिन कुछ ही समय बाद फिर से सिर्फ कुछ इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर बैन लगा दिया था। वहीं, अब इजरायल में भी कोरोना के बढ़ते प्रकोप को मद्देनजर रखते हुए रोकथाम करने के मकसद से कई उड़ानों पर बैन लगा दिया है।

इजरायल में इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स किए गए बंद :

अभी भी कुछ देशों में कोरोना का प्रकोप जंगल में लगी आग के समान ही बढ़ रहा है। इन्हीं देशों में इजराइल भी है। इसलिए वहां, कोरोना के बढ़ते मामलों को नियंत्रित करने के मकसद से इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स बंद करने का फैसला लिया गया है। इस मामले में फैसला इजरायल कैबिनेट की बैठक के बाद लिया गया। इस बारे में जानकारी इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने दी। उन्होंने बताया है कि,

इजरायल अपने अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को लगभग सभी उड़ानों के लिए बंद कर देगा। आने वाले और बाहर जाने वाले हवाई यात्रियों पर रोक होगी।
जामिन नेतन्याहू, इजराइल के प्रधानमंत्री

कब तक लागू रहेगा बैन :

बताते चलें, इजरायल कैबिनेट ने कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को देश में रोकने के लिए इस तरह का फैसला किया है। इस फैसले के तहत आने वाली और बाहर जाने वाली सभी इंटरनेशनल यात्री उड़ानों को बैन करने की मंजूरी दे दी गई है। बता दें, प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से रविवार को एक बयान जारी किया गया। उसके अनुसार, यह प्रतिबंध सोमवार और मंगलवार की मध्यरात्रि के बीच प्रभावी होगा और 31 जनवरी तक लागू रहेगा। हालांकि, कार्गो उड़ान, चिकित्सा आपात स्थिति और अग्निशमन सेवा उड़ानों सहित कुछ अपवादों में ही लैंडिंग की अनुमति दी जाएगी। चिकित्सा आपात स्थिति, कानूनी प्रक्रियाओं और किसी के अंतिम संस्कार में भाग लेने के अलावा, बाकी सभी उड़ाने बैन रहेंगी।

प्रधान मंत्री का कहना :

प्रधान मंत्री जामिन नेतन्याहू ने बैठक के बाद कहा कि, 'इस्राइल के बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान के 'तेज प्रगति को सुनिश्चित करने' के लिए भी इस कदम की आवश्यकता थी।' वहीं, स्वास्थ्य मंत्री यूली एडेलस्टीन ने कहा कि, 'मंत्रालय नए वेरिएंट के आगमन के बारे में चिंतित है। नए वेरिएंट में से एक पहले से ही इजरायल में है और उसके द्वारा संक्रमण संख्या को भारी तौर पर बढ़ाया गया है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co